महराजगंजः 12 साल बाद भी पुल का निर्माण अधूरा..विभाग व नेता कर रहे सिर्फ राजनीति

डीएन संवाददाता

महराजगंज जिले के सुभाष नगर व पड़री बुजुर्ग को जोड़ने वाले बलिया नाले पर पुल के निर्माण को अब 12 साल बीत चुके हैं। बावजूद इसके अब तक पुल का निर्माण नहीं हो पाया है। विभाग व राजनीतिक नेता सिर्फ राजनीति कर रहे हैं। डाइनामाइट न्यूज़ की रिपोर्ट में 12 साल बाद भी क्यों नहीं हो सका पुल का निर्माण


महराजगंजः आवागमन को सुचारू बनाने के लिये महराजगंज जिले में करीब 12 साल पहले सुभाष नगर व पड़री बुजुर्ग को जोड़ने के लिये यहां एक निर्माणाधीन पुल की रूपरेखा तैयार कर तब पुल के लिये चार पिलर तैयार किये गए थे। लेकिन अब एक दशक बीत जाने के बावजूद भी पुल का काम अधूरा पड़ा है। पुल के ऊपर अभी तक छत नहीं डाली गई है। अधूरे निर्माण को लेकर पूछे जाने पर विभागीय अधिकारी एक दूसरे विभाग पर इसका पल्ला झाड़ रहे हैं।         

यह भी पढ़ेंः महिलाओं पर जुल्म ढहाने वालों की आएगी शामत, SP महिला मोर्चा को DGP ने दिया आश्वासन 

 

आधा-अधूरा पड़ा पुल का निर्माण कार्य

 

लोक निर्माण विभाग (PWD) का कहना है कि उसके पास वर्तमान में इतना बजट नहीं है कि जिससे पुल का सुचारू तरकी से कार्य हो सके। लगातार 5 बार इस क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करने वाले सांसद पंकज चौधरी व सदर विधायक जय मंगल कन्नौजिया से नगरवासी बीच मझधार में छोड़े गये इस पुल के निर्माण को लेकर कई बार गुहार लगा चुके हैं लेकिन इसके बावजूद सांसद बेफिक्र बने हुए है। वर्तमान विधायक भी संयोग से नगर के ही है।        

यह भी पढ़ेंः यूपी में गुंडा राज.. भू-माफियाओं ने पत्रकार पर ज्वलनशील पदार्थ छिड़ककर किया जान से मारने का प्रयास 

 

पुल के नाम पर हो रही सिर्फ राजनीति

 

यह भी पढ़ेंः यूपी STF की सूचना पर CM योगी की बड़ी कार्रवाई.. शिक्षा माफियाओं की तोड़ी कमर  

इन्हें भी अधूरे पुल के निर्माण की कोई चिंता नहीं है । हालांकि दोनों ही सत्ता पार्टी के हैं बावजूद काम एक दशक से ठप पड़ा हुआ है। पुल निर्माण के आधे-अधूरे कार्य से अब नगरवासियों के सब्र का बांध टूट गया है। लोगों का कहना है कि अगर जनप्रतिनिधि पुल का निर्माण शीघ्र नहीं करवाते तो वो सड़क पर उतरकर इनके खिलाफ प्रदर्शन कर अपनी आवाज बुलंद करेंगे। बता दें कि छत लगाकर इस पुल पर आवागमन शुरू करा देने से नगर को जाम की समस्या से निजात दिलाया जा सकता है। 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार