मंत्रिमंडल विस्तार से राधा मोहन दास अग्रवाल और फतेह बहादुर सिंह को मिली निराशा

डीएन ब्यूरो

गोरखपुर संसदीय क्षेत्र की दो अहम विधान सभाओं के वरिष्ठ विधायकों राधा मोहन दास अग्रवाल और फतेह बहादुर सिंह को बड़ी निराशा हाथ लगी है। ढ़ाई साल बाद हुए मंत्रिमंडल विस्तार में योगी ने इनको जगह नहीं दी। डाइनामाइट न्यूज़ विशेष:

राधा मोहन दास अग्रवाल और फतेह बहादुर सिंह (फाइल फोटो)
राधा मोहन दास अग्रवाल और फतेह बहादुर सिंह (फाइल फोटो)

लखनऊ: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के दिमाग में क्या चल रहा है इसे बड़े-बड़े पंडित उनके 21 साल के राजनीतिक जीवन में नहीं भांप पाये। 

यह भी पढ़ें: इस्तीफे के बाद यूपी के वित्त मंत्री राजेश अग्रवाल का भावुक पत्र आया सामने

कुछ ऐसा ही एक बार फिर बुधवार को हुआ। राज्य सरकार का ढ़ाई साल बाद मंत्रिमंडल विस्तार हुआ। बहुत उम्मीद थी कि चौथी बार जीते गोरखपुर शहर के विधायक राधा मोहन दास अग्रवाल को सीएम मौका देंगे लेकिन ऐसा नहीं हुआ। 

यह भी पढ़ें: चार नामी आईएएस टॉपर्स देंगे नौजवानों को आईएएस की परीक्षा में सफल होने का मूलमंत्र

जानकारों की मानें तो सीएम को लगता है कि उनकी कृपा से विधायक बनने वाले राधा उन्हीं के लिए कबी मुसीबत खड़ी कर सकते हैं। इसके अलावा जब गोरखपुर शहर से ही सीएम खुद हैं तो फिर किसी और के मंत्री पद का क्या औचित्य? इन कारणों से राधा मोहन का पत्ता साफ हो गया।

यह भी पढ़ें: ‘डाइनामाइट न्यूज़ यूपीएससी कॉन्क्लेव 2019’ आईएएस परीक्षा से जुड़ा सबसे बड़ा महाकुंभ

इनके अलावा फतेह बहादुर सिंह का राजनीतिक कद ऊंचा है। ये कैबिनेट मंत्री के अलावा कई बार के विधायक हैं। पत्नी जिला पंचायत अध्यक्ष रह चुकी हैं। पिता का राजनीतिक कद तो बेहद ऊंचा रहा है। वे भारत सरकार के संचार मंत्री से लेकर यूपी के मुख्यमंत्री तक रह चुके हैं। सीएम इन पर इसलिए मन नहीं बना पाये कि ये बसपा से होकर भाजपा में आये हैं।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार