Bureaucracy: अजीत डोभाल तीसरी बार बने NSA, प्रधानमंत्री के प्रधान सचिव बने रहेंगे पीके मिश्रा

डीएन ब्यूरो

केंद्रीय कैबिनेट की नियुक्ति समिति ने अजीत डोभाल और पीके मिश्रा की पुनर्नियुक्ति पर मुहर लगा दी है। पढ़िये डाइनामाइट न्यूज़ की पूरी रिपोर्ट

अजीत डोभाल और  पीके मिश्रा पर जताया भरोसा
अजीत डोभाल और पीके मिश्रा पर जताया भरोसा


नई दिल्ली: देश में तीसरी बार मोदी सरकार बन चुकी है और इसके साथ ही मंत्रियों को उनके मंत्रालयों का आवंटन भी हो चुका है। गुरुवार को राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) और पीएम के प्रधान सचिव को लेकर बड़ी खबर सामने आई है। अजीत डोभाल को तीसरी बार भारत का राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार और पीके मिश्रा को पीएम का प्रधान सचिव नियुक्त किया गया है। 

डाइनामाइट न्यूज़ संवाददाता के अनुसार प्रधानमंत्री के प्रधान सचिव में भी कोई बदलाव नहीं किया गया है। यह जिम्मेदारी पीके मिश्रा ही संभालते रहेंगे।

अजीत डोभाल को पहली बार 20 मई 2014 को देश का राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार नियुक्त किया गया था। तब से डोभाल ही इस पद को संभाल रहे हैं। उनसे पहले शिवशंकर मेनन देश के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार थे। 1968 बैच के आईपीएस अधिकारी अजीत डोभाल को कूटनीतिक सोच और काउंटर टेरेरिज्म का विशेषज्ञ माना जाता है।  

प्रधानमंत्री के प्रधान सचिव में भी कोई बदलाव नहीं किया गया है। यह जिम्मेदारी पीके मिश्रा ही संभालते रहेंगे।
पीके मिश्रा 1972 बैच के आईपीएस अधिकारी हैं। वह पिछले 1 दशक से प्रधानमंत्री मोदी के साथ प्रधान सचिव के तौर पर काम कर रहे हैं। 
पीके मिश्रा प्रशासनिक मामले और प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) में नियुक्तियों का काम देखेंगे।










संबंधित समाचार