कांग्रेस विधायक अदिति सिंह की कार पर हमले के मामले में चुनाव आयोग ने लिया संज्ञान, डीजीपी और जिला निर्वाचन अधिकारी से मांगी रिपोर्ट

डीएन ब्यूरो

बीते दिन रायबरेली के बछरांवा टोल प्‍लाजा के पास उनकी कार पर कुछ दबंगों ने हमलाा कर दिया था। इस दौरान कार पर पथराव हुआ जिससे उनकी कार पलट गई थी, जिसमें उन्‍हें मामूली चोटें आई थीं जबकि राकेश अवस्थी गंभीर घायल हो गए। आज चुनाव आयोग ने संज्ञान लेते हुए मामले की विस्‍तृत रिपोर्ट मांगी है। वहीं एक एमएलसी समेत 13 लोगों पर मुकदमा दर्ज किया गया है।

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा, कांग्रेस विधायक अदिति सिंह और कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी
कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा, कांग्रेस विधायक अदिति सिंह और कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी

लखनऊ: बीते दिन कांग्रेस विधायक पर हुए हमले पर सख्‍ती दिखाते हुए केंद्रीय चुनाव आयोग ने डीजीपी और जिला निर्वाचन अधिकारी से विस्‍तृत रिपोर्ट मांगी है। अविश्‍वास प्रस्‍ताव पर मतदान से पहले हुए हमले को चुनाव आयोग ने गंभीरता से लिया है। वहीं इस मामले में गंभीर घायल राकेश अवस्थी की रिपोर्ट पर एक एमएलसी, जिला पंचायत अध्‍यक्ष समेत 13 पर लोगों पर मुकदमा दर्ज किया गया है।

केंद्रीय चुनाव आयोग ने रायबरेली के बछरांवा में हुए भीषण हमले को लेकर चिंता जताई है। साथ ही आयोग ने डीजीपी और जिला निर्वाचान अधिकारी से मामले की रिपोर्ट मांगी है। 

कल बछरांवा टोल प्‍लाजा के पास कार पर हुए हमले के बाद विधायक अदिति सिंह

यह भी पढ़ें: कांग्रेस विधायक अदिति सिंह की गाड़ी पर रायबरेली के बछरांवा टोल प्लाजा के पास हमला, जिला पंचायत सदस्‍य राकेश अवस्‍थी गंभीर घायल

साथ ही राकेश अवस्‍थी ने हमले को लेकर हरचंदपुर थाने में एमएलसी दिनेश प्रताप सिंह, जिला पंचायत अध्यक्ष व उनके भाई गणेश सिंह समेत छह नामजद और छह-सात अज्ञात हमलावरों के खिलाफ केस दर्ज कराया है। दिनेश प्रताप सिंह रायबरेली से भाजपा लोकसभा प्रत्याशी हैं।

यह भी पढ़ें: चुनावी सरगर्मी के बीच 16-17 मई को जिले में कई राजनीतिक दिग्‍गज बढ़ाएंगे तपिश

अदिति सिंह को भी लगी थी  चोट

हमले में सदर से कांग्रेस विधायक अदिति सिंह पर फायरिंग और पथराव किया गया था। जिसमें उनकी कार पलट गई थी। उन्‍हें भी मामूली चोटें आई थीं। 

मंगलवार को अदिति सिंह के काफिले पर पथराव के बाद पलटी पड़ी गाड़ि‍यां  

गौरतलब है कि रायबरेली जिला पंचायत अध्यक्ष अवधेश सिंह के खिलाफ अविश्‍वास प्रस्ताव को लेकर मंगलवार को रायबरेली मैदान-ए-जंग बन गई। लखनऊ- इलाहाबाद राजमार्ग पर बछरांवा के पास टोल प्लाजा पर जिला पंचायत सदस्य (डीडीसी) राकेश अवस्थी को अगवा कर हॉकी, सरियों से पीट-पीटकर अधमरा कर दिया गया। जिससे उनके सिर और शरीर अन्य के हिस्सों में गंभीर चोटें आईं हैं। उन्‍हें अस्‍पताल में भर्ती कराया गया था इलाज जारी है।

11 जिला पंचायत सदस्य लापता

11 जिला पंचायत सदस्य अभी भी लापता बताए जा रहे हैं। मामले में एमएलसी समेत 13 पर मुकदमा दर्ज किया गया है। इस संबंध में लखनऊ परिक्षेत्र के आईजी एसके भगत ने बताया है कि जिला पंचायत सदस्‍यों ने आरोप लगाया है कि कुछ सदस्य गायब हैं। कार्रवाई की जा रही है। पूरे मामले की रिपोर्ट मांगी है। हालंकि अभी तक जिला पंचायत सदस्य का पता  नहीं चल सका है।

आज प्र‍ियंका गांधी पहुंची रायबरेली 

कांग्रेस राष्‍ट्रीय महासचिव प्रियंका रायबरेली पहुंची

कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा बुधवार को रायबरेली पहुंची है।  प्रियंका विमान से फुरसतगंज एयरपोर्ट पहुंची और यहां से वह सड़क मार्ग से रायबरेली आईं। उन्‍होंने पंचायत सदस्यों के साथ मंगलवार को हुई हिंसा पर तिलक भवन में बैठक की। इस दौरान उन्‍होंने जिला पंचायत सदस्‍यों से कहा यह मेरी लड़ाई है आप परेशान न हों। 

एमएलसी दिनेश सिंह के करीबी शिवा सिंह

भाजपा एमएलसी दिनेश सिंह के करीबी की हुई हत्‍या

विधायक अदिति सिंह पर हमले के बाद एमएलसी दिनेश सिंह के करीबी शिवा सिंह की हत्या कर दी गई है। हालांकि आईजी एसके भगत का कहना है कि शिवा की हत्‍या पुरानी रंजिश में हुई है। उसका इस घटना से कोई लेना देना नहीं है। बता दें कि दिनेश सिंह भाजपा के टिकट पर सोनिया गांधी के खिलाफ लोकसभा चुनाव लड़ रहे हैं।

क्‍या इसे राजनीतिक वर्चस्‍व की लड़ाई की शुरुआत माना जाए

दिनेश प्रताप सिंह के करीबी शिवा सिंह की हत्या के बाद रायबरेली में माहौल तनावपूर्ण है। लोग में ये डर सता रहा है की कहीं दोनों पक्षों के बीच कहीं गैंगवार न छिड़ जाए, क्यूंकि दोनों तरफ का इतिहास आपराधिक रहा है। वहीं दिनेश प्रताप सिंह के खिलाफ रायबरेली में सारे विरोधी एकजुट होकर उनके भाई अवधेश सिंह को जिला पंचायत अध्यक्ष की कुर्सी से बेदखल करने का कवायद तेज कर चुके हैं। रायबरेली की राजनीति के बेताज बादशाह रहे अखिलेश सिंह इन दिनों बीमार चल रहे हैं और उनकी राजनीतिक विरासत अदिति सिंह संभाल रही हैं।

यह भी पढ़ें: बस्‍ती से कांग्रेस प्रत्‍याशी राजकिशोर सिंह के वाहन से 24 लाख जब्‍त, दो आरोपी गिरफ्तार

उत्‍तर प्रदेश की राजनीति समझने वालों की माने तो यह लड़ाई यहीं शांत होने वाली नहीं है। यह अभी और आगे बढ़ेगी। इसकी एक वजह यह भी है कि प्रियंका के ऐलान के बाद कांग्रेस ने जिला पंचायत अध्यक्ष को हटाने के लिए पूरी ताकत झोंक दी है। इस टकराव के फिलहाल न रुकने की वजह यूपी में बीजेपी की सरकार है जबकि लड़ाई कांग्रेस के गढ़ में है।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)











आपकी राय

Loading Poll …