बलरामपुर: एनडीआरएफ ने छात्रों को दिया प्राकृतिक आपदा में बचाव कार्यों का प्रशिक्षण

डीएन संवाददाता

बाढ़, भूकंप समेत तमाम तरहे की प्राकृतिक आपदाओं में राहत एवं बचाव कार्यों की जानकारी देने के लिये एनडीआरएफ टीम द्वारा एक सेफ्टी कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस मौके पर बच्चों को आपदा के दौरान बचाव कार्यों का प्रशिक्षण भी दिया गया। पूरी खबर..

 एनडीआरएफ टीम  बच्चों को टिप्स देते हुए
एनडीआरएफ टीम बच्चों को टिप्स देते हुए

बलरामपुर: 11वीं एनडीआरएफ टीम (राष्ट्रीय आपदा मोचन बल) ने सेंट जेवियर्स स्कूल में प्राकृतिक आपदा व बाढ़ से राहत बचाओ विषय पर सेफ्टी कार्यक्रम का आयोजन किया। जिसमें एनडीआरएफ टीम ने विद्यालय में बच्चों को प्राकृतिक आपदा के दौरान बचाव के तरीके समझाये गये। इस मौके पर घायलों को दुर्घटनाग्रस्त क्षेत्र से बाहर निकालने, अत्यधिक रक्त प्रवाह की स्थिति में प्राथमिक उपचार, कंबल से इंप्रोवाइज्ड स्ट्रक्चर तैयार करना, घायल व्यक्ति को सुरक्षित स्थान पर पहुँचाना, बाढ़ से बचाव के तरीके इत्यादि की जानकारी दी गयी।

 

 

कार्यशाला में आपदा बचाओ विषय पर लेक्चर एवं डेमोस्ट्रेशन भी दिया गया। कार्यक्रम में विद्यालय प्रबंध समिति के निर्देशक सुयश आनंद एवं निर्देशिका सुजाता आनंद ने जीवन में सामाजिक दायित्व के प्रति विद्यार्थियों को जागरूक किया। विद्यालय प्राचार्य डॉ नितिन शर्मा ने कार्यक्रम से छात्रों को शिक्षा लेने एवं समाज में अपने योगदान देने पर छात्रों को प्रेरित किया साथ एनडीआरएफ टीम का आभार व्यक्त किया।

 

 

एनडीआरएफ टीम के कमांडर अब्दुल्लाह खा डायनामाइट न्यूज़ से बात करते हुए बताया कि एनडीआरएफ टीम किसी भी प्रकार के आपदा के निपटने के लिए तत्पर है। जिला प्रशासन के साथ मिलकर हमने बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का, ग्रामों का व कटान बिंदु का निरीक्षण किया है। और पूर्व में भी आई बाढ़ से होने वाली नुकसानों का अध्ययन किया है। हम गांवों में जाकर लोगों को प्राकृतिक आपदा के समय क्या क्या सावधानी बरतनी चाहिए जिसके लिए प्रशिक्षण व जागरूकता का कार्यक्रम कर रहे हैं।

 

 

इस दौरान उप कमांडर राजेश कुमार, प्राचार्य डॉ नितिन शर्मा, शिक्षक राजेश जायसवाल, लाईक अंसारी, संजय तोमर, अखिलेश तिवारी, सुप्रिया गोयल, जया सिंह, शोभित, आफाक हुसैन सहित एनडीआरएफ की पूरी टीम व विद्यालय के बच्चे मौजूद रहे।
 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार