Bhilwara: स्कूल बिल्डिंग के लिए इस्तेमाल की जा रही घटिया सामग्री, हाथ लगाने पर झड़ रही दीवाल, भड़के ग्रामीण

डीएन ब्यूरो

भीलवाड़ा के मांडलगढ़ के स्कूल को बनाने के लिए घटिया सामग्री का इस्तेमाल किया जा रहा है। इस कारण वहां के लोगों में आक्रोश और गुस्सा है। 72 लाख में बन रहे इस स्कूल भवन के लिए घटिया सामान का इस्तेमाल किया जा रहा है, कि जहां हाथ लगाओ वहीं से सिमेंट गिर रहा है। सवाल ये है कि जब स्कूल बनने से पहले ही ये हाल है तो स्कूल बनने के बाद उसकी हालत और कैसी होगी। पढ़ें डाइनामाइट न्यूज़ पर पूरी खबर..


भीलवाड़ा: मांडलगढ़ उपखंड क्षेत्र के रलायता ग्राम पंचायत मुख्यालय पर राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय के लिए नया भवन पंचायत भवन के पास बनाया जा रहा है। जिसके लिए घटिया सामग्री का इस्तेमाल किया जा रहा है। इस कारण वहां के लोगों में गुस्सा और आक्रोश है।

यह भी पढ़ें: डाइनामाइट न्यूज़ यूपीएससी कॉन्क्लेव में दिखी महिला सशक्तिकरण की झलक, पहुंची तीन वर्षों की महिला टॉपर्स, राष्ट्रपति के सचिव रहे मुख्य अतिथि

72 लाख के इस भवन में 10 कमरे बनाए जा रहे हैं। ये भवन 19 दिसम्बर 2017 में शुरू हुआ था जिसको 18 अगस्त 2018 तक पूरा करना था लेकिन अभी तक निर्माण कार्य अधूरा पड़ा हुआ है। लाखों का भवन निर्माण उसमें घटिया सामग्री का इस्तेमाल होने से ग्रामीण नाराज हो गए और बड़ी संख्या में निर्माणधीन भवन पर पहुंच गए।

यह भी पढ़ें: बड़ी खबर: पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की SPG सुरक्षा हटाई गई

स्कूल की दिवार

इसके अलावा भवन गिरने की संभावना को देखते हुए आधे हिस्से में स्पोर्ट लगा कर दीवार बना दी गई है। बारिश का भरा पानी भी नीव से बाहर निकल रहा है, जिसके बाद संबंधित विभागीय अधिकारियों को इस बारे में सूचना दी गई।

यह भी पढ़ें: Rajasthan: 11 महीनों से चल रहा ठगी का कारोबार, मास्टर माइंड सहित चार गिरफ्तार

 

गांव के लोगों का कहना है कि स्कूल भवन के निर्माण के लिए घटिया सामग्री इस्तेमाल किया जा रहा है। सिर्फ नाम के लिए सिमेंट का इस्तेमाल किया जा रहा है। भवन के पीछे गहरी खाई है जिसको देखते हुए अधिकारियों और ठेकेदार ने मिलकर आधे भवन पर स्पोर्ट के रूप में दीवारे खड़ी कर दी है जिससे भवन को गिरने से बचाया जा सके लेकिन अभी बारिश का पानी भवन के आगे के हिस्से में भरा था जो भवन की नींव से होकर भवन के पीछे निकल गया जिससे भवन के पीछे मिट्टी का कटाव भी हो गया।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)








संबंधित समाचार