लंबे समय बाद इस साल जन्माष्टमी पर बन रहा है अद्भुत संयोग, जानें क्या है खास

डीएन ब्यूरो

जन्माष्टमी का त्योहार देश के साथ ही पूरी दुनिया में भी धूमधाम से मनाई जाती है। इस दिन श्रीकृष्ण जी का जन्मदिन मनाया जाता है। इस बार कई सालों के बाद जन्माष्टमी पर कई शुभ संयोग बन रहे हैं, इसलिए इस साल ये त्योहार बहुत ही खास होने वाला है। जानें क्या खास है इस साल की जन्माष्टमी के बारे में डाइनामाइट न्यूज़ पर..

फाइल फोटो
फाइल फोटो

नई दिल्ली: इस साल जन्माष्टमी के व्रत को लेकर लोगों में बहुत दुविधा है, कि व्रत 23 अगस्त को रखें या 24 अगस्त को। ये दुविधा इसलिए है, क्योंकि हिंदी पंचांग के अनुसार जन्माष्टमी का त्योहार भद्रपद माह के कृष्ण पक्ष की अष्टमी को मनाई जाती है। इस बार अष्टमी तिथि की शुरुआत 23 अगस्त को सुबह 8 बजकर 9 मिनट पर होगा, लेकिन रोहिणी नक्षत्र की शुरुआत 24 अगस्त की सुबह 3 बजकर 48 मिनट पर होगी। जिसकी वजह से इस साल कृष्णजन्माष्टमी पर बहुत ही खास संयोग बन रहे हैं।

यह भी पढ़ें: चार नामी आईएएस टॉपर्स देंगे नौजवानों को आईएएस की परीक्षा में सफल होने का मूलमंत्र

जन्‍माष्‍टमी का शुभ मुहूर्त 
जन्‍माष्‍टमी की तिथि: 23 अगस्‍त और 24 अगस्‍त।
अष्‍टमी तिथि प्रारंभ: 23 अगस्‍त 2019 को सुबह 08 बजकर 09 मिनट से।
अष्‍टमी तिथि समाप्‍त: 24 अगस्‍त 2019 को सुबह 08 बजकर 32 मिनट तक। 
रोहिणी नक्षत्र प्रारंभ: 24 अगस्‍त 2019 की सुबह 03 बजकर 48 मिनट से।
रोहिणी नक्षत्र समाप्‍त: 25 अगस्‍त 2019 को सुबह 04 बजकर 17 मिनट तक।

यह भी पढ़ें: ‘डाइनामाइट न्यूज़ यूपीएससी कॉन्क्लेव 2019’ आईएएस परीक्षा से जुड़ा सबसे बड़ा महाकुंभ

भगवान श्रीकृष्ण की मूर्ति

जानें पूजा करने का तरीका
-सबसे पहले नहा कर साफ कपड़े पहनें।
-उसके बाद श्रीकृष्ण जी को गंगाजल से स्नान कराएं और उनकी मूर्ति को दूध, दही, घी, शक्कर, शहद और केसर के घोल से स्नान कराएं।
- इसके बाद साफ पानी से एक बार फिर स्नान कराएं और साफ कपड़े पहना कर उनका श्रंगार करें।
-रात 12 बजे भोग लगाकर लड्डू गोपाल की पूजन करें और फ‍िर आरती करके सभी को प्रसाद बांट दें।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)










आपकी राय

Loading Poll …