Uttar Pradesh: दिवाली के पर्व पर बढ़ी दीयों की मांग, कारोबारियों के चेहरों पर आई मुस्कान

डीएन ब्यूरो

दिपावली में दीयों की रोशनी के बिना त्योहार अधूरा सा लगता है। इस समय कारोबिरियों के चेहरे पर रौनक दिखाई देती है। इस समय दीयों की मांग बढ़ जाती है। जिससे दिए बनाने वाले कारीगरों की आमदनी भी अच्छी होती है। पढ़ें डाइनामाइट न्यूज़ पर पूरी खबर..


महराजगंजः दिवाली में अब भले ही लोगों के घर रंग-बिरंगी झालर और फैन्सी लाइट्स ने ले लिया है, पर दियों की रौशनी की बात ही अलग होती है। आज भी अधिकतर लोग मिट्टी के दियों से अपने घर की रौनक को बढ़ाते हैं।

यह भी पढ़ेंः कनाडियन मटर और लतरी दाल के साथ दो तस्‍करों को पुलिस ने धर दबोचा

आज भी मिट्टी के दीयों की मांग कम नहीं हुई है। ऐसा ही कुछ देखने को मिल रहा है फरेंदा तहसील क्षेत्र के मुड़ीला और मथुरानगर टोला फुलवरिया में। जहां दीयों की बढ़ती मांग को देखकर कारोबारियों के चाक तेज होते जा रहे हैं। यहां के निवासियों का कहना है कि धिकांश घरों के छज्जों पर बिजली की झालरें रंग-बिरंगी रोशनी बिखेरती हों, पर जिन घरों के मुंडेरों पर मिट्टी के दीये झिलमिलाते रोशनी की छटा बिखरेती हैं।

यह भी पढ़ेंः चोरी के लैपटॉप और अवैध चरस के संबंध में दो आरोपियों की गिरफ्तारी

दीपावली पर्व पर सरसों तेल का दिया जलाना शुभ है और स्वास्थ्य के साथ-साथ आंखों की रोशनी के लिए भी लाभकारी है।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार