महराजगंज: सदर एसडीएम ने तहसील दिवस को बनाया मजाक, हर टेबल पर दलालों का कब्जा

डीएन संवाददाता

प्रदेश के बदनाम पीसीएस अफसरों में शुमार उप जिलाधिकारी सदर ज्ञानेश्वर प्रसाद का एक औऱ नया काला कारनामा सामने आया है। सीएम के आदेशों को सीधी चुनौती देते हुए इन्होंने तहसील दिवस तक को मजाक बनाकर रख दिया है। गरीब फरियादी तड़पता रहे..मर जाये..लेकिन 'नीली बत्ती' के गैरकानूनी उपयोग के 'नशे में चूर' को कोई फर्क नही पड़ता। पूरी खबर..


महराजगंज: 'नीली बत्ती' के 'नशे में चूर' 'साहब' के राज में सदर क्षेत्र में भू-माफियाओं, अवैध कब्जेदारों, दलालों, दबंगों और धनपशुओं की पौ-बारह है। शासन की प्राथमिकताओं में शुमार है तहसील दिवस। इसका मकसद है कि एक छत के नीचे सभी अधिकारी मौजूद हों और गरीब फरियादियों को दौड़ना न पड़े और उनकी समस्याओं का समाधान हो जाये लेकिन एसडीएम सदर के राज में किसी गरीब को तहसील दिवस में न्याय नही मिल पा रहा है और न ही उनकी समस्या का समाधान हो पा रहा है। 

यह भी पढ़ें: महराजगंज तहसील में भ्रष्टाचार का नंगा खेल, जनता त्रस्त.. तहसीलदार- एसडीएम मस्त 


भू-माफियाओं का आतंक

डाइनामाइट न्यूज़ के खोजी रिपोर्टर्स की टीम को कड़ाके की ठंड में तहसील परिसर में अफसरों की चौखट पर भटकते हुए पकड़ी विशुनपुर गांव के चन्द्र मोहन पांडेय मिले इन्होंने बताया कि गांव के दबंगों ने उनकी जमीन पर कब्जा कर लिया है। तहसील दिवस में दौड़ते-दौड़ते थक गया हूं..कोई सुनवाई नही हो रही.. रस्म अदायगी के तौर पर प्रार्थना पत्रों पर साहब कलम चला देते हैं..नतीजा कुछ नही निकलता.. होता वही है जो दलाल और दबंग चाहते हैं। किसी गरीब व पीड़ित को न्याय नही मिल रहा है। कोई सुनने वाला नही है।   

यह भी पढ़ें: महराजगंज: एसडीएम ने उड़ायी नियमों की धज्जियां.. कहा- लगाऊंगा नीली बत्ती..बोलो क्या बिगाड़ लोगे? 

कब मिलेगा गरीब को मुआवजा

चन्द्र मोहन अकेले पीड़ित नही हैं। इनकी तरह सैकड़ों हैं। पिपरा सोनाड़ी गांव के राधेश्याम ने डाइनामाइट न्यूज़ को बताया कि उनकी जमीन में सड़क बना दी गयी। मुआवजे देने के बारे में तहसीलदार ने रिपोर्ट भी लगा दी लेकिन आज तक मुआवजा नही दिया गया। साहब के वहां चक्कर लगाते-लगाते थक गया लेकिन कोई सुनने वाला नही। 

यह भी पढ़ें: महराजगंज तहसील में मचे भ्रष्टाचार की कहानी..पीड़ितों की जुबानी 

नीली बत्ती के नशे में चूर हैं साहब

नीली बत्ती के नशे में चूर साहब निश्चिंत है कि 21 फरवरी तक मतदाता सूची में पुनरीक्षण के काम के चलते कुर्सी तो हिलेगी सो जजमकर जितना लूट सको उतना लूट लो इसके बाद आराम से घर के पास झांसी में नौकरी की जायेगी..लेकिन साहब को शायद इसका अंदाजा भी न हो कि झांसी की नौकरी अब महराजगंज जैसी आसान नही रहने वाली। समाज के सजग प्रहरी आपके आगमन की बेसब्री से प्रतीक्षा कर रहे हैं..

आम जनता से अपील: यदि आप भी एसडीएमतहसीलदार के भ्रष्टाचार रिश्वतखोरी से पीड़ित हैं तो सबूतों के साथ हमें ई-मेल करें info@dynamitenews.com 

 








संबंधित समाचार