DN Exclusive: नाबालिग़ लड़कियों को बेचा मुंबई, किसी तरह बचकर पहुँची एसपी के पास

डीएन ब्यूरो

गांव के दो लड़कों ने अपने ही गांव की दो लड़कियों को मुंबई में बेच दिया। दोनों बच्चियां मुंबई में रहने के बाद दोनों किसी तरह अपने घर पहुंची, वहां दोनों लड़कियों ने आप बीती सुनाई बताई को सभी की आंखे भर आई। पढ़ें डाइनामाइट न्यूज़ एक्सक्लूसिव..

नाबालिग लड़कियां
नाबालिग लड़कियां

महराजगंज: कोल्हुई थाना क्षेत्र के बेलासपुर गांव से 30 मार्च को गांव के ही दो लड़कों लड़के यासीन और नदीम ने अपने ही गांव की दो बच्चियों को अगवा कर और शादी -विवाह का लालच देकर उन्हें किसी गाड़ी में बैठाकर मुम्बई भेज दिया। बच्चियों ने किसी तरह ढाई महीने बिताएं और तब जाकर बच्चियां रविवार को लखनऊ रेलवे स्टेशन पर अपने परिजनों से मिलीं। रोते हुए दोनों ने आप बीती सुनाई। जिसे सुन कर सभी की आंखे भर आई।

यह भी पढ़ें: महराजगंज: नेशनल हाइवे Vs बाई-पास, कुछ सुलगते सवाल..

 कोल्हुई पुलिस अब जाकर दोनों बच्चियों की जल्द बरामदगी का दावा कर रही है। वहीं दूसरी तरफ दोनों लड़कियां खुद ही घर लौट रही हैं। इसके पहले भी लड़की के परिजन एसपी के पास तीन बार आ चुके थे। एस पी रोहित सिंह सजवान ने मामला  संज्ञान में लिया और कोल्हुई पुलिस को फटकार लगाई। इसके बाद पुलिस ने कॉल डिटेल के सहारे दोनों नाबालिग बच्चियों का लोकेशन महाराष्ट्र ट्रेस किया। देवीपाटन मंडल पुलिस ने प्रकरण से जुडे कुछ लोगों के परिजनों को थाने पर बैठाया। इस पर शुक्रवार को नाबालिग लड़कियों को अगवा करने वाले शातिर दोनों को जो उक्त गांव के ही हैं। जो गांव मे मटरगश्ती करते मजे काट रहे हैं।

यह भी पढ़ें: Maharajganj: National Highway Vs Bypass सपाइयों का साथ मिलने से व्यापारियों के आंदोलन में आया उबाल

हालांकि लड़कियों के परिजनों ने जानकारी होने पर उन लड़को के ऊपर तहरीर देकर कोल्हुई थाने में मुकदमा दर्ज करा दिया था और दोनों की गिरफ्तारी भी हो चुकी थी। लेकिन चौकाने वाली बात यह है कि उन्हें दो दिन बाद कोल्हुई पुलिस ने हरी झंडी दिखाकर रिहा कर दिया। दिलचस्प बात यह है कि आखिर कोल्हुई एसओ सतीश कुमार सिंह ने उन्हें गिरफ्तार कर मामले की पुष्टि बिना छोड़ कैसे दिया। मुम्बई से  दोनों लड़कियां किसी यात्री के सहारे झांसी और झांसी से लखनऊ रेलवे स्टेशन पर रविवार सुबह पहुंचीं। 

परिजनों का कहना है कि लड़कियां सहमी हुई हैं। वहीं कोल्हुई एसओ सतीश सिंह लड़कियों की जल्द बरामदगी कर मामले का पर्दाफाश करने की बात कह रहे हैं।जबकि उन्हें पता नहीं कि लड़कियां अपने परिवार के पास सुरक्षित पहुंच गई हैं। ढाई महीने से लड़की के परिजनों को धोखे में रखकर अब कैसे पुलिस उजागर करेगी सच ? 

यह भी पढ़ें: इटावा: छापेमारी में पुलिस ने पकड़े पांच सेक्स रैकेट, पति खुद पत्नी के लिए लाता था ग्राहक

दो नाबालिग लड़कियों के गायब होने के मामले में कोल्हुई पुलिस ने पास्को सहित अन्य गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज कर आरोपित को गिरफ्तार कर पुनः छोड़ दिया जैसा कि लड़की के परिजनों ने डाइनामाइट न्यूज़ को बताया है। सूत्रों के अनुसार पुलिस कुछ का नाम दबाव में हटा चुकी है। गायब हुईं नाबालिग लड़कियों के मामले में यह देखना अहम होगा कि पुलिस मामले की तह तक जाती है या फिर यूं ही रफादफा कर देती है।आखिर ढाई महीने से तो उक्त मामले में उलझी हुई हैं कोल्हुई पुलिस वहीं लड़की के परिजनों के पांव के चप्पल घिस गये हैं थाने का चक्कर लगाते- लगाते।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार