बेशर्म थानेदार ने दिखायी एसपी को आंखे.. लाइन हाजिर होने पर कराया सम्मान समारोह

शिवेंद्र चतुर्वेदी

महराजगंज के बरगदवां थाने के लाइन हाजिर एसओ अनिल कुमार ने गजब की बेशर्मी दिखायी है। वो भी ऐसी की जो सुने वो भी शर्मा जाये। अपने काले-कारनामों के बाद लोगों की आंखों में धूल झोंक कर गुमराह करने में माहिर इस दरोगा ने जिले के अनुशासन प्रिय एसपी को भी चिढ़ाने में कोई कोर-कसर नही छोड़ी है। पूरी खबर..

लाइन हाजिर होने के बाद माला पहने दरोगा अनिल कुमार
लाइन हाजिर होने के बाद माला पहने दरोगा अनिल कुमार

महराजगंज: अपने गुनाहों पर पर्दा डालने के लिए झूठ बोलकर उच्च अधिकारियों को गुमराह करने में माहिर बरगदवां के दागी थानाध्यक्ष अनिल कुमार ने अनुशासन की सारी हदें लांघ दी है।

यह भी पढ़ें: डाइनामाइट न्यूज की खबर का एक बार फिर बंपर असर, बरगदवां का घूसखोर एसओ लाइनहाजिर, मुंशी निलंबित 

सम्मान समारोह का दृश्य

यह भी पढ़ें: महराजगंज: बरगदवां के घूसखोर थानेदार का नया पैंतरा.. चोरी और सीनाजोरी 

शनिवार की दोपहर को उसने थाना परिसर में अपने सम्मान में बाकायदे एक सम्मान समारोह आयोजित करा डाला। इसने खूब फूल-मालाएं पहनी और मौजूद लोगों से अपने सम्मान में खूब कसीदे गढ़वाये।

एक साथी को माला पहनाते अनिल कुमार

यह भी पढ़ें: बरगदवां थानेदार घूसकांड मामले में डीजीपी मुख्यालय का बड़ा एक्शन, सीओ नौतनवा करेंगे जांच 

नारायणपुर गांव की एक महिला का मुकदमा इसने ढ़ाई महीने तक कोर्ट के आदेश के बाद भी सिर्फ इसलिए नही लिखा क्योंकि उसने दरोगा को पांच हजार की रिश्वत नही दी। जब डाइनामाइट न्यूज़ पर खबर वायरल हुई तो डीजीपी मुख्यालय हरकत में आ गया और सीओ नौतनवा को जांच सौंप दी। इसके अलावा दो दिन पहले ठूठीबारी से चोरी हुई पिकअप गाड़ी को पकड़ने के लिए एसपी ने तत्काल सघन चेकिंग का आदेश थानेदार को दिया तो वह थाने पर ही बैठा रहा और इसके मुंशी वीरेन्द्र मिश्रा ने वायरलेस पर झूठ बोल दिया कि साहब चेकिंग पर हैं।

अभिवादन स्वीकार करते लाइन हाजिर दरोगा

यह भी पढ़ें: महराजगंजः थानेदार ने की कोर्ट के आदेश की अनदेखी, केस दर्ज करने के लिये महिला से मांगी 5 हजार की घूस 

इसके बाद अनुशासन प्रिय एसपी ने थानेदार को लाइनहाजिर किया और मुंशी को सस्पेंड। 

इतना सब तो गनीमत था लेकिन इसके बाद जो अनिल कुमार ने किया वह सबको हैरान करने वाला कि आखिर वह अपने आप को सबसे बड़ा काबिल औऱ बुद्धिमान क्यों समझते हैं?

क्या उनको किसी का डर नही है? 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार