फतेहपुर: रामगंगा नहर का बांध टूटा.. घर-गांव में भरा पानी, बाढ़ से जन जीवन अस्त-व्यस्त

डीएन संवाददाता

जिले के बिंदकी तहसील में स्थित रामगंगा नहर पर बने बांध से रिसाव के कारण पूरा क्षेत्र जलमग्न हो गया गया है। गांव में बाढ़ की स्थिति बन गयी है और लोगों में भारी दहशत का माहौल है। डाइनामाइट न्यूज़ की एक्सक्लूसिव रिपोर्ट..


फतेहपुर: बिंदकी तहसील में स्थित रामगंगा नहर पर बने बांध से पानी का रिसाव होने के कारण जरारा गांव समेत आस-पास का क्षेत्र जलमग्न हो गया गया है। गांव में बाढ़ की भयंकर स्थिति पैदा होने से लोगों में भारी भय और दहशत का माहौल है। क्षेत्र के कई घरों में पूरी तरह पानी भर चुका है, जिस कारण लोगों को कई तरह के संकट से जूझना पड़ रहा है। इस मामले में प्रशासन की उदासीनता सवालों के घेरे में है। प्रशासन अभी तक मामले को लेकर खामोश है।

यह भी पढ़ें: फतेहपुर में दशहरे को शांतिपूर्ण बनाने के लिए डीएम व एसपी ने कसी कमर, चप्पे-चप्पे को खंगाला 

 

 

जानकारी के मुताबिक जरारा गांव के पास से होकर गुजरने वाली रामगंगा नहर पर बने बांध में बीती देर शाम दरार पड़ गयी, जिससे पूरे क्षेत्र में तेजी के साथ पानी बहने लगा। बांध से भारी मात्रा में पानी के रिसाव से बुधवार सुबह तक जरारा गंव समेत पूरा क्षेत्र लगभग जलमग्न हो गया। बाढ़ का पानी लोगों के घरों तक पहुंच गया। घर-गांव के जलमग्न होने के कारण स्थानीय लोगों के सामने बड़ा संकट खड़ा हो गया है। ग्रामीणों के मवेशियों के सामने भी धीरे-धीरे डूब की स्थिति पैदा होने लगी है।

यह भी पढ़ें: डीएम और भारी सुरक्षा बलों की मौजूदगी में उसरैना की मजार की गयी ध्वस्त 

पानी के तेज बहाव के कारण क्षेत्र में बाढ़ की स्थिति पैदा होने से बच्चे विद्यालय भी नहीं जा सके। किसानों की फसल भी बर्बादी के कगार पहुंच गयी है। बाढ़ के पानी और जलभराव के  कारण ग्रामीणों के सामने संक्रमण बीमारियों का खतरा पैदा हो गया है। लोग बचाव और राहत के लिये स्थानीय प्रशासन का मुंह ताक रहे हैं लेकिन अभी तक किसी ने भी मामले को गंभीरता से नहीं लिया है, जिस कारण लोगों में भारी आक्रोश भी व्यापत है। 

यह भी पढ़ें: फतेहपुर पुलिस ने किया जहरखुरानी गिरोह का पर्दाफाश, पांच कुख्यात लुटेरे गिरफ्तार 

स्थानीय लोगों को कहना है कि सिंचाई विभाग और प्रशासन द्वारा समय-समय पर बांध की सफाई नहीं कराई जाती है, जिस कारण बांध के अंदर बड़ी गंदगी भर जाती है और इससे बांध में रिसाव हो जाता है। कई बार प्रशासन को इस बारे में बताया भी गया लेकिन प्रशासन फिर भी आंखें मूंदे हुए है।
 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार