महराजगंज: करंट से 5 की मौत मामले में जांच कमेटी गठित, बड़ा सवाल क्‍या दोषियों को मिलेगी सजा

डीएन ब्यूरो

महराजगंज में धान रोपाई के लिए गई चार लड़कियों समेत पांच लोगों की मौत हो गई थी। सीएम योगी ने मृतक आश्रितों को आर्थिक मदद देने की घोषणा भी कर दी है लेकिन बड़ा सवाल यह है कि क्‍या जांच कमेटी दोषियों पर कार्रवाई करेगी और गरीब मजदूरों को न्‍याय मिलेगा। डाइनामाइट न्‍यूज़ पर पढ़ें पूरी खबर..

शवों को देख रोते बिलखते परिजन
शवों को देख रोते बिलखते परिजन

महराजंगंज: जिले के फरेंदा थाना क्षेत्र के सिवारी गांव के विश्रामपुर में धान रोपाई करने के लिए गई चार लड़कियों समेत पांच लोगों की कल शाम मौत हो गई थी। सरकार ने मृतक आश्रितों को 13 लाख रुपये की आर्थिक मदद देने की घोषणा की है। साथ ही मामले में एक जांच कमेटी बनाकर दोषियों पर कार्रवाई करने का आश्‍वासन दिया गया है।

यह भी पढ़ें: महराजगंज की सबसे दर्दनाक खबर: फरेन्दा इलाके में काम कर रहीं 5 महिलाओं की करंट लगने से मौत

अब बड़ा सवाल यह है कि प्रदेश सरकार ने मृतकों के परिवारी जनों को आर्थिक सहायता देकर मरहम लगाने की जो कोशिश की है क्‍या वह केवल उन गरीबों की जान की कीमत भर है या फिर जांच के लिए गठित कमेटी दोषियों को सजा दिलाएगी। जांच कमेटी में मुख्य अभियन्ता विद्युत, बस्ती और उप निदेशक विद्युत सुरक्षा, गोरखपुर को शामिल किया गया है।

यह भी पढ़ें: बाबाधाम में सड़क हादसे में मृत कावड़िये की पत्नी की हालत गंभीर, घर पर पसरा मातम

डाइनामाइट न्‍यूज़ रिपोर्टर ने मौके पर पहुंच कर गांव के लोगों से बातचीत की तो लोगों का कहना है कि जांच कमेटियां बनती है रिपोर्ट दफ्तरों के किसी कोने पर पड़ी रहती हैं और दोषी खूलेआम घूमते रहते हैं। सरकार को मामले में गंभीरता दिखाते हुए जल्‍द से जल्‍द दोषियों को पकड़ना चाहिए और उनकी लापरवाही से गई कई जान के लिए कड़ी सजा दी जानी चाहिए।

यह भी पढ़ें: दो पक्षों के विवाद में चली गोली से कांव‍ड़ि‍या घायल, हाईवे जाम कर किया हंगामा

आज उत्‍तर प्रदेश के मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने भी पांच लोगों की मृत्‍यु पर गहरा शोक प्रकट किया है। साथ ही महराजगंज के डीएम को घटना के पीड़ितों को हर संभव सहायता उपलब्‍ध कराने और घटना के संबंध में दोषियों पर कार्रवाई करने का निर्देश दिए हैं। 

यह भी पढ़ें: उन्नाव रेप पीड़िता का एक्सीडेंट- हादसा Vs सुनियोजित हमला

आर्थिक सहायता के रूप में दिए जाने वाले धनराशि में विद्युत दुर्घटना से क्षतिपूर्ति के तहत 5 लाख रुपए, किसान सर्वहित दुर्घटना बीमा योजना के तहत 5 लाख रुपए और मंडी अधिनियम के अंतर्गत सामूहिक जनता व्यक्तिगत दुर्घटना सहायता योजना के तहत 3 लाख रुपए दिए जाएंगे। 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार