महराजगंज गोली कांड के मास्टरमाइंड भाजपा नेता चंचल चौबे को हथकड़ी लगाकर भेजा गया जेल, डाइनामाइट न्यूज़ की खबर ने मचाया तहलका

डीएन ब्यूरो

महराजगंज जिले में खबर मतलब सिर्फ डाइनामाइट न्यूज़। डाइनामाइट न्यूज़ के इन्वेस्टिगेटिव संवाददाताओं ने 24 घंटे पहले जो खबर ब्रेक की थी वह आज सौ फीसदी सच साबित हुई। जिले की पुलिस ने हमारी खबर पर मुहर लगाते हुए अब से कुछ मिनट पहले खुलासा किया है कि दो अगस्त के गोली कांड का मास्टरमाइंड भाजपा नेता चंचल चौबे ही है। कल इसे अज्ञात स्थान पर ले जाकर कड़ाई से पूछताछ की गयी और अब जुर्म कबूलने के बाद हाथों में हथकड़ी डाल चार अन्य साथियों के साथ संगीन धाराओं में मुकदमा पंजीकृत कर जेल की सलाखों के पीछे डाल दिया गया। पूरी खबर..


महराजगंज: जिले में कोई खबर होगी वह सबसे पहले डाइनामाइट न्यूज़ पर ब्रेक होगी। अपने लाखों पाठकों के भरोसे पर एक बार फिर डाइनामाइट न्यूज़ खरा उतरा है। 

यह भी पढ़ें: चार नामी आईएएस टॉपर्स देंगे नौजवानों को आईएएस की परीक्षा में सफल होने का मूलमंत्र

पिछले दस दिनों से जिले भर में एक ही खबर चर्चा का विषय बनी हुई थी कि आखिरकार महराजगंज गोली कांड का सच क्या है? किसने भारतीय जनता युवा मोर्चा के जिला मंत्री शिवभूषण चौबे उर्फ चंचल चौबे पर गोली चलवायी? भला क्यों कोई इसकी जान लेना चाहता है? 

यह भी पढ़ें: ‘डाइनामाइट न्यूज़ यूपीएससी कॉन्क्लेव 2019’ आईएएस परीक्षा से जुड़ा सबसे बड़ा महाकुंभ

गिरफ्तार पांचो अभियुक्त, लाल घेरे में काली टी-शर्ट पहने भाजपा नेता चंचल चौबे 

यह भी पढ़ें: महराजगंज गोलीकांड में बड़ी खबर: भाजपा नेता चंचल चौबे को पुलिस ने उठाया, हाईलाइट होने के लिए खुद पर चलवायी गोली?

जब डाइनामाइट न्यूज़ के इन्वेस्टिगेटिव संवाददाताओं ने गहराई से इस खबर की पड़ताल की तो इसमें कई सुराख नजर आय़े। फिर डाइनामाइट न्यूज़ ने 3 अगस्त को ही यह खबर ब्रेक कर दी थी कि मामले में ऐसा कुछ भी नजर नहीं आ रहा जैसा भाजपा नेता अपने हत्या की मकसद से गोली चलाये जाने का दावा कर रहा है। फिर पुलिस के भरोसमंद सूत्रों ने जो अंदर की खबर हमें दी उसके बाद रविवार को डाइनामाइट न्यूज़ ने इस बात का भंडाफोड़ कर दिया था कि रंगबाजी के चक्कर में चंचल चौबे ने खुद पर अपने साथियों से मिलकर गोली चलवायी ताकि रातों-रात वह उभरता हुआ नेता बन सके। कल ही पुलिस इसे टांगकर अज्ञात स्थान पर ले गयी थी। पहले तो चंचल पुलिस को खूब गुमराह करता रहा लेकिन थर्ड डिग्री के इस्तेमाल के बाद वह टूट गया और फिर इसने अपना जुर्म कबूल कर लिया। 

यह भी पढ़ें: महराजगंज: BJP नेता पर फायरिंग मामले में जितने मुंह उतनी बातें, साजिश की भी चर्चाएं तेज

अब से कुछ देर पहले पुलिस ने मामले का खुलासा किया है। फायरिंग के पीछे चंचल को रातों-रात स्टार बनाना था और साथ ही इसे सरकारी गनर और असलहे का लाइसेंस दिलाने के उद्देश्य से इस घटना को अंजाम दिया गया। 

32 बोर की बरामद पिस्टल

इन पांच की हुई गिरफ्तारी
1.    शिवभूषण चौबे उर्फ चंचल पुत्र कौशल किशोर चौबे, निवासी- मुहल्ला- पंत नगर, महराजगंज
2.    रविशंकर पांडेय पुत्र राधेश्याम, निवासी- वार्ड नंबर 9, केशोपुर, नगर पंचायत- सहजनवा, गोरखपुर
3.    सुरेन्द्र उर्फ भोलू सिंह पुत्र श्रीराम, निवासी- ग्राम जड़ार, थाना-पनियरा, महराजगंज
4.    श्याम कश्यप पुत्र शिखर चंद्र, निवासी- वार्ड नंबर 5, मुहल्ला- अशोक नगर, महराजगंज
5.    अरुण तिवारी पुत्र स्व. वीर बहादुर, निवासी- खेमपिपरा, थाना- कोतवाली- महराजगंज

यह भी पढ़ें: BJP नेता पर फायरिंग मामले में Police ने आधा दर्जन लड़कों को उठाया, मचा हड़कंप

बरामद पिस्टल के बाक्स पर पूरा विवरण 

पिस्टल औऱ मोटरसाइकिल की बरामदगी
1.    CMP 32 बोर पिस्टल एक अदद, 2 अदद जिंदा कारतूस 32 बोर
2.    1 मोटरसाइकिल HF Delux UP 53 CY 6025 
3.    1 मोटरसाइकिल अपाचे टीवीएस नंबर UP 56 S 4103 
4.    मोबाइल फोन 8 
5.    1700 रुपये नकद 

पुलिसिया कहानी के मुताबिक ये सभी अभियुक्त 2 अगस्त को वैकुंठपुर मुहल्ले स्थित चौबे के कमरे पर शाम 6 बजे एकत्रित हुए और फिर वहीं से प्लानिंग कर एक साथ निकले। मोनू और चंचल एक मोटरसाइकिल पर सवार हो आगे-आगे चले फिर इसके पीछे दूसरी मोटरसाइकिल पर भोलू, सुरेन्द्र और रविशंकर चल दिये। तीसरी मोटरसाइकिल पर श्याम कश्यप व अरुण तिवारी निगरानी करते हुए चलने लगे। मोनू और चंचल के रक्षा स्वीट में प्रवेश कर जाने के बाद योजना के मुताबिक हैलमेट पहने हुए रविशंकर पांडेय ने मिठाई की दुकान के दरवाजे पर दो फायर झोंक डाला और फिर आराम से भाग निकला। 
इन संगीन धाराओं में दर्ज हुआ मुकदमा
1.    मुकदमा अपराध संख्या 527/2019, धारा 307,109, 505, (1बी), 427, 120बी भादवि और 7 क्रिमिनल लॉ अंमेडमेंड एक्ट 
2.    मुकदमा अपराध संख्या 538/2019, धारा 3/25 आर्म्स एक्ट

पैरोकार नेताओं को सूंघा सांप
दो अगस्त को इस दुस्साहसिक घटना के बाद भाजपा के नेताओं ने हाय-तौबा मचाना शुरु कर दिया। बिना अपने सूत्रों से जानकारी जुटाये भाजपा जिलाध्यक्ष अरुण शुक्ला से लेकर विधायक जयमंगल कन्नौजिया और प्रेमसागर पटेल कोतवाली पहुंच गये और चंचल चौबे की पैरोकारी शुरु कर दी। अब जब इस मामले में खुद चौबे को हथकड़ी लग गयी है तो इन नेताओं को बोलते नहीं सूझ रहा कि आखिर वे क्यों बिना सोचे-समझे एक अपराधी की ही पैरवी करने चले गये। 

अंदर के बेहद भरोसेमंद सूत्रों की मानें तो जिले के नेताओं की इस करतूत के बारे में जिम्मेदारों ने लखनऊ के उच्च सत्ता प्रतिष्ठान में सिलसिलेवार ढंग से जानकारी दे दी है कि कैसे सत्तारुढ़ दल के नेता के भेष में छिपे अरपराधी कानून-व्यवस्था से खिलवाड़ कर अपनी ही सरकार को बदनाम कर रहे हैं और ऐसे अपराधियों की पैरवी सत्ताधारी नेता ही कर रहे हैं।

देखिये घटना के तुरंत बाद चंचल चौबे की पैरवी में कैसे नेताओं ने मचायी हाय-तौबा

 

देखिये घटना के तुरंत बाद कैसे झूठ बोल रहा था चंचल चौबे 

 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार