बड़ी खबर: 600 से अधिक भ्रष्‍ट अफसरों पर योगी सरकार का हंटर, देखें कितनों को किया जबरन रिटायर

डीएन ब्यूरो

भ्रष्‍टाचार पर जीरो टॉलरेंस की नीति रखने वाली केंद्र सरकार के फैसलों को यूपी की योगी सरकार ने भी अपनाया है। आज प्रदेश के 600 से अधिक भ्रष्‍ट अधिकारियों पर कड़ी कार्रवाई की गई है। डाइनामाइट न्‍यूज पर पढ़ें पूरी खबर..

योगी आदित्‍यनाथ (फाइल फोटो)
योगी आदित्‍यनाथ (फाइल फोटो)

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भ्रष्टाचार के खिलाफ बड़ी कार्रवाई की है। 600 से ज्यादा अधिकारियों और कर्मचारियों के खिलाफ मुख्यमंत्री योगी ने कार्रवाई की है। 200 से अधिक लोगों को जबरन रिटायर किया गया है। वहीं अभी 200 और कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई हो सकती है। 

यह भी पढ़ें: सीएम नाराज, 19 सीएमओ के तबादले पर आनन फानन में लगी रोक

आपको बता दें कि योगी सरकार ने 400 से ज्यादा अधिकारियों और कर्मचारियों को बेहद कठोर दंड दिया गया है। अब कठोर दंड पाए किसी भी अधिकारी का प्रमोशन नहीं होगा। इसके अलावा उन्‍हें दूसरी जगहों पर भेज दिया जाएगा। 

यह भी पढ़ें: भ्रष्‍ट अफसरों को घर भेजने का सीएम ने सुनाया फरमान, अधिकारी बेचैन

ज्‍यादातर आईएस और आईपीएस अधिकारियों पर कार्रवाई की गई है। इस संबंध में सरकार में उर्जा मंत्री और प्रवक्‍ता श्रीकांत शर्मा ने बताया कि यह पहली सरकार है जिसने 600 से अधिक अधिकारियों और कर्मचारियों के खिलाफ भ्रष्‍टाचार के आरोप में कार्रवाई की है। 

यह भी पढ़ें: रिश्‍तेदारों के लिए टिकट का जुगाड़ कर रहे भाजपा सांसदों को पार्टी का झटका

इन सभी अधिकारियों पर फैसला केंद्र सरकार लेगी, इनकी लिस्ट तैयार कर केंद्र सरकार को भेजी गई है। 

गौरतलब है कि 20 जून को सचिवालय प्रशासन विभाग की समीक्षा बैठक में मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने भ्रष्‍टाचारी अधिकारियों को आड़े हाथ लेते हुए कहा था कि ऐसे अधिकारियों की सरकार में कोई जगह नहीं है इन्‍हें तत्‍काल वीआरएस दे दीजिए। 

यह भी पढ़ें: सीएम के प्रस्ताव को राज्यपाल की मंजूरी, रिटायर्ड IAS प्रभात कुमार बने यूपीपीएससी के अध्यक्ष

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार