बदहाल रास्‍तों से जनता की कमर टूटे या हाथ पैर, नेता व अधिकारियों को नहीं है फिक्र

डीएन ब्यूरो

लोकसभा चुनाव चल रहा है, जनता के सामने नेता पहुंच रहे हैं। सड़क, पानी और बिजली दिलाने के वादों को दोहरा रहे हैं लेकिन सिसवा ब्‍लॉक की यह सड़क वर्तमान सांसद और विधायक के लिए भी बड़ा सवाल है कि जनता किस तरह उनके वादों पर अब विश्‍वास करे। साथ ही जो लोग अभी उम्‍मीदवारी का परचम लिए खड़े है उनके लिए भी यह एक चेतावनी है कि जनता वादे नहीं धरातल पर हुए विकास को ही महत्‍व देती है।


महराजगंज: जिले के सिसवा ब्‍लॉक की सड़कों की हालत बदतर है। सिसवा ब्‍लॉक के क्षेत्र पंचायत कार्यालय और कुशीनगर जिले को जोड़ने वाली सड़क की हालत बेहद खराब है। आए दिन हादसे होते रहते हैं लेकिन न प्रशासन न नेता, कोई सुध लेने को तैयार नहीं है। खराब रास्‍ते की बानगी इस खबर के वीडियो में स्‍पष्‍ट देखी जा सकती है।

यह भी पढ़ें: कुशीनगर इंटरनेशनल एयरपोर्ट से 19 जुलाई से शुरू होगी उड़ान

महराजगंज के सिसवा बाजार के ब्‍लॉक रोड पर गड्ढों से जनता त्रस्‍त है। क्षेत्र पंचायत कार्यालय और कुशीनगर जिले तक जाने वााली इस रोड पर आए दिन हादसे होते हैं। उखड़ी सड़क पर वाह बेहद ही सुस्‍त रफ्तार में चलाना पड़ता है। नेता और अधिकारी भी इस रास्‍ते का आना-जाना होता है लेकिन मूल समस्‍या का समाधान करने का प्रयास कोई नहीं करता है।

महराजगंज : ग्रामीणों ने सरकारी राशन पकड़ा, सूचना देकर किया पुलिस के सुपुर्द

सिसवा बाजार के क्षेत्र पंचायत कार्यालय से कुशीनगर तक जाने वाली उखड़ी सड़क से स्‍कूल जाते बच्‍चे

महराजगंज: सड़क पर खड़े टैंकर में यात्रियों से भरी बस ने मारी जोरदार टक्कर, दर्जनों घायल

ज्ञात हो कि यह सड़क एक वर्ष पहले ही बनवाई गई थी। हालांकि आज इसकी हालत देखकर यह कतई नहीं कहा जा सकता है कि इस पर कभी तारकोल भी डाला गया होगा। उखड़े पत्‍थरों और बजरी से पटी सड़क एक अलग ही बानगी पेश करती है। 

यह भी पढ़ें: लखनऊ-आगरा एक्‍सप्रेस-वे पर भीषण हादसा, चलती बाइक में लगी आग

आसपास के गांव वाले बताते हैं कि बनने के बाद बहुत जल्‍द ही रोड टूटने लगा था जिसकी मरम्‍मत भी नहीं की गई जिससे धीरे-धीरे पूरी रोड टूट गई। अब तो पता ही नहीं चलता है कि सड़क में गड्ढे हैं या गड्ढों में सड़क है। 

यह भी पढ़ें:  गोरखपुर में नहाने गए तीन किशोरों की राप्‍ती नदी में डूबने से मौत, परिवार में कोहराम

बरसात में सड़क की हालत हो जाती है बदतर

वहीं बरसात के मौसम में सड़क की स्थिति और अधिक खराब हो जाती है। पूरी सड़क पर भयानक कीचड़ हो जाता है जिससे फिसलकर कई बार मोटरसाइकिल, साइकिल और पैदल चलने वाले लोग गिरते हैं। साथ ही इसी सड़क से कुशीनगर और आसपास के क्षेत्र के बच्‍चों का स्‍कूल आना जाना भी होता है। इस सबके बावजूद प्रशासन बेपहवाह होकर शायद किसी बड़े हादसे का इंतजार कर रहा है जिसके बाद प्रशासन की कुंभकर्णी नींद खुले और सड़क को दुरुस्‍त कराया जााए।

लखनऊ: कबाड़ मंडी में अचानक आग लगने से हड़कंप.. यहां खड़ी ट्रक व गाड़ियां भी जलकर खाक

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार