यूपी में बड़े पैमाने पर शराब माफियाओं ने मचाया तांडव, कुशीनगर और सहारनपुर में बड़े पैमाने पर हुई मौतें..

डीएन ब्यूरो

उत्तर प्रदेश में अवैध शराब का धंधा बेहद खतरनाक हो गया है। गांवों में धधक रहीं आग की भट्टियों ने कुशीनगर के बाद अब सहारनपुर में अपना कहर ढाया है, जहां अवैध शराब के सेवन से 24 लोगों की मौत हो गई है जबकि कई की हालत गंभीर बनी हुई है। पढ़ें डाइनामाइट न्यूज़ की रिपोर्ट..

कुशीनगर के बाद सहारनपुर में जहरीली शराब से हुई मौतें
कुशीनगर के बाद सहारनपुर में जहरीली शराब से हुई मौतें

सहारनपुर: जिले के लोगों के लिए बीती रात  काली रात साबित हुई। यहां के चार थाना क्षेत्र के विभिन्न गांवों में कल रात को अवैध शराब के सेवन से 24 लोगों की मौत हो गई जबकि कई लोगों की हालत गंभीर बनी हुई है। इनका मेरठ के साथ सहारनपुर में इलाज चल रहा है। यहां के नागल के गांव सलेमपुर में आठ, उमाही में नौ, गागलहेड़ी के गांव शरबतपुर में तीन, गागलहेड़ी के गांव मालीपुर में तथा देवबन्द के दंकोपुर गांव में दो-दो व्यक्ति ने दम तोड़ दिया है। वहीं अब भी दस लोगों की हालत बेहद गंभीर बनी है। इन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया है।  
आज सुबह सबसे पहले गांव उमाही में जहरीली शराब पीने से 5 लोगों के मरने की खबर आई थी। 

 

यह भी पढ़ें: यूपी के कुशीनगर में ज़हरीली शराब से हुई मौतों के सवाल पर बिफरे यूपी के डीजीपी, वीडियो में देखें क्या कहा..

कुशीनगर में हुई 10 मौतें 
आपको बता दें कि सहारनपुर से पूर्व कुशीनगर के तरयासुजान थाना क्षेत्र में जहरीली शराब पीने से दस लोगों की मौत का मामला सामने आया था। जहरीली शराब पीने से गुरुवार को पांच और लोगों की मौत हो गई, जबकि  इससे पहले बुधवार को भी पांच लोगों ने दम तोड़ा था। मरने वालों में दो सगे भाई भी हैं। 

यह भी पढ़ें: सहारनपुर: ट्रैक्टर पलटने से किसान पिता-पुत्र समेत तीन की मौत, एक घायल

इस मामले में प्रारंभिक जांच से यह बात सामने आई थी कि रामनाथ के घर हुई बर्थडे पार्टी में लोगों को जहरीली शराब परोसी गई थी जिसके कारण लोगों की मौत हो गई थी। लगातार हो रही मौतों से बिहार के सीमावर्ती क्षेत्र में दहशत है। उधर, क्षेत्रीय आबकारी निरीक्षक हृदय नारायण पांडेय को निलंबित कर दिया गया है। उन्हें आबकारी आयुक्त कार्यालय इलाहाबाद से संबद्ध किया गया है। तरयासुजान एसओ को भी लाइनहाजिर कर दिया गया है।

 

लोगों की जान का अजाब बन बैठी है जहरीली शराब

मौनी अमावस्या पर सोमवार को विरवट कोन्हवलिया के पास गंडक नदी के घाट पर लगे मेले में बेची गई जहरीली शराब  लोगों की जान का अजाब बन बैठी है। लगातार इनसे लोगों के मरने की खबरें आ रही हैं। जहरीली शराब पीने से होने वाली मौतों की संख्या लगातार बढ़ने से प्रशासन में हड़कंप मचा है। बुधवार से अब तक 24 लोगों के मरने की खबर आ चुकी है वहीं कई अब भी अस्पताल में भर्ती हैं। इनकी हालत गंभीर बनी हुई है। आपको बता दें कि वर्ष 2009 में जहरीली शराब पीने से देवबंद क्षेत्र में 30 लोगों की मौत हो गई थी।

यह भी पढ़ें: यूपी के कुशीनगर में वायुसेना का लड़ाकू विमान क्रैश, धू-धू कर जलने लगा जगुआर

सीएम योगी ने पीड़ितों के लिए की आर्थिक मदद की घोषणा
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कुशीनगर और सहारनपुर में जहरीली शराब से हुई मौतों का जायज़ा लिया है। उन्होंने सहारनपुर के साथ कुशीनगर के जिलाधिकारी को निर्देश दिया है कि वे पीड़ितों को समुचित चिकित्सा सुविधा उपलब्ध करवाएं। साथ ही उन्होंने मृतकों के आश्रितों को दो-दो लाख रुपय तथा अस्पतालों में उपचार करा रहे पीड़ितों को 50-50 हजार रुपय की आर्थिक सहायता देने की घोषणा की है व आबकारी और पुलिस विभाग को अवैध शराब से जुड़े लोगों के खिलाफ 15 दिन में संयुक्त अभियान चलाने का भी आदेश दिया है।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)