यूपी से बड़ी खबर: जमीन कब्जाने और धोखाधड़ी के मामले में पूर्व डीजीपी जगमोहन यादव पर एफआईआर

डीएन ब्यूरो

यूपी से एक बड़ी खबर सामने आ रही है। राज्य के पूर्व डीजीपी और आईपीएस अधिकारी रहे जगमोहन यादव पर लखनऊ पुलिस ने संगीन धाराओं में एफआईआर दर्ज की है। डाइनामाइट न्‍यूज़ एक्सक्लूसिव..

पूर्व डीजीपी जगमोहन यादव (फाइल फोटो)
पूर्व डीजीपी जगमोहन यादव (फाइल फोटो)

लखनऊ: यूपी के राजधानी लखनऊ से एक बड़ी खबर सामने आ रही है कि राज्‍य के पूर्व डीजीपी जगमोहन यादव पर पुलिस ने एफआईआर दर्ज की है। दरअसल उनके और पूर्व मंत्री बलराम यादव के बेटे विजय कुमार के बीच में शहीद पथ स्थित मुजफ्फर नगर घुसवल में साढ़े तीन बीघा जमीन को लेकर विवाद हो गया था। इसी मामले में आज गोसाईगंज थाने की पुलिस ने FIR दर्ज की है।

यह भी पढ़ें: ‘डाइनामाइट न्यूज़ यूपीएससी कॉन्क्लेव 2019’: आईएएस परीक्षा से जुड़ा सबसे बड़ा महाकुंभ

पूर्व DGP जगमोहन यादव ने बिन्‍नी इंफ्राटेक के नाम से लखनऊ के मुजफ्फरनगर घुसवल में जमीन खरीदी थी। वहीं जेल में बंद पूर्व मंत्री गायत्री प्रजापति और पूर्व केन्द्रीय मंत्री बलराम सिंह यादव के बेटे विजय कुमार सिंह ने भी यहीं पर जमीन खरीदी थी। दोनों में बीच में काफी लंबे समय से पैमाइश को लेकर विवाद चल रहा था।

एफआईआर की कॉपी

इसी जमीन पर कब्‍जा कराने जगमोहन यादव मंगलवार को गए थे। जिस पर विजय कुमार सिंह ने आपत्ति जताई तो दोनों पक्षों में कहासुनी हो गई। आरोप यह भी है कि दोनों पक्षों के असलहों से लैस लोग आमने सामने आ गए थे।

एफआईआर की कॉपी

जिसको लेकर पुलिस को सूचित किया गया था। सूचना पर मौके पहुंचे भारी पुलिस बल ने किसी तरह मामले को शांत कराने का प्रयास किया लेकिन पूर्व डीजीपी जगमोहन यादव ने काम कराना नहीं बंद किया।

जमीन के विवाद में पूर्व डीजीपी और दूसरे पक्ष को सुनती पुलिस

जिसके बाद एसपी विधानसभा राजेश श्रीवास्तव, सीओ गोमतीनगर अवनीश्वर चंद्र श्रीवास्तव ने आपस में सुलह समझौता कराने का प्रयास किया लेकिन बात नहीं बनी। इस पर एसडीएम सरोजनीनगर चंदन पटेल को बुलाकर पूर्व DGP के कार्य को बंद करा दिया गया था।

इन-इन धाराओं में दर्ज हुआ मुकदमा

डाइनामाइट न्‍यूज़ संवाददाता के मुताबिक जगमोहन यादव और उनके साथ 60 से 65 अज्ञात लोगों के खिलाफ लखनऊ के थाना गोसाईगंज में मुकदमा अपराध संख्‍या 592/2019 धारा 147, 148, 419, 420, 447, 504 और 506  के अंतर्गत मुकदमा पंजीकृत हुआ है। 

विवाद की सूचना पर मौके पर पहुंची पुलिस

यह बोले पूर्व डीजीपी

इसी मामले में आज पूर्व डीजीपी पर रिपोर्ट दर्ज की गई है। वहीं जगमोहन यादव का कहना है कि राजस्‍व विभाग ने जमीन को पैमाइश करके दी थी। बीते आठ साल से मुझे लगातार प्रताड़ित किया जा रहा है।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)










आपकी राय

Loading Poll …