निर्भया गैंगरेप पर भी विविदित बयान दिया था बलात्कारी आसाराम ने

डीएन ब्यूरो

आसाराम कई बार अपने बयानों को लेकर भी विवाद में रहे हैं। आज अदालत द्वारा सजा सुनाये जाने के बाद भक्तों को आसाराम की हकीकत का पता चल गया है। पूरी खबर..

फाइल फोटो
फाइल फोटो

जोधपुर: नाबालिग से रेप के मामले में उम्र कैद की सजा पाने वाला आसाराम को उसके भक्त एक बार भगवान की तरह मानते थे और घऱों में उसकी पूजा करते थे। आशाराम के कोई एक दो समर्थक नहीं, बल्कि करोड़ों भक्त थे। आज अदालत द्वारा सजा सुनाये जाने के बाद भक्तों को आसाराम की हकीकत का पता चल गया है।

यह भी पढ़ें: उम्र कैद की सजा सुनते ही सिर पकड़कर कोर्ट में रोने लगा आसाराम 

आज से पहले आसाराम पर लगे बलात्कार के आरोपों पर उसके भक्तों को भरोसा नहीं था। अदालत के फैसले के बाद आसाराम के करोड़ों भक्तों के साथ-साथ अन्य लोगों का भी उससे विश्वास उठ गया।

यह भी पढ़ें: आसाराम के यौन शोषण की कहानी, नाबालिग पीड़िता की जुबानी

आसाराम कई बार अपने बयानों को लेकर भी विवाद में रहे हैं। दिसंबर 2012 में हुए निर्भया कांड ने दिल्ली समेत पूरे देश को हिलाकर रख दिया था, उस पर आसाराम ने तब एक बहुत ही बेतुका और शर्मनाक बयान दिया था कि इस रेप में केवल 5-6 आरोपी ही अपराधी नहीं, बल्कि बलात्कार की शिकार लड़की भी दोषी है। आसाराम ने कहा था कि वह पीड़िता अपराधियों को भाई कहकर पुकार सकती थी, इससे उसकी इज्जत और जान भी बच सकती थी। उन्होंने कहा था कि क्या ताली एक हाथ से बज सकती है, मुझे तो ऐसा नहीं लगता।

यह भी पढ़ें: नाबालिग से रेप के दोषी आसाराम को आजीवन कारावास, दो दोषियों को 20-20 साल की सजा 

उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर की एक नाबालिग लड़की की शिकायत पर आसाराम को गिरफ्तार किया गया था। वह मध्यप्रदेश के छिंदवाड़ा में आसाराम के आश्रम में पढ़ाई कर रही थी। पीड़िता ने आरोप लगाया था कि आसाराम ने जोधपुर के मनाई इलाके में स्थित अपने आश्रम में उसे बुलाया और 15 अगस्त 2013 की रात में उसके साथ बलात्कार किया। 

यह भी पढ़ें: नाबालिग से रेप के मामले में आसाराम समेत तीन दोषी करार, सजा का ऐलान थोड़ी देर में

31 अगस्त 2013 को आशाराम के शुरूवाती छानबीन को बाद आशाराम को जोधपुर पुलिस ने गिरफ्तार कर जेस भेज दिया था लेकिन लगभग 5 साल के बाद आज  फैसला आया जिसमें आसाराम दोषी पाया गया। और आज उसके किए गए दुष्कर्मों की सजा आखिर मिल ही गयी।
 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)