DN Exclusive: महाराजगंज निकाय चुनाव, वार्ड की दुर्दशा ने खोली नेताओं के वादों की पोल

डीएन संवाददाता

उत्तर प्रदेश के निकाय चुनावों को लेकर डाइनामाइट न्यूज़ हर दिन शहर के अलग-अलग वार्डों की चुनावी तस्वीर.. ताजा विश्लेषण के साथ आप तक पहुंचा रहा है। इस कड़ी में आज डाइनामाइट न्यूज़ की चुनावी टीम पहुंची है- महराजगंज के सिविल लाइन,वार्ड नंबर-21 में। जानिये क्या हैं, वहां के चुनावी समीकरण, जनता का रूझान और प्रत्याशियों के सामने चुनौतियां..


महाराजगंज: जिले में निकाय चुनाव की सरगर्मियां तेजी से बढ़ती जा रही हैं। सभासद के दावेदारों ने वोट के लिये ग्रामीणों को लुभाना शुरू कर दिया है। हर उम्मीदवार चुनाव जीतने के लिये कोई कसर नहीं छोड़ना चाहता है। चुनावी लड़ाई भले ही प्रत्याशियों के बीच हो, लेकिन इस चुनावी मुकाबले में सबसे बड़ी भूमिका जनता को निभाना है। उम्मीदवारों को जिताकर सत्ता तक पहुंचाने की चाभी भी जनता के पास ही है। डाइनामाइट न्यूज़ हर दिन शहर के अलग-अलग वार्डों की चुनावी तस्वीर ताजा विश्लेषण के साथ आप तक पहुंचा रहा है। इस कड़ी में आज डाइनामाइट न्यूज़ की चुनावी टीम पहुंची है- जिले के सिविल लाइन, वार्ड नंबर-21 में..

यह भी पढ़ें: DN Exclusive: महाराजगंज निकाय चुनाव, नेताओं के लुभावने वादों का शिकार होती रही जनता 

 

 

यह भी पढ़ें: DN Exclusive: महाराजगंज निकाय चुनाव, जीत के बाद जनता की जिम्मेदारी से कतराते हैं नेता 

सिविल लाइन, वार्ड नंबर-21 का चुनावी परिदृश्य

1) आरक्षण स्थिति – सामान्य (महिला)
2) जनसंख्या -  2800 लगभग
3) मतदाता - 1186-1200 
4) चुनाव लड़ने वाले कुल प्रत्याशी – 04 
5) वर्तमान सभासद - पवन सिंघानिया
6) सबसे बड़ी समस्या - टूटी-फूटी नालियां

 

 

यह भी पढ़ें: DN Exclusive: महाराजगंज निकाय चुनाव, नेताओं की गैर-जिम्मेदारी से बाधित होता है विकास 

सिविल लाइन पर चुनावी नजर 

सिविल लाइन जनपद का वार्ड नंबर-21 है। इस समय यहां की सीट सामान्य (महिला) है और 4 प्रत्याशी चुनाव लड़ रहे है। यह वार्ड कई तरह की समस्याओं से घिरा हुआ है। जनता भी यहां मौजूद जनसुविधाओं से संतुष्ट नहीं है। निवर्तमान सभासद पवन सिंघानिया ने बातचीत में बताया कि सिविल लाइन की जनता उनसे पूर्णतः संतुष्ट है, जबकि वार्ड की जनता उनके दावों के उलट विकास कार्यों से असंतुष्ट नजर आई। चुनाव में खड़ी सभी महिला प्रत्याशियों के प्रतिनिधि क्षेत्र में प्रचार मुहिम में जुटे है।

 

 

यह भी पढ़ें: DN Exclusive: महाराजगंज निकाय चुनाव- जिन नेताओं से की अपेक्षा, उनसे ही मिली उपेक्षा 

समस्याओं का अंबार

डाइनामाइट न्यूज़ की चुनावी टीम जब सिविल लाइन पहुंची तो यहां भी कई तरह की समस्याएं देखने को मिली। लोगों का कहना है कि वह पिछले 20 साल से लगातार नेताओं के झूठे वादों का शिकार हो रही है। जनता 20 वर्षों से बन रहे सभासदों के ऊपर नाराज दिखाई दी। लोगों ने बताया कि उनके मौहल्ले में सड़कें, नालियां एवं गंदगी की समस्याओं को देखने वाला कोई नहीं है और अब ये सब झेलने की उनकी अब आदत हो गई है। विकास के लिये जनता जनप्रतिनिधियों को दोषी मानती है, जिन्होंने क्षेत्र का ध्यान नहीं दिया।

यह भी पढ़ें: DN Exclusive: महाराजगंज निकाय चुनाव, विकास के लॉलीपॉप पर ठगी गयी जनता नेताओं को सिखायेगी सबक

जर्जर बिजली व्यवस्था

वार्ड में बिजली व्यवस्था भी दुरूस्त नहीं हैं। जिले के नगरी बस स्टेशन के करीब से ही वार्ड में बिजली के पोलों का अभाव नजर आता है। जगह-जगह बिजली की तारों को बांस के डंडों और टेलीफोन के पोलों के सहारे घरों तक ले जाया गया है, जो किसी जोखिम से कम नहीं है। इसके अलावा यहां की जनता को हर रोज लो वोल्टेज का भी शिकार होना पड़ता है। शिकायतें करने के बाद भी कोई सुनवाई नहीं होती है।

 

 

यह भी पढें: DN Exclusive: महराजगंज निकाय चुनाव, विकास के नाम पर छली गयी जनता फिर वोट देने को तैयार 
ध्वस्त पड़ी नालियां 

बिजली के अलावा यहां जम निकासी के लिये नालियों की व्यवस्था भी भगवान के भरोसे है। जगह-जगह ध्वस्त पड़ी नालियां विकास की पोल खोल रही थी। नगर के प्रमुख दुर्गा मंदिर के ठीक पीछे की नालियों की दशा और भी बदतर थी। कहीं भी कूड़ेदान की व्यवस्था नहीं दिखी। इस वार्ड में कूड़ेदान न होने के कारण लोग अपने घरों के इर्द-गिर्द ही खुले में कूड़ा फेंकने को मजबूर है, जो बीमारियों को दावत देने के लिये काफी है। सफाई कर्मचारियों पर किसी का कोई अंकुश नहीं है, उनके दर्शन यहां कभी-कबार ही होते हैं।  

यह भी पढें: DN Exclusive: महराजगंज निकाय चुनाव में खुल रही है पुराने नेताओं की पोल 

 

 

यह भी पढें: DN Exclusive: महराजगंज निकाय चुनाव, प्रत्याशियों पर भरोसा नही कर पा रही है जनता 

झूठे और गलत वायदे

जिले के नगर पालिका कार्यालय की गोद में बसा सिविल लाइन वार्ड विकास को लेकर लापरवाह नेताओं की पोल खोलता नजर आया। जनता ने भी नेताओं पर चुनाव के वक्त झूठे और गलत वायदे करने के आरोप लगाये। यह वार्ड कई मूलभूत सुविधाओं से कोसों दूर है। जनता में जनप्रतिनिधियों के खिलाफ भारी गुस्सा है। जनता का आरोप है कि चुनाव जीत जाने के बाद नेता 5 सालों तक जनता और क्षेत्र की सुध नहीं लेते, इसी कारण विकास वाधित होता है।

(डाइनामाइट न्यूज़ पर आपको महराजगंज नगर पालिका चुनाव से जुड़ी हर एक खबर सबसे पहले मिलेगी। नि:शुल्क मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए 9999 450 888 पर मिस्ड कॉल करें)

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)








संबंधित समाचार