गोरखपुरः टेराकोटा हस्तशिल्प के नेहरू भी थे दिवाने..विदेशों तक फेमस है कलाकृति

डीएन संवाददाता

गोरखपुर के औरंगाबाद गांव की टेराकोटा हस्तशिल्प की सुंदर कलाकृतियों की तरफ लोगों का आर्कषण न हो ऐसा हो ही नहीं सकता। ये कुम्हारों की कुछ ऐसी कृतियां है जिन्होंने एक बार देश के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू को भी दिवाना बना दिया था। डाइनामाइट न्यूज़ की विशेष रिपोर्ट में पढ़ें इस कलाकृति की खासियत


गोरखपुरः त्यौहारी सीजन चल रहा है और धनतेरस और दिवाली पर गोरखपुर के औरंगाबाद गांव की टेराकोटा हस्तशिल्प का नाम आते ही उसकी एक से बढ़कर एक सुंदर कलाकृतियों की तरफ सबका ध्यान चला ही जाता है। इन्हें बनाने वाले कई कुम्हारों को इसी कला की वजह से सात समंदर पार जाने का मौका भी मिल चुका है। इनके हाथों का जादू अब हर किसी के सिर चढ़कर बोल रहा है। 

इनमें से कुछ कुम्हारों को नेशनल और इंटरनेशनल लेवल अवॉर्ड भी मिल चुके हैं। गोरखपुर शहर से महज 15 किलोमीटर दूर औरंगाबाद अपने टेराकोटा हस्तशिल्प के लिए भारत मे ही नहीं विदेशों मे भी जाना जाता है।          

यह भी पढ़ेंः शर्मनाकः छात्राओं के कपड़े उतरवाकर ली गई तलाशी.. CM दरबार पहुंचा मामला  

 

 

 

 

टेराकोटा के प्रथम प्रधानमंत्री नेहरू भी थे दिवाने    

यह भी पढ़ेंः पोर्न वेबसाइट देखने की है आदत.. तो हो जाइये सावधान! झेलनी पड़ेगी ये परेशानी 

1966 में जवाहरलाल नेहरू ने भी टेराकोटा की मूर्तियों की तारीफ की। मूर्तिकार ने बताया कि औरंगाबाद टेराकोटा का आकर्षण नेहरू को भी खींच लाया था 1966 में वह गोरखपुर आए और रिक्शा से औरंगाबाद गए, जहां टेराकोटा का काम शुरू करने वाले सुखराज से मिले और उनकी कृतियों की तारीफ की। इसके बाद सुखराज ने वहां के स्थानीय लोगों को प्रशिक्षण देना शुरू किया। 

अब औरंगाबाद के घर-घर में टेराकोटा की मूर्तियां बनाई जाती हैं। वहीं  मूर्तिकार ने बताया कि इस वर्ष मिट्टी का दाम बहुत बढ़ गया है 5000 रुपए ट्राली मिट्टी खरीदनी पड़ रही है। ईंधन के दाम भी आसमान छू रहे हैं, इसे विकसित करने के लिए इसका बड़ा बाजार निर्मित होना चाहिए। जिला उद्योग केंद्र कुछ प्रयास कर रहा है, लेकिन प्रयास और बड़े स्तर पर होना चाहिए।  

 

टेराकोटा हस्तशिल्प बनाने वाला मूर्तिकार

 

 

कुम्हारों ने बताया कि 1 ट्रॉली मिट्टी में एक ट्रक सामान तैयार होते हैं और उनकी कीमत एक से डेढ़ लाख रुपए होती है।1 ट्रॉली मिट्टी को गढ़ने में 10 लोग काम करे, तो एक माह का समय लगता है। इसे पकाने में अधिकतम 3 दिन लगता है और न्यूनतम जैसे दीया पकाना है तो मात्र एक ही दिन काफी है। वहीं 60 साल के मूर्तिकार रामजीत प्रजापति का कहना है कि मैं जब 10 साल का था तभी से ये काम करता हूं।        

यह भी पढ़ेंः जम्मू-कश्मीर में अब खड़ा हुआ एक और नया संकट, सड़कों पर फंसे लोग  

 

 

 

टेराकोट हस्तशिल्प का विशेष नमूना

 

यह भी पढ़ेंः पाकिस्तान के साथ खड़ा होना चीन को पड़ रहा है महंगा.. कुदरत की आंखें हुई टेढ़ी  

ये टेराकोटा हस्तशिल्प का काम हाथ का है, इसमें कोई साचे का काम नहीं है। ये सारा काम दिमाग, हाथ- आंख का काम है। कोई भी आधुनिक मशीनों का सहयोग नहीं लिया जाता है ये अपनी चाक को पहले हाथों से और अब मोटर से चला कर इससे मिट्टी को गढ़ लेते हैं। मूर्तिकारों न बताया कि हम घर में सजाने से लेकर हाथी घोड़े कछुए आदि का रूप देकर गमला लटकन देवताओं की मूर्तियां बनाते हैं जिनकी कीमत बाजारू सजावटी चीजों से सस्ती होती हैं।   

(दिवाली विशेष कॉलम में डाइनामाइट न्यूज़ आपके लिए ला रहा है हर दिन दिवाली की नयी खबरें.. दिवाली से जुड़ी खबरों के लिए इस लिंक को क्लिक करें:https://hindi.dynamitenews.com/tag/Diwali-Special )

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)










आपकी राय

Loading Poll …