Entertainment: रघुपति राघव राजा राम गीत नये अंदाज में

डीएन ब्यूरो

पार्श्वगायिका पद्मश्री अनुराधा पौडवाल ने ‘रघुपति राघव राजा राम’ गीत को मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम और राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी जैसी दो विभूतियों की प्रेरणा को नये अंदाज में प्रस्तुत किया है।

अनुराधा पौडवाल
अनुराधा पौडवाल

मुंबई: पार्श्वगायिका पद्मश्री अनुराधा पौडवाल ने ‘रघुपति राघव राजा राम’ गीत को मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम और राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी जैसी दो विभूतियों की प्रेरणा को नये अंदाज में प्रस्तुत किया है।

अपेक्षा फिल्म्स एंड म्यूज़िक के बैनर तले इस गीत को नए अंदाज में प्रस्तुत करने के लिए डीजे शेज़वुड ने इसकी धुन और शब्दों को अनूठे अंदाज में ढाला है। अजय जयसवाल ने इसके निर्माता की भूमिका निभाई है। भगवान श्रीराम की जन्मभूमि अयोध्या को इसकी पृष्ठभूमि बनाया गया है।

यह भी पढ़ें: Bollywood News- ‘सांड की आंख’ में अपने किरदार के लिये भूमि ने की कड़ी मेहनत

अनुराधा पौडवाल ने इस गीत को नये अंदाज में प्रस्तुत किये जाने के बारे में बताया कि श्रीराम का नाम हर मुश्किल का समाधान है। वह रामबाण ही है जो असम्भव को भी सम्भव कर दिखाता है। हमने इसी राम नाम को आज के समय के हिसाब से लोगों को एकसूत्र में बांधने और दुनिया को प्रेरणा देने के लिहाज से नए रूप में ढाला है।

यह भी पढ़ें: Entertainment- द्रौपदी पर आधारित फिल्‍म में नजर आएगी दीपिका पादुकोण

उन्होंने कहा कि दूसरी ओर महात्मा गाँधी ने देश को नेकी और सच्चाई की राह बताई है। ये दोनों व्यक्तित्व हर एक इंसान को जाति, धर्म और वर्ग से ऊपर उठकर एक होना सिखाते हैं और जीवन को सच्चाई के साथ जीने का मंत्र देते हैं। उनके इस गीत में इन दोनों ही व्यक्तिवों और उनके प्रेरक जीवन का सार देखने को मिलेगा। इसमें वंचित वर्ग की शबरी का भगवान के प्रति प्रेम समर्पण भी शामिल है और बापू के जीवन का सबसे बड़ा संबल कस्तूरबा भी इस वीडियो के जरिये समाज और खासकर युवाओं को अपनी परम्परा तथा जड़ों से जुड़ने के लिए आह्वान किया है।

उन्होंने कहा कि इस गीत की प्रतीकात्मक प्रति कई बड़े संतों और धर्मगुरुओं को भी भेंट की गयी है। उन्होंने राम जन्मभूमि विवाद के शीघ्र ही समाधान होने की उम्मीद भी जतायी है। (वार्ता) 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)








संबंधित समाचार