UP में टला बड़ा रेल हादसा, क्षतिग्रस्त रेलवे ट्रैक से होकर गुजरी ट्रेन

डीएन ब्यूरो

उत्तर प्रदेश के उन्नाव जिले में गंगाघाट रेलवे स्टेशन पर बुधवार को तब अफरा-तफरी मच गई जब यहां क्षतिग्रस्त हुये रेलवे ट्रैक से ट्रेन गुजर गई। तभी वहां पर पेट्रोलिंग कर रहे गैंगमैन की इस पर नजर पड़ गई। उसने जब इसकी सूचना अधिकारियों को दी तो उनके हाथ-पांव फुल गये। डाइनामाइट न्यूज़ की रिपोर्ट में पढ़ें, आगे क्या हुआ

क्षतिग्रस्त रेलवे ट्रैक (सांकेतिक तस्वीर)
क्षतिग्रस्त रेलवे ट्रैक (सांकेतिक तस्वीर)

उन्नावः रेल हादसों पर लगाम लगती हुई नजर नहीं आ रही है। कभी यात्रियों की लापरवाही तो कभी रेलवे प्रशासन की गड़बड़ी के कारण देश में रेलवे ट्रैक पर यात्री हादसे का शिकार हो रहे हैं। उन्नाव जिले के गंगाघाट रेलवे स्टेशन पर तब अफरा-तफरी मच गई जब बुधवार को क्षतिग्रस्त रेलवे ट्रैक से पुष्पक ऊंचाहार एक्सप्रेस गुजर गई।      

यह भी पढ़ेंः होश उड़ाने वाला VIDEO: पटरी पर लेटे युवक के ऊपर से गुजरी ट्रेन, उसके बाद हुआ कुछ ऐसा..  

 

 

गैंगमैन की सतर्कता से टला हादसा 

 

वो तो गनीमत रही कि वहां पर तैनात गैंगमैन की इस पर नजर पड़ गई और उसने इसकी सूचना तुरंत रेलवे अधिकारियों को दी। सूचना मिलते ही रेलवे ने इस ट्रैक पर आ रही सभी ट्रेनों को कुछ समय के लिये रोक दिया।      

यह भी पढ़ेंः अमृतसर ट्रेन हादसाः गमगीन माहौल में भी आक्रोश, नम आंखों को अब भी अपनों की तलाश

 

 

रेलवे कर्मी ट्रैक दो दुरुस्त करते हुये (फाइल फोटो)

 

अगर रेलवे ट्रैक पर पेट्रोलिंग कर रहे गैंगमैन की इस पर नजर नहीं जाती और वह मौके पर सतर्कता नहीं बरतता तो अमृतसर जोड़ा फाटक की तरह यहां पर भी फिर से एक बार बड़ा हादसा हो सकता था। अब रेलवे क्षतिग्रस्त रेलवे ट्रैक को दुरुस्त करने में लग गया है ताकि यहां से गुजरने वाली ट्रेनों का परिचालन हो सके।    

यह भी पढ़ेंः अमृतसर ट्रेन हादसा: सरकार बोली- हादसे में रेलवे की चूक नहीं तो जांच क्यों.. 

 

 

रेलवे ट्रैक (सांकेतिक तस्वीर)

 

यह भी पढ़ेंः जब हुये ये बड़े रेल हादसे..चारों तरफ मचा था हाहाकार, मची थी चीख-पुकार  

वहीं यह ट्रैक कैसे क्षतिग्रस्त हुआ, इस पर वहां मौजूद रेलवे कर्मचारियों और अधिकारियों की नजर क्यों नहीं पड़ी इस समय फिलहाल रेलवे कुछ भी कहने से बच रहा है। बता दें कि यह कोई पहली बार नहीं है जब रेलवे की ऐसी लापरवाही सामने आई हो। इससे पहले भी देश में कई जगहों पर ऐसा हो चुका है।
 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार