भाजपा के राज्यसभा सांसद राजीव चंद्रशेखर ने कहा, रोजगार के असल आंकड़े जानने के लिए ईपीएफओ नहीं है काफी..

डीएन ब्यूरो

देश में रोजगार के आंकड़े एकत्रित करने का एकमात्र तंत्र कर्मचारी भविष्य निधि संगठन ही है। भाजपा के राज्यसभा सांसद राजीव चंद्रशेखर का मानना है कि रोजगार के असल आंकड़े जानने के लिए यह तंत्र काफी नहीं है। डाइनामाइट न्यूज़ की रिपोर्ट में पढ़ें और क्या कहा भाजपा नेता चंद्रशेखर ने..

बीजेपी के राज्यसभा सांसद राजीव चंद्रशेखर
बीजेपी के राज्यसभा सांसद राजीव चंद्रशेखर

नई दिल्ली: आगामी लोकसभा चुनाव से पूर्व रोजगार के आंकड़ों को लेकर कई दफा सियासी बवाल हो चुका है। विपक्ष की ओर से सांसद में कई दफा कहा गया है कि सरकार नौजवानों को रोजगार उपलब्ध करवाने में नाकामयाब रही है। लेकिन अब तक रोजगार के आंकड़ों को लेकर कोई निश्चित आंकड़ें नहीं सामने आ पाए हैं। ऐसे में आम चुनाव के बाद जो सरकार सत्ता में आएगी उसके ऊपर रोजगार के असल आंकड़े उपलब्ध करवाने को लेकर बड़ी जिम्मेदारी होगी। 

यह भी पढ़ें: आरबीआई ने रेपो रेट में की 0.25 फीसदी की कटौती, सस्ता होगा कर्ज

रोजगार के आंकड़े एकत्रित करने हेतु ईपीएफओ नहीं है काफी: राजीव
बीजेपी के राज्यसभा सांसद राजीव का कहना है कि जहां तक रोजगार के आंकड़े एकत्रित करने का सवाल है तो अभी भी केवल कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ) ही एकमात्र ऐसा तंत्र है। लेकिन यह काफी नहीं है। 

यह भी पढ़ें: पीयूष गोयल ने पेश किया अंतरिम बजट, जानिए..किसको क्या मिला इस बजट से..
उन्होंने कहा कि यह बेहद निराशाजनक है कि आजादी के इतने वर्ष बाद भी इसके लिए कोई तंत्र विकसित नहीं हो पाया। लिहाजा अगली सरकार के समक्ष इसका तंत्र विकसित करना एक अहम काम होगा। उनका कहना है कि जब तक रोजगार संबंधी आंकड़े तत्काल उपलब्ध नहीं होंगे विकासमूलक नीतियों का निर्धारण ठीक प्रकार से नहीं किया जा सकेगा।

रोजगार के अवसर उपलब्ध हुए हैं: राजीव
भाजपा नेता चंद्रशेखर के अनुसार हालांकि औपचारिक सेक्टर में रोजगार को लेकर कुछ दिक्कतें हैं लेकिन सरकार ने काम किया है। उनका दावा है कि सरकार ने रोजगार को लेकर काम किया है। उनके मुताबिक बीते पांच साल में पब्लिक इन्फ्रास्ट्रक्चर में सरकार ने करीब 11 लाख करोड़ रुपये का निवेश किया है, जिससे औपचारिक और अनौपचारिक दोनों क्षेत्रों में बड़े पैमाने पर रोजगार के अवसर उपलब्ध हुए हैं। 

 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)











आपकी राय

#DNPoll क्या आपको लगता है जनता के असली मुद्दों को लेकर मोदी और राहुल के बीच आमने-सामने की डिबेट होनी चाहिये?

हां
80.95%
नहीं
19.05%