DN Exclusive: महाराजगंज निकाय चुनाव- जिन नेताओं से की अपेक्षा, उनसे ही मिली उपेक्षा

आशीष सोनी

उत्तर प्रदेश के निकाय चुनावों को लेकर डाइनामाइट न्यूज़ हर दिन शहर के अलग-अलग वार्डों की चुनावी तस्वीर.. ताजा विश्लेषण के साथ आप तक पहुंचा रहा है। इस कड़ी में आज डाइनामाइट न्यूज़ की चुनावी टीम पहुंची है- महराजगंज के विस्मिल नगर मोहल्ले में। जानिये क्या हैं, वहां के चुनावी समीकरण, जनता का रूझान और प्रत्याशियों के सामने चुनौतियां..


महाराजगंज: जिले में निकाय चुनाव की सरगर्मियां तेजी से बढ़ती जा रही हैं। सभासद के दावेदारों ने वोट के लिये ग्रामीणों को लुभाना शुरू कर दिया है। हर उम्मीदवार चुनाव जीतने के लिये कोई कसर नहीं छोड़ना चाहता है। चुनावी लड़ाई भले ही प्रत्याशियों के बीच हो, लेकिन इस चुनावी मुकाबले में सबसे बड़ी भूमिका जनता को निभाना है। उम्मीदवारों को जिताकर सत्ता तक पहुंचाने की चाभी भी जनता के पास ही है। डाइनामाइट न्यूज़ हर दिन शहर के अलग-अलग वार्डों की चुनावी तस्वीर ताजा विश्लेषण के साथ आप तक पहुंचा रहा है। इस कड़ी में आज डाइनामाइट न्यूज़ की चुनावी टीम पहुंची है- जिले के विस्मिल नगर, वार्ड-22 में..

 

यह भी पढ़ें: DN Exclusive: महाराजगंज निकाय चुनाव, विकास के लॉलीपॉप पर ठगी गयी जनता नेताओं को सिखायेगी सबक 

विस्मिल नगर वार्ड—22 का चुनावी परिदृश्य
1) आरक्षण स्थिति- समान्य (पुरूष)
2) जनसंख्या- 2500 लगभग
3) मतदाता- 1183-1200 
4) चुनाव लड़ने वाले कुल प्रत्याशी- 06 
5) वर्तमान सभासद- अकील अहमद
6) सबसे बड़ी समस्या: घोर उपेक्षा का शिकार

 

 

यह भी पढें: DN Exclusive: महराजगंज निकाय चुनाव, विकास के नाम पर छली गयी जनता फिर वोट देने को तैयार 

विस्मिल नगर पर एक चुनावी नजर
विस्मिल नगर जनपद का वार्ड नंबर-22 है। जिला मुख्यालय से इसकी दूरी लगभग एक से डेढ किलोमीटर है। यह वार्ड जिले का अत्यधिक घनी आबादी वाला वार्ड है। यहां मुस्लिम समुदाय के वोटरों की संख्या अधिक है। अब तक के ज्यादातर चुनावों में यहां जातीय समीकरणों ने बड़ी भूमिका निभाई है। इस बार्ड से इस बार 6 लोग चुनाव लड़ रहे है, जिसमें 3 मुस्लिम समुदाय के प्रत्य़ाशी है, जिससे मुस्लिम वोट 3 जगह बिखर सकते है। इसी तरह अन्य 3 प्रत्य़ाशियों के वोट भी आपस में बिखरने से यहां चुनाव में कांटे की टक्कर देखने को मिल सकती है। यहां के निवर्तमान सभासद अकील अहमद हैं।

 


 

यह भी पढें: DN Exclusive: महराजगंज निकाय चुनाव, प्रत्याशियों पर भरोसा नही कर पा रही है जनता 

घोर उपेक्षा का शिकार 

डाइनामाइट न्यूज़ की चुनावी टीम जब घनी आबादी वाले क्षेत्र विस्मिल नगर वार्ड-22 पहुंची तो यहां की दुर्दशा साफ नजर आयी। विस्मिल नगर के लोग कई तरह की परेशानियों की मार झेल रहे हैं। जनता के चेहरे और उनकी बातें कई परेशानिया को बयां कर रह रही थी। गंदगी के ढ़ेर और जनसुविधाओं के अभाव में लोग जैसे-तैसे दिन काटने को मजबूर हैं। यहां लगभग सभी नालियां ध्वस्त नजर आयी। विकास की बाट जोह रहा यह वार्ड नेताओं और जनप्रतिनिधियों की अनदेखी को भी बयां कर रहा था। विस्मिल नगर की दयनीय स्थिति बताती है कि यह घोर उपेक्षा का शिकार रहा है और किसी ने इसकी सुध नहीं ली।

 

 

यह भी पढें: DN Exclusive: महराजगंज निकाय चुनाव में खुल रही है पुराने नेताओं की पोल 

कम वोल्टेज बिजली
विकास के लिये तरसते विस्मिल नगर में भी निकाय चुनावों की सरगर्मियां जोरों पर है। प्रत्याशी यहां अपने दल-बल के साथ घूमते नजर आये। सभी प्रत्याशी वोटरों को रिझाने में लगे हुए थे। कई जगह दिखा कि सड़कों का निर्माण हाल-फिलहाल में ही हुआ है। जल निकासी के लिये नालियों का अभाव एक बड़ी समस्या है। कई जगह नालियों पर स्लैब का अभाव दिखा, जहां स्लैब थे भी, वो टूटे-फूटे और उखड़े नजर आये। किसी सिविक बॉडी द्वारा कोई उपाय न किये जोने के कारण लोग कूड़े को घर के अगल-बगल फेंकने को मजबूर दिखे। कम वोल्टेज बिजली यहां की एक और बड़ी समस्या है।

 

कूड़े का ढेर

यह भी पढ़ें: DN Exclusive: महराजगंज निकाय चुनाव, वोटों के लिये मुंह ताक रहे प्रत्याशियों के लिये जनता का रुख अभी साफ नहीं

शर्माते नजर आए लोग
 विस्मिल नगर का जायजा लेने के बाद डाइनामाइट न्यूज़ की चुनावी टीम ने जब जनता के साथ संवाद शुरू किया तो सभी ने कई सालों से इस वार्ड की तस्वीर बदलने के दावे करने वालो नेताओं की पोल खोल डाली। लोग बताते हैं कि मोहल्ले की नालियां कवर न किये जाने से आये दिन लोग हादसों का शिकार होते रहते है। इन नालियों में कभी बच्चे तो कभी राहगीर गिर जाते हैं। घरों से होकर नालियों में जाने वाले पानी की भी कहीं निकासी नहीं है। लोग नालियों को तोड़कर खाली खेतों में या फील्ड में पानी की निकासी का जुगाड़ करते हैं। बरसात के मौसम में तो हाल बुरा होना स्वाभाविक है। शिकायत करने पर भी कोई सुनवाई नहीं होती। कूड़े-कचरे के प्रबंधन पर बात करते हुए लोग शर्माते नजर आए, शायद लोग भी आत्मग्लानी महसूस कर रहे थे। 

 

विस्मिल नगर में प्रचार करती चुनावी टोली

यह भी पढें: महराजगंज: निकाय चुनाव के लिए प्रत्याशियों को चुनाव चिन्ह आवंटित 

राष्ट्रपति से भी लगाई गुहार
विस्मिल नगर के लोगों ने बताया कि गंदगी के अलावा बिजली व्यवस्था भी जर्जर हालत में है। लो-वोल्टेज इनकी बड़ी समस्या बनी हुई है। यहां की जनता इसकी शिकायत नगर पालिका से भी कर चुकी है, जब बात नहीं बनी तो लोगों ने राष्ट्रपति तक को भी ज्ञापन भी प्रेषित किया। लेकिन समस्या आज भी जस की तस बनी हुई है।

यह भी पढ़ें: महराजगंज में कांग्रेस ने अंतिम क्षणों में बदला प्रत्याशी, मचा हड़कंप 
 

लेकिन समस्याएं हल नहीं होती

डाइनामाइट न्यूज़ की चुनावी टीम से बातचीत में जनता ने कहा कि इस बार भी सभी प्रत्याशी क्षेत्र में उनकी समस्याओं के निराकरण और वार्ड में विकास के नाम पर वोट मांग रहे है। जनता ने कहा, यही वादे नेता हर चुनावों में करते हैं और इन्हीं वादों पर वो जीत भी जाते हैं, लेकिन समस्याएं हल नहीं होती। लोगों का कहना है कि जिन नेताओं से हमारी अपेक्षा होती है, उन्हीं से अधिकतर उपेक्षायें मिलती है, लेकिन ऐसे नेता लंबी पारी नहीं खेल सकते। उपेक्षित विस्मिल नगर की जनता क्या इस बार विकास करने वाले उम्मीदवार को जिता पायेगी, इस सवाल का जबाव अभी भविष्य के गर्भ में है, जिसके लिये अभी हमें थोड़ा इंतजार करना होगा।
 

(डाइनामाइट न्यूज़ पर आपको महराजगंज नगर पालिका चुनाव से जुड़ी हर एक खबर सबसे पहले मिलेगी। नि:शुल्क मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए 9999 450 888 पर मिस्ड कॉल करें)

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)








संबंधित समाचार