लखनऊ: जौहर यूनिवर्सिटी लाइब्रेरी में छापेमारी पर डीजीपी ओपी सिंह का बड़ा बयान आया सामने

डीएन ब्यूरो

आजम खान का ड्रीम प्रोजेक्‍ट जौहर यूनिवर्सिटी में कल हुई छापेमारी को लेकर उत्‍तर प्रदेश के डीजीपी ओपी सिंह ने बड़ा बयान सामने आया है। बीते दिन यूनिवर्सिटी की लाइब्रेरी में छापेमारी करके बहुत सी चोरी गई किताबें बरामद की गई थी। डाइनामाइट न्‍यूज़ पर पढ़ें पूरी खबर..


लखनऊ: यूपी सरकार द्वारा भूमाफिया की लिस्ट में शामिल किए गए एसपी नेता आजम खान पर अब अपनी यूनिवर्सिटी में चोरी की किताबें रखने के आरोप लगा है। आज इस संबंध में प्रदेश के डीजीपी ने जानकारी दी है। हालांकि आजम खान सभी आरोपों से इनकार कर रहे हैं। 

यह भी पढ़ें: MLA अब्दुल्ला आजम 24 घंटे में दूसरी बार गिरफ्तार, कई विधायकों को रामपुर के बाहर ही रोका गया

यूपी के DGP ओपी सिंह ने बताया कि बीते दिन जौहर यूनिवर्सिटी में पुलिस प्रशासन की मौजूदगी में छापेमारी के दौरान मदरसा आलिया से चोरी हुई किताबों को बरामद किया गया था। जिसकी प्रधानाचार्य ने जून 2019 में रिपोर्ट लिखवाई थी। रिपोर्ट में बताया गया था कि लाइब्रेरी से 9000 किताबें और अन्‍य सामान गायब हो गया था। जिसमें से तकरीबन 2500 किताबों को जौहर यूनिवर्सिटी की मुमताज लाइब्रेरी से बरामद किया गया है। 

यह भी पढ़ें: लखनऊ में सपाइयों का भारी हंगामा.. राजभवन में घुसने की कोशिश, पुलिस से झड़प, गिरफ्तार

वहीं बाद में छानबीन के दौरान 1000 किताबें और बरामद की गई हैं। साथ ही कई चोरी हुई मूर्तियां भी बरामद हुई है। जिनकी पहले चोरी आदि की रिपोर्ट दर्ज हुई थी। यह सारी कार्रवाई  एसडीएम और सीओ के निर्देशन में हुई। 

इसी दौरान समाजवादी पार्टी के नेता और सांसद आजम खान के बेटे व विधायक अब्‍दुल्‍ला आजम खान ने सरकारी कार्य में हस्‍तक्षेप करते हुए बाधा बनने की कोशिश की। जिस पर उन्‍हें हिरासत में लिया गया था और बाद में उन्‍हें उन्‍हें हिरासत में लिया गया था।

यह भी पढ़ें: आजम पर कसे शिकंजे से भड़की सपा के रामपुर में प्रदर्शन के एलान से प्रशासन के फूले हाथ पैर.. सीमाएं सील, भारी पुलिस बल तैनात

कानून व्‍यवस्‍था को बनाए रखने के लिए वहां धारा 144 लगाई गई है। किसी को शांति भंग नहीं करने दी जाएगी और यदि ऐसा करने का प्रयास किया गया तो आवश्‍यक कार्रवाई की जाएगी। 

यह भी पढ़ें: Azam Khan को हाईकोर्ट से बड़ी राहत, 10 अगस्‍त तक रुका ध्‍वस्‍तीकरण

वहीं आज भी कुछ नेता धारा 144 का उल्‍लंघन करके वहां पहुंचे थे जिन्‍हें हिरासत में लिया गया है। इसके अलावा मुरादाबाद, रामपुर, बरेली में कई राजनीतिक लोगों को भी कानून व्‍यवस्‍था बनाए रखने के लिए हिरासत में लिया गया है। किसी भी स्थिति से निपटने के लिए पुलिस को पूरी तरह अलर्ट पर रखा गया है। 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार