वीडियो: बीजेपी कार्यकर्ताओं ने कंबल वितरण समारोह में बार बालाओं से कराया अश्लील डांस

डीएन संवाददाता

सोचिए उन नेताओं की मानिकता कैसी होगी जो समाजिक कल्याण के नाम पर आयोजित किए गए कार्यक्रमों में अश्लील गाने चलवाकर लड़कियों को स्टेज पर खड़ा कर दे देते हैं और बोलते हैं नाचो! हाल ही में बीजेपी कार्यकर्ताओं ने एक कंबल वितरण कार्यक्रम में ऐसा ही किया। डाइनामाइट न्यूज़ की एक्सक्लूसिव रिपोर्ट..


लखनऊ: उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में हिंदू युवा वाहिनी के द्वारा आयोजित एक कंबल वितरण कार्यक्रम में बार बालाओं से जमकर ठुमके लगवाए गएं। बार बालाओं के डांस का वीडियो वायरल होने के बाद सोशल मीडिया पर लोग हिंदू युवा वाहिनी को लगातार निशाने पर ले रहे हैं। 

यह भी पढ़ें: लखनऊ: पुरानी पेंशन बहाली को लेकर सरकारी कर्मचारियों ने एक बार फिर भरी हुंकार

लखनऊ के इंटौजी थाना क्षेत्र के अंतर्गत हिंदू युवा वाहिनी के नेता विमल सिंह पवाँर के द्वारा 21 जनवरी को यह कंबल वितरण कार्यक्रम आयोजित किया गया था। इस कार्यक्रम में बीजेपी कार्यकर्ताओं समेत कई स्थानीय नेता मौजूद थे। कार्यक्रम में पहले कंबल वितरण किया गया। उसके बाद मुंबई से बुलाई गईं बालाओं से जमकर अश्लील डांस करवाया गया।

अश्लील डांस के दौरान बैनर में पीएम मोदी समेत स्वामी विवेकानंद की तस्वीर होना सबसे शर्मनाक बात थी 

विमल सिंह पवाँर पेशे से एडवोकेट हैं, मतलब पढ़ें-लिखे हैं। स्टेज पर लगे बैनर में मुख्यमंत्री योगी के साथ उनकी भी तस्वीर लगी थी और नाम के आगे लिखा था “एडवोकेट”। हैरानी की बात तो यह थी कि यह कंबल वितरण कार्यक्रम महादेव मंदिर के पास आयोजित किया गया था और बार बालाओं के डांस करते वक्त भी मुख्यमंत्री योगी की तस्वीर वाला बैनर पीछे लटका हुआ था। सबसे शर्मनाक बात तो यह थी कि बैनर में न केवल मुख्यमंत्री योगी की, बल्कि देश के प्रधानमंत्री मोदी समेत स्वामी विवेकानंद की तस्वीर भी लगी हुई थी।

यह भी पढ़ें: लखनऊ: आईजी रेंज एसके भगत ने 26 जनवरी से पहले सुरक्षा संबंधी तैयारियों का लिया जायजा

अब वीडियों वाइरल होने के बाद हिंदू युवा वाहिनी की जमकर निंदा हो रही है। हालांकि कार्यक्रम के आयोजक तथा हिंदू युवा वाहिनी के नेता विमल सिंह पवाँर ने इस पर सफाई दी है। उनका कहना है कि डांस सिर्फ मनोरंजन के लिए था, इसमें अश्लीलता नहीं खोजनी चाहिए। उन्होंने मीडिया में बयान देते हुए कहा, 'मैंने अपने पैसे से कंबल वितरण कार्यक्रम का आयोजन किया था। कंबल वितरण के बाद गांव के लोगों के मनोरंजन के लिए डांस प्रोग्राम रखा गया था। इसके लिए मुंबई से एक पार्टी बुलाई गई थी।' 
लेकिन फिर भी सोचिए ऐसे नेताओं की सोच कैसी होगी जो समाजिक कल्याण के नाम पर आयोजित किए गए कार्यक्रमों में अश्लील गाने चलवाकर लड़कियों को स्टेज पर खड़ा कर दे देते हैं और बोलते हैं, नाचो!

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)










आपकी राय

Loading Poll …