रंगे हाथ रिश्वत लेते पकड़ा गया उत्तर प्रदेश का अधिकारी

डीएन ब्यूरो

आगरा के भ्रष्टाचार रोधी प्रकोष्ठ ने रोडवेज बस स्टैंड पर रूट बदलने में सहायक क्षेत्रीय प्रबंधक (एआरएम) को एक संविदा ड्राइवर से छह हजार रुपये रिश्वत लेते बृहस्पितवार को रंगे हाथ पकड़ा।

फाइल फोटो
फाइल फोटो

मैनपुरी: आगरा के भ्रष्टाचार रोधी प्रकोष्ठ ने रोडवेज बस स्टैंड पर रूट बदलने के एवज में सहायक क्षेत्रीय प्रबंधक (एआरएम) को एक संविदा ड्राइवर से छह हजार रुपये रिश्वत लेते बृहस्पितवार को रंगे हाथ पकड़ा। भ्रष्टाचार रोधी प्रकोष्ठ के इंस्पेक्टर जसपाल सिंह ने बृहस्पतिवार देर शाम कोतवाली में भ्रष्टाचार रोधी कानून के तहत प्राथमिकी दर्ज करायी। आरोपी हरिदास चक को शुक्रवार मेरठ की अदालत में पेश किया जाएगा। एआरएम ने हालांकि इन आरोपों से इनकार किया है और उसक कहना है कि उसे साजिश के तहत फंसाया गया है।
यह भी पढ़ें: महराजगंज: सदर और फरेन्दा तहसील में नये तहसीलदारों की तैनाती

आरोपी हरिदास


यह भी पढ़ें: डाइनामाइट न्यूज़ की खबर का बंपर असर,नाबालिग लड़कियों को मुम्बई में बेचने वालों को पुलिस ने भेजा सलाखों के पीछे

अधिकारी ने बताया, ‘‘यूपी रोडवेज में संविदा ड्राइवर के रूप में कार्यरत मैनपुरी के नखतपुर गांव के निवासी सत्यदेव यादव अपना रूट बदलवाना चाहते थे, जिसके लिए उन्होंने मैनपुरी के एआरएम हरिदास चक को आवेदन दिया था।’’ उन्होंने बताया, ‘‘यादव का आरोप है कि एआरएम ने रूट बदलने के लिए दस हजार रुपये रिश्वत मांगी थी लेकिन अंतत: मामला छह हजार रुपये में तय हुआ।’’

उन्होंने बताया कि ड्राइवर ने रिश्वत देने की बजाय भ्रष्टाचार रोधी प्रकोष्ठ, आगरा को शिकायत कर दी, जिसके बाद प्रकोष्ठ के इंस्पेक्टर जसपाल सिंह ने बृहस्पतिवार को चक को छह हजार रूपये रिश्वत लेते रंगे हाथ पकड़ा। जिलाधिकारी प्रमोद कुमार उपाध्याय ने बताया कि दो दिन पहले ही कई शिकायतें मिलने पर उन्होंने चक को चेतावनी दी थी, लेकिन उसने अपना आचरण नहीं सुधारा। (भाषा) 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार