सावन स्पेशल: बलरामपुर का दुःखहरण नाथ मंदिर..जहां भक्तों की मनोकामना पूर्ण करते हैं भोलेनाथ

डीएन संवाददाता

उतरौला कस्बे व ग्रामीण क्षेत्रों में सावन के पहले सोमवार को भगवान भोले औघड़ दानी शिवजी की आराधना के लिये शिवालयों में शिव भक्तों की भारी भीड़ उमड़ पड़ी। मंदिर में मौजूद प्राचीनतम एवं अद्भुत शिवलिंग का रुद्राभिषेक करने से हर भगवान शिव भक्तों की हर मनोकामना पूर्ण करते हैं। पूरी खबर..

दुःखहरण नाथ मंदिर में शिवभक्तों की भीड़

बलरामपुर: उतरौला कस्बे व ग्रामीण क्षेत्रों में सावन के पहले सोमवार को भगवान भोले औघड़ दानी शिवजी की आराधना के लिये शिवालयों में शिव भक्तों की भारी भीड़ उमड़ पड़ी। प्रातः काल से ही शिवालयों में महिलाओं, पुरुषों व बच्चों का तांता भगवान शिव के दर्शन व जलाभिषेक करने के लिए लगने लगा। शिव भक्तों ने मंदिरों में दूध, गंगाजल, दही घी, शक्कर आदि सामग्रियों से भगवान शिव का जलाभिषेक किया और मन्नते मांगी। ऐसी मान्यता है कि इस मंदिर में मौजूद प्राचीनतम एवं अद्भुत शिवलिंग का रुद्राभिषेक करने से हर भगवान शिव भक्तों की हर मनोकामना पूर्ण करते हैं।

यह भी पढ़ें: इस बार सावन में भगवान शिव की भक्तों पर रहेगी विशेष कृपा, विधिवत पूजन से पाएं मनोवांछित फल

 

सावन के दिनों में प्रातः काल से ही महिलाओं पुरुषों और बच्चों के द्वारा शिवालय में स्थित अद्भुत शिवलिंग की पूजा आराधना शुरू हो जाती है। भक्तिमयी संगीत से पूरा वातावरण भक्तिमय हो जाता है। शिवलिंग का जलाभिषेक करने के लिए प्रातः काल से ही शिवभक्त लाइनों में लग गए और कई घंटों के इंतजार के बाद जलाभिषेक करने का अवसर प्राप्त होता है।

यह भी पढ़ें: सावन स्पेशल: काशी की सड़कों पर शिव भक्तों की भारी भीड़, बम भोले के जयघोषों से गूंज रही धर्मनगरी

दुःखहरण नाथ मंदिर का इतिहास

उतरौला कस्बे के दुःख हरण नाथ मन्दिर में स्थित ऐतिहासिक एवम प्राचीनतम शिवलिंग की पूजा आराधना सावन के पहले ही दिन से ही शुरू हो गई। कस्बे के उत्तरी पश्चमी छोर पर स्थित दुखहरणनाथ मन्दिर में स्थित शिवालय साठ अंश तिरछा है, जो कि बीच में कटा है। इस श्रद्धा, आस्था एवम विश्वास के शिवलिंग के बारे में मान्यता है कि प्राचीन काल मे दुखहरणनाथ मन्दिर एक टीले के रूप में थे। तत्कालीन राजा ने टीले की खुदाई करके समतल कराना चाहा। परन्तु खुदाई के दौरान मजदूरों को एक शिवलिंग दिखाई दिया। राजा ने उस शिवलिंग की खुदाई करवाने के लिये शिवलिंग में रस्सी बन्धवा कर हाथियों से खिचवाया फिर भी शिवलिंग उखड़ा नही बल्की टेढ़ा हो गया।

 

यह भी पढ़ें: सावन स्पेशल: इस विधि से करें शिव की पूजा, खत्म होंगे कई दोष  

इसके बाद भी राजा नही माने और शिवलिंग को लकड़ी काटने वाले बड़े आरे से शिवलिंग को कटवाने लगे। इसी दौरान शिवलिंग से खून बहने लगा । जिसको देखकर मजदूरों ने शिवलिंग को आरे से काटना बंद कर दिया।आज भी दुखहरण नाथ मंदिर के शिवालय में स्थित शिवलिंग पर आरे का निशान प्रत्यक्ष रुप से दिखाई पड़ता है। जब इस घटना की जानकारी राजा को हुई तो उन्होंने वहां एक मंदिर का निर्माण करवा दिया। ऐसा शिवलिंग उत्तर प्रदेश के किसी भी शिवालय में देखने को नहीं मिलेगा।

यह भी पढें: आजमगढ़: सावन के पहले सोमवार पर भंवरनाथ मंदिर में भक्तों की भीड़, सड़कों पर बोल बम की गूंज 

पूजा अर्चना से होती है मन्नते पूरी

मान्यता है की दुखहरण नाथ मंदिर आस्था के साथ पूजा अर्चना करने से सभी मनोकामनाये पूरी हो जाती है। जिस कारण से जिले के साथ साथ आस पास के जिलो से भी लोग भगवान शिव के दर्शन करने के लिए आते है। नागपंचमी व कजरी तीज के अक्सर पर  शिव भक्तों की भारी भीड़ यहाँ भगवान शिव के दर्शन व जलाभिषेक के लिए उमड़ती है।

(डाइनामाइट न्यूज़ अपने पाठको के लिए हर रोज भगवान भोलेनाथ और पवित्र सावन माह से जुड़ी धार्मिक, आध्यात्मिक कथा-कहानी, लेख और शिव मंदिरों से जुड़ी खबरों की श्रृंखला में पूरे सावन माह तक आप भोले बाबा से जुड़ी खबरें हमारे विशेष कालम सावन स्पेशल में पढ़ सकते हैं। आप हमारी वेबसाइट भी देख सकते हैं DNHindi.com) 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार