UP: रिश्वत मांगने वाले तीन मंत्रियों के मुख्य सचिव निलंबित.. करोड़ों के डील के स्टिंग की जांच करेगी SIT

डीएन ब्यूरो

तीन मंत्रियों के निजी सचिवों पर भ्रष्टाचार का आरोप लगने के बाद सरकार ने सख्त रुख अख्तियार किया है। मंत्रियों के तीनों मुख्य सचिवों को निलंबित कर दिया है। डाइनामाइट न्यूज की एक्सक्लूसिव रिपोर्ट में पड़ें क्या है पूरा मामला..

स्टिंग आपरेशन के वीडियो का फोटो
स्टिंग आपरेशन के वीडियो का फोटो

लखनऊ: यूपी की योगी सरकार में पिछड़ा वर्ग कल्याण मंत्री ओम प्रकाश राजभर, खनन राज्यमंत्री अर्चना पांडेय और बेसिक शिक्षा राज्यमंत्री संदीप सिंह के निजी सचिव पैसे के बदले तबादले, ठेका-पट्टा दिलाने के लिए डीलिंग करते हुए नजर आए थे। एक निजी चैनल के द्वारा करोड़ो की डील के स्टिंग ऑपरेशन के बाद में खलबली मची हुई है। फिलहाल स्टिंग में घूस का मामला सामने आने के बाद में तीनो मंत्रियों के निजी सचिवों को निलंबित कर दिया गया है। इस बडे मामले की जांच एसआईटी को सौंप दी गई है। 

यह भी पढ़ें: लखनऊ: राज्यपाल राम नाईक ने परेड की ली सलामी ..पुलिस अधिकारियों को किया सम्मानित 

सांकेतिक तस्वीर

मामला सामने आने के बाद राज्य के हजरतगंज थाने में तीनों निजी सचिवों के खिलाफ एफआईआर दर्ज हुई है। सरकार ने लखनऊ के एडीजी राजीव कृष्ण की अगुवाई में एक एसआईटी का गठन किया है। सरकार ने जो एसआईटी बनाई है उसमें आईजी एसटीएफ और विशेष सचिव आईटी राकेश वर्मा को शामिल किया गया है। एसआईटी जल्द ही अपनी रिपोर्ट सौंपेगी। इस मामले की रिपोर्ट कमेटी को 10 दिनों में देनी है।

यह भी पढ़ें: अनुप्रिया पटेल ने की बड़ी घोषणा.. भाजपा के किसी कार्यक्रम नही होंगी शामिल 

बता दें कि सामने आई स्टिंग में विधानभवन स्थित कार्यालय में मंत्री राजभर के निजी सचिव ओम प्रकाश कश्यप ने बेसिक शिक्षा विभाग में तबादले को लेकर रिश्वत मांगी। स्कूलों में बैग और ड्रेस की सप्लाई के लिए मिलने वाले ठेके के लिए बेसिक शिक्षा मंत्री अनुपमा जायसवाल के पति से डील कराने की बात भी की।  वहीं, खनन राज्यमंत्री अर्चना पांडेय के निजी सचिव एसपी त्रिपाठी भी सहारनपुर समेत आधा दर्जन जिलों में खनन पट्टा दिलाए जाने के लिए डील करते स्टिंग में नजर आ रहे हैं। जबकि तीसरा मामला बेसिक शिक्षा राज्यमंत्री संदीप सिंह के निजी सचिव संतोष अवस्थी का है। अवस्थी को किताबों का ठेका दिलाने के लिए डील करते हुए दिखाया गया है। इसमें निजी सचिव अपने हिस्से की मांग कर रहे हैं।
 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)










आपकी राय

Loading Poll …