DN Exclusive: 20 साल का Google कैसे बना दुनिया का सबसे बड़ा सर्च इंजन.. जाने पूरी कहानी

डीएन ब्यूरो

गूगल आज दुनिया का न केवल सबसे बड़ा सर्च इंजन है बल्कि आज के युग में यह हर आदमी की अनिवार्य जरूरत भी बन गया है। इस सर्च इंजन की मदद से हर काम झट से हो जाते है, आखिर गूगल ने कैसे किया यह सब संभव, जाने इसकी एक दिलचस्प कहानी। डाइनामाइट न्यूज़ की एक्सक्लूसिव रिपोर्ट

गूगल कार्यालय (फाइल फोटो)
गूगल कार्यालय (फाइल फोटो)

नई दिल्लीः इंटरनेट 21वीं सदी में अब एक ऐसा माध्यम बन चुका है, जिसके बगैर जिंदगी की कल्पना भी नहीं की जा सकती। घर हो, ऑफिस हो या फिर दोस्तों के साथ.. हर कही हमें इंटरनेट की जरूरत महसूस होती है। सोते हुए, खाते हुए, ड्राइविंग करते हुए यह हमारी आदत में शुमार हो चुका है कि हम अपने मोबाइल, कम्प्यूटर, लेपटॉप व टैबलेट में झट से कुछ भी गूगल सर्च करने लगते है।

जैसे ही हम गूगल में कुछ सर्च करते हैं, तभी झट से संबंधित खोज की इतनी चीजें हमारे सामने होती हैं कि हम कंफ्यूज हो जाते हैं कि इसमें से किसे चुने और किसी छोड़ें। लेकिन क्या कभी सोचा है कि यह सब कैसे इतनी जल्दी झटपट होता है। आइए जानते हैं गूगल से संबंधित हर बारीक जानकारी इस खास रिपोर्ट में..

1. गूगल के लिए  4 सिंतबर का दिन बहुत ही खास है। आज ही के दिन 4 सितंबर 1998 को दुनिया के सबसे लोकप्रिय सर्च इंजन Google की स्थापना कैलिफॉर्निया की स्टैंडफॉर्ड यूनिवर्सिटी से पीएचडी के दो छात्रों लैरी पेज और सर्गेई ब्रिन ने की थी। शुरुआती चरण में इन्होंने गूगल वेबसाइट के लिए स्टैंडफॉर्ड यूनिवर्सिटी की ऑफीशियल वेबसाइट में एक पेज बनाया था।

2. इस सर्च इंजन का नाम गूगल पड़ने के पीछे एक तथ्य यह है कि गणित का एक शब्द Googl है। इस शब्द का मतलब 1 के बाद 100 जीरो से है।

3. इंटरनेट से जुड़ी सेवाएं प्रदान करने वाली गूगल एक अमेरिकन मल्टिनैशल कंपनी है। 15 सितंबर 1997 को गूगल ने अपना डॉमेन रजिस्टर्ड करवाया। लेकिन 1998 में कंपनी ने अपना काम शुरू किया।

4. गूगल का मुख्य कार्यालय अमेरिका के कैलिफॉर्निया शहर के माउंटेन व्यू में स्थित है। गूगल के दुनियाभर में 85,050 कर्मचारी हैं। इसके मुख्यालय को गूगलप्लेक्स के नाम से संबोधित किया जाता है।

5. अब भारतीय सुंदर पिचाई इसके सीईओ है, वहीं रूथ पोराट गूगल इंक की चीफ फाइनेंशियल ऑफिसर(सीएफओ) है।

6. गूगल ने अपनी पेरेंट कंपनी अल्फाबेट को बनाया है, 2 अक्तूबर 2015 को लेरी पेज इसके सीईओ बन गए।

 गूगल से जुड़ी 10 दिलचस्प बातें

1.  गूगल अपना बर्थडे 4 सितंबर को नहीं बल्कि 27 सितंबर को मनाता है। वर्तमान में गूगल पर हर सेकंड 40 हजार सर्च किए जाते हैं।

2.  1998 में गूगल ने अपना पहला डूडल होमपेज बनाया था। लेकिन अब गूगल पूरी दुनिया में दो हजार से भी ज्यादा डूडल होमपेज बदलता है। इसके लिए उसकी एक विशेष टीम 24X7 काम करती है।

3.  गूगल ने 2000 में एडवर्ड्स की शुरुआत की, जो ऑनलाइन एड की सेवा देने वाली सबसे बड़ी कंपनी है। यह टेकस्ट एड, वीडियो एड, और मोबाइल एड की सेवा देती है। इसकी कमाई का मुख्य स्रोत भी विज्ञापन है।

यह भी पढेंः DN Exclusive: आखिर क्यों बार-बार क्रैश हो रहे हैं वायुसेना के विमान, जाने इसके बड़े कारण.. 

4. गूगल ने अब तक 200 कंपनियां खरीदी है। 2010 के बाद से तो गूगल हर हफ्ते औसतन एक नई कंपनी खरीद रहा है।

5. इसने अपने से मिलते- जुलते नाम भी खरीद लिए हैं जैसे- Gooogle.com, Googlr.com, Gogle.com, अगर आप इन पर क्लिक करेंगे तो सीधे होम गूगल होम पेज पर जाएंगे।

6. 2004 में अप्रैल फूल वाले दिन इस गूगल ने Gmail को लॉन्च किया। इसके साथ ही जीमेल डॉटा स्टोर करने के लिए अच्छा-खासा स्पेस भी दिया था। यह अब इसमें भी बहुत से फीचर्स को अपडेट करने में लगा पड़ा है। जिससे की इसका डॉटा स्टोर पहले से और बढ़ गया है।

7. गूगल ने 2004 से 2005 के बीच एक मैप बनाने वाली कंपनी Keyhole को खरीदा था। आज के समय में गूगल सर्च इंजन पर मैप बताने वाली यह कंपनी गूगल मैप के नाम से जानी जाती है। इसमें अर्थ एप के जरिए घर बैठे 360 डिग्री व्यू में किसी भी नए जगह की जानकारी देख सकते हैं।

यह भी पढ़ें: संयुक्त राष्ट्र की मदद से लीबिया ने सैंकड़ों शरणार्थियों को निकाला 

8. गूगल ने 2006 में वीडियो शेयरिंग वेबसाइट यू-ट्यूब को भी खरीद लिया। जिसमें हर मिनट में कई लाख वीडियो अपलोड होते रहते हैं।

9. 2007 में गूगल ने एंड्रायड को भी खरीद लिया। जो वर्तमान में मोबाइल डिवाइस का सबसे अच्छा ऑपरेटिंग सिस्टम माना जाता है।

10. 2016 में गूगल ने गूगल होम की शुरुआत की। इसके जरिए हम घर के सारे इलेक्ट्रिक डिवाइस बोल कर चला सकते हैं। वहीं अपने मन में उठने वाले सवालों को हम गूगल होम में बोलकर भी सर्च कर सकते हैं। यह अपने- आप में अनूठी तकनीक है।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)