सबरीमाला मंदिर में महिलाओं का प्रवेश.. सुप्रीम कोर्ट कल करेगा 19 याचिकाओं पर विचार

डीएन ब्यूरो

सबरीमाला मंदिर में प्रवेश पर पाबंदी को लेकर दायर की गई 19 याचिकाओं को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने आज कहा है कि वह कल यानी मंगलवार को यह निर्णय करेगा इन लंबित पड़ी इन याचिकाओं की सुनवाई कौन सी तारीख को तय की जायेगी। डाइनामाइट न्यूज़ की रिपोर्ट में पढ़ें आखिर भगवान अयप्पा के दर्शन क्यों नहीं कर पा रही है महिलायें

सुप्रीम कोर्ट याचिकाओं  पर कल लेगा निर्णय
सुप्रीम कोर्ट याचिकाओं पर कल लेगा निर्णय

पम्बा (केरल): सबरीमाला मंदिर के कपाट सभी महिलाओं के लिये खुलने के बावूजद 5 दिन बाद भी मंदिर में कोई महिला प्रवेश नहीं कर पाई है। यह तब हो रहा है जब सुप्रीम कोर्ट ने पिछले महीने यह फैसला सुनाया था कि सबरीमाला मंदिर में 10 से 50 वर्ष की आयु वर्ग की महिलायें अब भगवान अयप्पा के दर्शन कर सकेंगी और वर्षों पुरानी चली आ रही यह प्रथा अब बदलनी चाहिये।      

यह भी पढ़ेंः सबरीमाला मंदिर को लेकर कब-कब हुई राजनीति,भारी बवाल के पीछे कौन है शामिल 

 

 

मंदिर में महिलाओं के प्रवेश का विरोध

 

इस मामले में लगातार हो रहे विरोध के बाद अब सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि है कि वह कल यानी मंगलवार को मंदिर में प्रवेश को लेकर जो 19 अन्य याचिकायें न्यायालय में दायर की गई थी उस पर सुनवाई कर यह निर्णय करेगा कि लंबित पड़ी इन 19 याचिकाओं की कब-कब सुनवाई होगी। बता दें कि मंदिर परिसर में कुछ महिला संगठन और भगवान अयप्पा के दर्शन के लिये पहुंचे श्रद्धालु यहां पर 10 से 50 वर्ष एक आयु वर्ग की महिलाओं के मंदिर में प्रवेश को लेकर पिछले 5 दिनों से प्रदर्शन कर रहे हैं। 

यह भी पढ़ेंः DN Exclusive: आखिर क्यों.. सबरीमाला मंदिर में 800 सालों से वर्जित था महिलाओं का प्रवेश?  

 

 

 

 

मंदिर में स्थिति को नियंत्रित करने के लिये राज्य पुलिस बल समेत केंद्रीय अर्धसैनिक बल भी सबरीमाला मंदिर में तैनात किये गये हैं। रविवार को यहां जब आंध्र प्रदेश की रहने वाली चार महिलायें भगवान अयप्पा के दर्शन के लिये मंदिर में प्रवेश कर रही थी तो तभी गुस्साईं भीड़ ने इन महिलाओं का रास्ता रोक लिया।    

यह भी पढ़ेंः सबरीमला मंदिर में प्रवेश को लेकर केरल में तनाव जारी, धारा 144 लागू, सड़कें पड़ी सूनी  

 

 

भगवान अयप्पा के दर्शन के लिये आई महिला

 

उन्हें वापस लौटा दिया। इस मामले में भाजपा की राज्य इकाई के अध्यक्ष पी.एस. श्रीधरन पिल्लई ने कहा है कि मुख्यमंत्री पिनरई विजयरन को विधानसभा में इसको लेकर एक विशेष सत्र बुलाना चाहिये। साथ ही केंद्र से अदालत के फैसले को रद्द कराने के लिए एक अध्यादेश लाने की भी सिफारिश करनी चाहिये।    

यह भी पढ़ेंःसबरीमाला मंदिर में प्रवेश पर दो गुटों में बंटी महिलाएं.. भारी प्रदर्शन और पथराव, कई हिरासत में  

 

 

 

मंदिर में जुटे प्रदर्शनकारी

 

अब पांच दिन बीतने के बाद सबरीमाला मंदिर के कपाट सोमवार से एक महीने के लिये बंद हो जायेंगे। यानी आज ही महिला श्रद्धालु भगवान अयप्पा के दर्शन कर सकती है इसके बाद उन्हें एक महीने तक इसका इंतजार करना पड़ेगा।
 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार