राजस्थान विधानसभा चुनावः बौखलाई BJP..वसुंधरा के सामने चुनावी मैदान में यह प्रत्याशी भरेगा हुंकार

डीएन ब्यूरो

राजस्थान की 200 विधानसभा सीटों के लिये 7 दिसंबर को मतदान होना है। इसके लिये अब बीजेपी और कांग्रेस दोनों बड़े दलों ने अपनी कमर कस ली है। इस बार प्रदेश की मुख्यमंत्री वंसुधरा राजे को टक्कर देने के लिये कांग्रेस ने बड़ा दाव खेला है। डाइनामाइट न्यूज़ की रिपोर्ट में पढ़ें BJP को कैसे मिलेगी यहां कड़ी टक्कर

वसुंधरा के खिलाफ मैदान में मानवेंद्र सिंह
वसुंधरा के खिलाफ मैदान में मानवेंद्र सिंह

जयपुरः राजस्थान की 200 विधानसभा सीटों के लिये 7 दिसंबर को होने वाले मतदान को लेकर कांग्रेस और बीजेपी ने कमर कसनी शुरू कर दी है। दोनों पार्टियां एक दूसरे के खिलाफ चुनावी मैदान में एक से बढ़कर एक धुरंधर प्रत्याशियों को मैदान में उतार रहे हैं। वर्तमान में सत्तारूढ़ बीजेपी को कड़ी टक्कर देने के लिये कांग्रेस ने ऐड़ी चोटी का दम लगाना शुरू कर दिया है। इसी कड़ी में कांग्रेस ने शनिवार को निकाली अपनी दूसरी सूची में 32 उम्मीदवारों के नामों का ऐलान किया।      

यह भी पढ़ेंः मध्यप्रदेश विधानसभा चुनावः BJP ने 5 दर्जन 'बागियों' को किया पार्टी से बाहर.. अब शायद ही होगी घर वापसी  

 

  

 

कांग्रेस की यह दूसरी सूची इसलिये भी खास रही क्योंकि इसमें कांग्रेस ने बीजेपी की तरफ से प्रत्याशी मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के खिलाफ पूर्व केंद्रीय मंत्री जसवंत सिंह के बेटे मानवेंद्र सिंह को मैदान में उतारा है। इससे अब झालरापाटन विधानसभा की यह सीट दिलचस्प हो गई है, इससे यहां अब मुकाबला दिलचस्प होने की उम्मीद है।      

 

 BJP अध्यक्ष अमित शाह के साथ वसुंधरा राजे

 

यह भी पढ़ेंः PM मोदी को संसद में विशेष प्रस्ताव लाकर राम मंदिर बनाने का रास्ता करना चाहिये साफः बाबा रामदेव 

बता दें कि मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे झालरापाटन की विधानसभा सीट से चौथीर बार उम्मीदवार है। यहां से राजे ने 2003 में चुनाव पड़ा था। झालरापाटन को लेकर वसुंधरा कई बार यह कह चुकी है कि इस सीट से उनका 30 साल पुराना रिश्ता है। वह यहां से पहले सासंद भी रह चुकी है। इस विधानसभा सीट से कांग्रेस ने जब इससे पहले राजे के खिलाफ मीनाक्षी चंद्रावत को मैदान में उतारा था तो चंद्रावत को मुंह की खानी पड़ी थी।     

 

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के साथ पार्टी कार्यकर्ता

 

यह भी पढ़ेंः UP: संस्कृत की फर्जी डिग्री लेकर 19 वर्षों से महाविद्यालय में पढ़ा रहे 10 शिक्षकों का भंडाफोड़.. 

राजे ने उन्हें एक बड़े अंतर से हराया और 60896 सीटें ज्यादा प्राप्त की थी, राजे को यहां 114384 और मीनाक्षी चंद्रावत को 53488 मिले थे। अब एक बार फिर कांग्रेस ने दाव खेला है और इस बार पार्टी आलाकमान ने ऐसे प्रत्याशी को मैदान में उतारा है जो खुद पहले बीजेपी का सदस्य रह चुका है। अब ये देखना दिलचस्प रहेगा कि झालावाड़ विधानसभा क्षेत्र के मतदाता किसे अपना प्रतिनिधि चुनते हैं। 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार