महराजगंज: मकान मालिक के भतीजे पर महिला ने लगाया दुष्कर्म का आरोप, कोतवाल का कार्यवाही से इंकार

डीएन ब्यूरो

किराए के मकान में रह रही 4 बच्चों की मां से मकान मालिक का भतीजा दुष्कर्म करता रहा और वीडियो बना कर वायरल की धमकी देकर महीनों से शोषण करता रहा। जब पीड़िता की बर्दाश्त की सीमा टूट गई तो न्याय की आस लगा वह पहुंची डाइनामाइट न्यूज़ के ब्यूरो कार्यालय पर। अपनी आप बीती सुनाते हुए वह फफक कर रोने लगी। पूरी खबर..


महराजगंज: किराये पर रह रही अकेली महिला के साथ मकान मालिक के रिश्तेदार ने दुष्कर्म किया है। दुष्कर्म करने का बाद वीडियो बना कर वायरल की धमकी देकर महीनों से शोषण करता रहा। जब पीड़िता की बर्दाश्त की सीमा टूट गई तो न्याय की आस लगाए पहुंची डाइनामाइट न्यूज़ के ब्यूरो कार्यालय।

यह भी पढ़ें: महराजगंज: नेशनल हाइवे Vs बाई-पास, कुछ सुलगते सवाल..

पीड़िता के अनुसार वह श्यामदेउरवा थाने के एक गांव की रहने वाली है और उसका पति सऊदी में नौकरी करता है। महिला अपने 4 बच्चों के साथ महराजगंज के शास्त्री नगर में रह के अपने बच्चों को पढ़ाती थी। मार्च महीने में मकान मालिक के घर शादी के मौके पर उनका भतीजा महिला को घर मे अकेली देख मौके का फायदा उठा कर घर में घुस जबरदस्ती कर दुष्कर्म किया और वीडियो बना लिया। उसके बाद उस आरोपी से परेशान होकर महिला ने कमरा भी बदल दिया लेकिन लड़का महिला की वीडियो वायरल करने की धमकी देकर शोषण करता रहा। 

यह भी पढ़ें: Maharajganj: National Highway Vs Bypass सपाइयों का साथ मिलने से व्यापारियों के आंदोलन में आया उबाल

 

महिला और उसके बच्चे

जब महिला के बर्दाश्त की सीमा टूट गई तो वह कोतवाली गई, कोतवाली में महिला ने आरोपी का मोबाइल भी कोतवाल रामदवन मौर्य को सौंपा जिसमें आरोपी ने महिला का अश्लील वीडियो बना रखा था। इतना होने के बाद भी कोतवाल रामदवन मौर्य ने आज तक कोई मुकदमा दर्ज नहीं किया है। महिला का कहना है पहले तो आरोपी को पूछताछ के लिए थाने लाये लेकिन न जाने किस स्वार्थ में कोई कार्यवाही नही की और महिला से झूठ बोल दिया कि मैंने चालान कर दिया है। 

इस मामले के बारे में जब कोतवाल रामदवन मौर्या से डाइनामाइट न्यूज़ ने पूछा तो कोतवाल रामदवन मौर्या ने पूरी तरह अंजान नजर आये। उन्होंने कहा कि ऐसा कोई भी मामला मेरे संज्ञान में नही है।  

एसपी से फरियाद लगा लौटी महिला

कोतवाली पुलिस से न्याय न मिलने पर महिला एसपी कार्यालय पहुंची यहां पर एसपी की अनुपस्थिति में उसने अपनी गुहार सीओ सदर से लगायी।

सबसे बड़ा सवाल यह है कि गरीबों की जिले में कोई सुनवाई है या नहीं? वर्तमान कोतवाल ढ़ाई साल से थाने में कुंडली मारकर बैठे हैं। हर दिन ये नये विवाद में घिरते हैं। इनकी करनी के आगे बड़े अफसर जवाब तक नहीं दे पाते? अब इस मामले में कौन झूठ बोल रहा है पीड़ित गरीब अबला या कोतवाल? महिला चीख-चीख कर कह रही है कि उसने कोतवाल को शिकायती पत्र व अश्लील वीडियो वाला आरोपी की मोबाइल दोनों सौंपा और इधर कोतवाल साफ-साफ सारे मामले को पी जाने पर आमादा हैं और कह रहे हैं कि उनके संज्ञान में ऐसा कोई मामला ही नही है। क्या इस गरीब महिला को एसपी रोहित सिंह सजवान न्याय दिला पायेंगे? वे इस गरीब महिला की बात सुनेंगे या फिर जिले के सबसे बदनाम थानेदार की रची हुई मनगढ़ंत कहानी पर भरोसा करेंगे? यह देखना दिलचस्प होगा।

इस बाबत जब डाइनामाइट न्यूज़ ने एसपी रोहित सिंह सजवान से पूछा तो उन्होंने कहा कि वे तहसील दिवस में है। मामला संज्ञान में आने पर कार्यवाही होगी। 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार