जीएसटी काउंसिल ने जनता को दी राहत, 66 प्रोडक्ट्स पर घटाया टैक्स

डीएन संवाददाता

भारत के सबसे बड़े टैक्स सुधार जीएसटी की दरों में एक बार फिर से बदलाव किया गया है। जीएसटी काउंसिल की बैठक के बाद 66 प्रॉडक्ट्स के टैक्स दरों में बदलाव किया गया है।

प्रेस को संबोधित करते अरूण जेटली
प्रेस को संबोधित करते अरूण जेटली

नई दिल्ली: राजधानी दिल्ली में जीएसटी काउंसिल की बैठक हुई जिसकी अध्यक्षता केंद्रीय वित्तमंत्री अरूण जेटली ने की। इस बैठक में कई महत्वपूर्ण निर्णय पर मुहर लगी और कई गुड्स पर टैक्स रेट्स को कम किया गया है। बैठक में करीब 133 सामानों पर जीएसटी की दर को पुर्नविचार के दायरे में लाने का प्रस्ताव सामने आया था। इसके बाद लगभग 66 उपभोक्ता वस्तुओं पर कर की दर को कम कर दिया गया है। इस सामान में इंसुलिन पर टैक्स रेट 12 फीसद से घटाकर 5 फीसद कर दी गई है वहीं टोमैटो कैचअप, पैक्ड फूड्स और मसाले समेत कई प्रोडक्ट के टैक्स रेट को भी कम कर दिया गया हैं।

 

काजू, डिब्बा बंद खाद्य सामग्रियों, अगरबती, डेंटल वैक्स, इंसुलिन, प्लास्टिक बीड्ज, प्लास्टिक तिरपाल, स्कूल बैग्स, क़िताब, रंगीन क़िताब, पाइप, छुरी-काँटा, ट्रैक्टर, कंप्यूटर, प्रिंटर्स और फ़िल्मों पर लगने वाले इंटरटेनमेंट टैक्स में भी कटौती की गई है।

 

इस अहम बैठक के बाद केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि जीएसटी काउंसिल ने आज कई गुड्स पर टैक्स रेट कम करने का फैसला किया है। इससे आम आदमी के लिए कई सामान सस्ते हो जाएंगे। हालांकि इससे सरकार के राजस्व पर जरूर असर होगा। उन्होंने कहा कि जीएसटी काउंसिल ने कंपोजिशन की लिमिट 75 लाख कर दी गई है। इस तरह से 50 लाख की बजाय अब 75 लाख के टर्नओवर वाला बिजनेस जीएसटी के दायरे से बाहर हो जाएगा। इसके तीन तरह के कारोबारियों को फायदा होगा। 













संबंधित समाचार