महराजगंज: भ्रष्‍टाचार के आरोपी 9 पुलिसकर्मी किए जाएंगे जबरन रिटायर, पुलिस समेत सभी विभागों में खलबली

डीएन ब्यूरो

महराजगंज के भ्रष्‍टाचार करने वाले पुलिस कर्मचारियों में इस समय दहशत का माहौल है। दरअसल भ्रष्‍टाचार सफाई अभियान ने अब महराजगंज में भी दस्‍तक दे दी है। जिले के 9 पुलिस कर्मचारियों को जबरन रिटायर किया जाएगा। इन सभी के खिलाफ भ्रष्‍टाचार और कार्य में लापरवाही बरतने का आरोप है। डाइनामाइट न्‍यूज़ पर पढ़ें एक्‍सक्‍लूसिव खबर..


महराजगंज: भ्रष्‍टाचार और लापरवाही बरतने वाले अधिकारियों पर रिटायरमेंट का शिकंजा कसने वाला सफाई अभियान अब महराजगंज भी पहुंच गया है। जिले के 9 भ्रष्‍टाचार और लापरवाही के आरोपी पुलिस कर्मचारियों को जबरन रिटायर किया जा रहा है। 

यह भी पढ़ें: डांसर के हत्यारोप के मामले में पुलिस के हत्थे चढ़े आरोपी, भेजा जेल

डाइनामाइट न्यूज़ को मिली जानकारी के अनुसार पुलिस अधि‍क्षक रोहित सिंह सजवान की अध्यक्षता में स्क्रीनिंग कमेटी ने एक उपनिरीक्षक समेत आठ 8 पुलिस वालों की सूची तैयार की गई है। इन 9 लोगों को जबरन रिटायर करने के लिए डीआईजी से अनुमति मांगी गई है। अनुमति मिलते के बाद रिपोर्ट एडीजी के माध्यम से सरकार को भेज दी जाएगी। 

यह भी पढ़ें: महराजगंज के विवादित एसडीएम सदर सत्यम मिश्र पर चला सीएम का हंटर, हुई छुट्टी

भ्रष्‍टाचार की प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर

ज्ञात हो कि एडीजी स्थापना पीयूष आनंद ने 30 जून तक जबरन रिटायर करने वाले पुलिसकर्मियों की सूची तैयार करने को कहा था। 

यह भी पढ़ें: भ्रष्टाचार के खिलाफ सीएम योगी की बड़ी कार्यवाही, गोरखपुर मंडल के कई अफसरों की हुई छुट्टी

जबरन रिटायर करने वाले पुलिस कर्मचारियों में उपनिरीक्षक हरिशंकर सिंह, मुख्य आरक्षी कुंज बिहारी, आरक्षी मैनेजर सिंह, जगदीश प्रसाद, विशंभर प्रसाद, वेद प्रकाश पांडेय, श्रीनिवास, प्रेमशंकर राम, सुभाष प्रसाद हैं।

यह भी पढ़ें: एसपी रोहित सिंह सजवान खुद उतरे सड़क पर, वाहन चेकिंग का लिया जायजा

अपने अभी तक के कार्यकाल के दौरान इन पुलिस कर्मियों को सबसे ज्यादा दंड मिला है। वहीं सूत्रों की माने तो यह पुलिस कर्मचारी जबरन रिटायर करने के खिलाफ न्‍यायालय का रुख कर सकते हैं।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार