बड़ी खबर: आईजी जय नारायण सिंह को गुंडों ने दी जोरदार सलामी, फरेन्दा में बैंक से दिनदहाड़े 13 लाख की लूट

डीएन ब्यूरो

सीएम योगी आदित्यनाथ के गोरखपुर आवास से महज 44 किमी दूर फरेन्दा कस्बे में दिन दहाड़े HDFC बैंक से हथियारों की नोक पर 13 लाख रुपये की लूट से इलाके में सनसनी मच गयी है। चंद दिन पहले इस फरेन्दा तहसील स्थित लेहड़ा मंदिर का सीएम ने दौरा किया था। परसों ही गोरखपुर के आईजी जय नारायण सिंह को महराजगंज जिले का नोडल अधिकारी बनाया गया है और कल सीएम ने इनको लखनऊ में एक बैठक में कानून-व्यवस्था ठीक रखने की हिदायत दी थी लेकिन आज लूट की इस वारदात ने पुलिसिया इकबाल पर गहरा सवालिया निशान लगा दिया है। डाइनामाइट न्यूज़ एक्सक्लूसिव..


फरेन्दा (महराजगंज): कस्बे में घड़ी ने जैसे ही साढ़े बारह बजाये, चारो ओर सनसनी मच गयी। इसकी वजह थी चार हथियारबंद बदमाशों मे ताबड़तोड़ एचडीएफसी बैंक में धावा बोल बंदूक की नोक पर 13 लाख रुपये लूट लिये। 

यह भी पढ़ेंः चौथी वर्षगांठ पर नये लुक एंड फील में रिलांच हुई डाइनामाइट न्यूज़ की वेबसाइट, ‘युवा डाइनामाइट’ का भी शुभारंभ

डाइनामाइट न्यूज़ संवाददाता के मुताबिक बदमाशों ने 16 लाख लूटे थे लेकिन जल्दबाजी में तीन लाख रुपयों का बैग उनसे छूट गया इस तरह 13 लाख की लूट की खबर सामने आयी। 
घटना की जानकारी मिलते ही एड़ीजी जोन दावा शेरपा मौके पर पहुंचे। जब शेरपा निकल गये तो फिर आईजी गोरखपुर जय नारायण सिंह पीछे-पीछे पहुंचे। खास बात ये है कि जय नारायण को दो दिन पहले ही महराजगंज जिले का नोडल अधिकारी नियुक्त किया गया है और आज इतनी बड़ी वारदात दिन-दहाड़े हो जाती है।

यह भी पढ़ें: गोरखपुर के कमिश्नर जयंत नार्लिकर की कार्यप्रणाली पर उठे गंभीर सवाल

सादी वर्दी में लूट के बाद मौके पर पहुंचे आईजी जय नारायण सिंह

 

वारदात के 24 घंटे पहले ही मुख्यमंत्री ने अपने सरकारी आवास पर आईपीएस अफसरों की एक बैठक में आईजी को कानून-व्यवस्था ठीक रखने को कहा था और अब आज की वारदात ने आईजी से लेकर महराजगंज के एसपी रोहित सिंह सजवान की कार्यप्रणाली पर सवालिया निशान खड़ा कर दिया है। 

यह भी पढ़ेंः डाइनामाइट न्यूज़ यूपीएससी कॉन्क्लेव में दिखी महिला सशक्तिकरण की झलक, पहुंची तीन वर्षों की महिला टॉपर्स, राष्ट्रपति के सचिव रहे मुख्य अतिथि

सबसे हैरान करने वाली बात तो ये है कि मौके का मुआयना करने आईजी जय नारायण सिंह सादी वर्दी में पहुंचे। सीएम के गृह मंडल में पुलिसिंग को लेकर ये कितने गंभीर हैं, इसकी पोल ये तस्वीर खोल रही है। मौके पर साहब पूरे इत्मीनान में दोनों हाथ पीछे बांध मुआयना करते दिखे। 

यह भी पढ़ेंः 72 घंटे बाद भी भ्रष्टाचार में निलंबित आईएएस पर नहीं दर्ज हुआ मुकदमा, देखिये कैसे बहाना बना रहे हैं अफसर?  


यह भी पढ़ेंः महराजगंज के जिलाधिकारी अमरनाथ उपाध्याय को मिली पाप की सजा, हुए सस्पेंड

पुलिस के लिए सबसे बड़ी राहत की बात ये है कि सारी वारदात सीसीटीवी में कैद हो गयी है लेकिन उसके बाद भी पुलिस कब तक इन बदमाशों को गिरफ्तार कर पायेगी इस बारे में कोई सटीक जवाब देने को तैयार नहीं है।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार