UP: इन्हें जिंदगी नहीं प्यारी.. जल्दबाजी में मालगाड़ी के नीचे से गुजरकर रेलवे क्रासिंग को किया पार

डीएन संवाददाता

अमृतसर भीषण रेल हादसे के बाद भी न तो रेलवे और न यात्री किसी ने भी इससे सबक नहीं लिया है। ऐसा जौनपुर में तब देखने को मिला जब यहां जल्दबाजी में लोग और स्कूली बच्चे रेलवे क्रासिंग पर खड़ी मालगाड़ी के नीचे से होकर क्रासिंग को पार करने लगे। डाइनामाइट न्यूज़ की रिपोर्ट में पढ़ें तब क्रासिंग पर क्या रहा था रेलवे प्रशासन


जौनपुरः अमृतसर में हुए भीषण रेल हादसे के बाद भी रेलवे प्रशासन अभी तक नहीं जागा है। वहीं लोग भी अपनी जान से खिलवाड़ कर रेलवे क्रॉसिंग को पार करने से बाज नहीं आ रहे हैं। ताजा मामला हरपालगंज रेलवे स्टेशन का है, जहां सुबह रजनीपुर रेलवे क्रासिंग पर एक कोयला लदी मालगाड़ी के डिब्बे का कपलिंग टूटने से क्रासिंग पर तीन घंटे पच्चीस मिनट तक मालगाड़ी खड़ी रही। यह मालगाड़ी मुगलसराय से चलकर सुल्तानपुर की तरफ जा रही थी।        

यह भी पढ़ेंः राजस्थान विधानसभा चुनावः बौखलाई BJP..वसुंधरा के सामने चुनावी मैदान में यह प्रत्याशी भरेगा हुंकार 

 

 

रजनीपुर रेलवे क्रासिंग पर मालगाड़ी खराब

 

मालगाड़ी में डिब्बे अधिक होने से हरपालगंज से  रजनीपुर रेलवे क्रासिंग दूरी तक खड़ी रही जिसके कारण क्रॉसिंग गेट बंद होने से सड़क के दोनों तरफ जाम लगने लगा और स्कूली बच्चे भी घंटेभर फंसे रहे। वहीं जाम में फंसे स्कूली बच्चे और कुछ राहगीरों ने तो जान जोखिम में डालकर मालगाड़ी के नीचे घुसकर रेलवे क्रासिंग पार करते रहे। वहीं दूसरी तरफ सुरक्षा- व्यवस्था के लिए पुलिस लगाईं गई पर  मौके पर खड़े पुलिस कर्मी मूकदर्शक बनकर  देखते रहे।     

यह भी पढ़ेंः होश उड़ाने वाला VIDEO: पटरी पर लेटे युवक के ऊपर से गुजरी ट्रेन, उसके बाद हुआ कुछ ऐसा..  

 

मालगाड़ी के नीचे से क्रासिंग पार करती छात्रा

 

यह भी पढ़ेंः VIDEO: देखिये, कैसे हुआ अमृतसर रेल हादसा, पल भर में भारी भीड़ को कुचलकर गुजर गई ट्रेन  

वहीं एक के बाद एक राहगीर और स्कूली बच्चे यहां खड़ी मालगाड़ी के नीचे से रेलवे क्रासिंग पार करते रहे। इस दौरान यहां तैनात GRP भी मूकदर्शक बनी रही। वो तो गनीमत रही कि तब यहां से कोई दूसरी ट्रेन नहीं गुजरी और यह मालगाड़ी चालू नहीं हुई। अगर मालगाड़ी के नीचे से रेलवे क्रासिंग पार करते समय गलती से यह मालगाड़ी चलने लगती तो लोगों को अपनी जिंदगी से हाथ धोना पड़ता है। 
 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)













संबंधित समाचार