Unnao Rape Case: सीबीआई की पूछताछ में ट्रक मालिक ने कहा, विधायक से मेरा कोई लेना देना नहीं

डीएन ब्यूरो

उन्‍नाव गैंगरेप केस की पीड़िता के साथ हुए रायबरेली में हादसे के मामले में CBI ने जांच तेज कर दी है। ट्रक मालिक को आज सीबीआई ने पूछताछ के लिए भी तलब किया था। इसके अलावा CBI की दो टीमों ने फतेहपुर में ट्रक मालिक देवेंद्र पाल व उसके भाई प्रसपा नेता नंदू पाल के घर छापेमारी कर तलाशी ली। डाइनामाइट न्‍यूज़ पर पढ़ें पूरी खबर..


लखनऊ: उन्‍नाव गैंगरेप केस की पीड़िता के साथ रायबरेली में हुए हादसे के मामले में आज ट्रक मालिक को CBI ने तलब किया था। जिसके लिए ट्रक मालिक देवेंद्र पाल सीबीआई पहुंचा था। पूछताछ के बाद उसने खुद को पूरी तरह बेकसूर बताया। 

यह भी पढ़ें: ‘डाइनामाइट न्यूज़ यूपीएससी कॉन्क्लेव 2019’: आईएएस परीक्षा से जुड़ा सबसे बड़ा महाकुंभ

उन्नाव दुष्कर्म पीड़िता की कार दुर्घटना के मामले में सीबीआई ने रविवार को एक बार फिर ट्रक मालिक को लखनऊ बुलाया। इस दौरान ट्रक मालिक से लंबी पूछताछ की गई। उसे रविवार को सुबह साढ़े नौ बजे तक सीबीआई दफ्तर पहुंचना को कहा गया है।

मेरा विधायक से कोई वास्‍ता नहीं

आज की पूछताछ के संबंध में उसने बताया कि शनिवार दोपहर CBI ऑफिस से फोन आया था कि रविवार को सुबह 9.30 तक CBI ऑफिस पहुंचना है। उसने कहा कि वह पूरी तरह बेकसूर है। मेरा विधायक कुलदीप सिंह सेंगर या उनके किसी परिचित से कोई वास्‍ता नहीं है। 

यह भी  पढ़ें: आईपीएस एन. कोलांची हुए सस्पेंड, दरोगाओं की तैनाती में की धनउगाही

साथ ही उसने बताया कि वह पीड़िता के परिवार को भी नहीं जानता है। न ही कभी मिला है। यह मुझे जबरदस्‍ती फंसाने की साजिश है। मैं सीबीआई की जांच में पूरा सहयोग करने के लिए तैयार हूं। 

यह भी पढ़ें: भाजपा युवा मोर्चा के जिला मंत्री पर जानलेवा हमला, फायरिंग, अपराधियों के हौसले बुलंद

वहीं उसने नंबर प्‍लेट पर कालिख पुती होने के बारे में बताया कि ट्रक पर सीजर की कार्रवाई से बचने के लिए ट्रक नंबर पर ग्रीस लगवाई थी। हादसे के बाद ड्राइवर और क्‍लीनर ने बताया था कि कार की रफ्तार बहुत तेज थी जिसके कारण हादसा हुआ।

ट्रक ड्राइवर दुघर्टना मामले में है मुख्‍य आरोपी 

फतेहपुर के पाल नगर निवासी देवेंद्र किशोर पाल उन्‍नाव दुष्कर्म पीड़िता की कार दुर्घटना के मामले का आरोपी हैं।

यह भी पढ़ें: Big Breaking: आतंकी हमले की आशंका के चलते श्री अमरनाथ जाने वाले श्रद्धालुओं को घाटी छोड़ने के आदेश

तीनों के अलग-अलग बयान होंगे दर्ज

मालिक, ड्राइवर और क्‍लीनर तीनों के अलग-अलग बयान भी दर्ज किए जाएंगे। जिसके बाद तीनों को आमने सामने बिठाकर भी पूछताछ की जा सकती है। 

सीतापुर जेल में सीबीआई ने की विधायक से पूछताछ

इसके अलावा विधायक कुलदीप सेंगर से सीतापुर जेल में तकरीबन तीन घंटे तक CBI की पूछताछ चली। CBI उन पर लगातार शिकंजा कसती जा रही है। 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)










आपकी राय

Loading Poll …