मेरी मृत्‍यु के बाद भारत से ही हो सकता है मेरा उत्‍तराधिकारी: दलाई लामा

डीएन ब्यूरो

तिब्बत के मामले में अमरीका ने धर्मगुरु दलाई लामा का समर्थन किया है।अमरीकी दूत सैम्युएल ब्राउन बैक ने चीन से कहा है कि वह अपने सहयोगियों के साथ बातचीत करें। दलाई लामा तिब्बत की स्वतंत्रता के लिए लड़ाई लड़ रहे हैं और फिलहाल भारत में रह रहे हैं।

दलाई लामा
दलाई लामा

धर्मशााला: तिब्बती बौद्ध धर्मगुरु दलाई लामा का कहना है कि उनका उत्तराधिकारी भारत से हो सकता है। वह अपनी आयु के 60 साल भारत में गुजारे हैं और भारत ही से उनका उत्तराधिकारी हो सकता है। 

गौरतलब है कि दलाई लामा पिछले 60 साल से भारत में निर्वासित जीवन बिता रहे हैं। यही नहीं उन्होंने यह भी कहा है कि उनका उत्तराधिकारी चीन नहीं होगा। उन्होंने चेतावनी भरे लहजे में कहा कि चीन द्वारा घोषित किए गए किसी भी उत्तराधिकारी को सम्मान नहीं मिलेगा।

सीमा पर तनाव के बीच करतापुर कॉरिडोर को लेकर वार्ता..शीघ्र चालू करने पर सहमति

उन्होंने कहा अगर आप भविष्य में दो दलाई लामा देखते हैं, जिसमें से एक आजाद मुल्क भारत से हो और दूसरा चीन से, तो साफ है कि चीन द्वारा घोषित दलाईलामा को नहीं स्‍वीकार किया जाएगा। 

चीन के खिलाफ विरोध प्रदर्शन करते तिब्‍बती लोग

हालांकि इन परिस्थितियों में चीन के लिए यह एक अलग किस्‍म की ही समस्या होगी। और इस बात की पूरी संभावना है कि आने वाले वक्त में ऐसी स्थिति पैदा हो जहां दो दलाई लामा हों। दोनों ही अपने स्‍वीकार्यता को लेकर वैश्विक मंचों पर अपनी अपनी बात उठा रहे हों। 

यह बातें दलाई लामा ने यह बात निर्वासन के 60 साल पूरे पर कही। आपको बता दें कि दलाई लामा इससे पहले भी उत्‍तराधिकारी को लेकर अलग अलग बयान देते रहे हैं। 

यह भी पढ़ें: मसूद अजहर को 'ग्लोबल आतंकी' घोषित करने का प्रस्ताव रद्द, चौथी बार चीन बना रोड़ा

वहीं इसके जवाब में चीन ने कहा है कि दलाई लामा के अगले उत्तराधिकारी को चीनी सरकार से मंजूरी लेनी होगी।

अमेरिका ने दलाई लामा का किया समर्थन 
तिब्बत के धर्मगुरु दलाई लामा के समर्थन में अमरीका ने प्रतिबद्धता दोहराई है। साथ ही चीन से अपील की है कि वह अपने सहयोगियों से बातचीत करे। अमरीका की ओर से कहा गया है कि वह दलाई लामा के दृष्टिकोण का समर्थन करता रहेगा।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)











आपकी राय

#DNPoll क्या आपको लगता है जनता के असली मुद्दों को लेकर मोदी और राहुल के बीच आमने-सामने की डिबेट होनी चाहिये?