भाई-बहन के अपार प्रेम और समर्पण का प्रतीक है भाईदूज

डीएन ब्यूरो

भाईदूज या भैयादूज का त्‍योहार भाई-बहन के अपार प्रेम और समर्पण का प्रतीक है।

फाइल फोटो
फाइल फोटो

पटना  भाईदूज या भैयादूज का त्‍योहार भाई-बहन के अपार प्रेम और समर्पण का प्रतीक है। भाईदूज का त्योहार कार्तिक मास की द्वितीया को मनाया जाता है। यह त्योहार भाई बहन के स्नेह को सुदृढ़ करता है। यह त्योहार दीवाली के दो दिन बाद मनाया जाता है। इस दिन विवाहित महिलाएं अपने भाइयों को घर पर आमंत्रित कर उन्‍हें तिलक लगाकर भोजन कराती हैं।

यह भी पढ़ें: Bollywood News- ‘सांड की आंख’ में अपने किरदार के लिये भूमि ने की कड़ी मेहनत

वहीं, एक ही घर में रहने वाले भाई-बहन इस दिन साथ बैठकर खाना खाते हैं। मान्‍यता है कि भाईदूज के दिन यदि भाई-बहन यमुना किनारे बैठकर साथ में भोजन करें तो यह अत्‍यंत मंगलकारी और कल्‍याणकारी होता है। (वार्ता)

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार