अमृतसर रेल हादसाः अखिलेश यादव ने जताया गहरा दुख, उठाये सरकार पर सवाल

डीएन ब्यूरो

विजयदशमी पर रावण पुतला दहन में अमृतसर के जोड़ा ट्रेन हादसे में मारे गये मासूम लोगों को लेकर यूपी के पूर्व सीएम और सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने गहरा दुख प्रकट किया है। सपा अध्यक्ष ने हादसे को लेकर सरकार पर सवाल खड़े किये है। डाइनामाइट न्यूज़ की रिपोर्ट में पढ़ें, सरकार को लेकर क्या बोले अखिलेश यादव

घटनास्थल पर पुलिस लाशों को कब्जे में लेते हुए
घटनास्थल पर पुलिस लाशों को कब्जे में लेते हुए

लखनऊः पंजाब के अमृतसर में हुए भीषण रेल हादसे के बाद राजनीतिक दलों ने इसकी निदां की है। बताया जा रहा है कि रावण दहन के दौरान हुये इस हादसे में अब 65 लोग अपनी जान गवा चुके हैं। हादसे को लेकर समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने गहरा दुख व्यक्त किया है।    

 

 

अखिलश यादव ने ट्वीट कर कहा कि यह बड़ी दुर्घटना रेलवे-प्रशासन की बदइंतजामी और लापरवाही का दर्दनाक परिणाम है। यहीं नहीं उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ समेत कई अन्य नेताओं ने भी अपनी अलग-अलग प्रतिक्रिया व्यक्त की है। सभी ने दुर्घटना में मारे गये लोगों के परिजनों के प्रति संवेदनायें प्रकट की है।  

यह भी पढ़ेंः अमृतसर में ट्रेन हादसा, 50 से अधिक की मौत, पंजाब सरकार का 5-5 लाख मुआवजे का ऐलान, सीएम मौके पर रवाना  

 

 

अखिलेश यादव (फाइल फोटो)

 

 

यह भी पढ़ेंः अमृतसर ट्रेन हादसा: 61 लोगों की मौत की जिम्मेदारी से रेलवे ने झाड़ा पल्ला.. दोषी कौन?  

सरकार को इस पर कड़ा संज्ञान लेना चाहिये। उन्होंने यहां विजयदशमी पर ट्रेन की चपेट में आकर जान गवाने वाले लोगों के प्रति गहरा दुख प्रकट किया है। अखिलेश ने कहा कि घायलों को तत्काल उच्चतम स्तर का उपचार उपलब्ध कराना सरकार की नैतिक जिम्मेदारी है।     

 

कार्यक्रम स्थल जहां हुआ हादसा 

 

बता दें कि पंजाब के अमृतसर में हुये इस भीषण हादसे में अब तक 65 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी हैं। वहीं सौ से अधिक लोग घायल बताये जा रहे है। घटनास्थल पर लोगों की भारी भीड़ अब भी अपनों को खोजने में जुटी पड़ी है। यह हादसा जोड़ा फाटक के पास तक हुआ जब पठानकोट से अमृतसर जा रही डेमू ट्रेन ने दस सेकेंड में ही सैकड़ों लोगों को अपनी चपेट में ले लिया था।      

यह भी पढ़ेंः जब हुये ये बड़े रेल हादसे..चारों तरफ मचा था हाहाकार, मची थी चीख-पुकार

 

अपनो को खोने का गम 

 

इस हादसे में मारे गये ज्यादातर लोग उत्तर प्रदेश और बिहार के है। जब रावण का पुतला दहन किया जा रहा था तब रेलवे ट्रैक पर कम से  300 लोग मौजूद थे। यहीं नहीं इस कार्यक्रम में तब पंजाब के डिप्टी सीएम नवजोत सिंह सिद्धू की पत्नी भी मौजूद थी।      

यह भी पढ़ेंः जानिये..अमृतसर रेल हादसा पर क्या बोले नवजोत सिंह सिद्धू

 

घटनास्थल पर रोते बिलखते परिजन

 

उनका भाषण हादसे के दौरान ही चल रहा था जब उन्हें यह पता चला कि लोग पटरी पर ट्रेन की चपेट में आ गये हैं तो वह मौके पर ही कार्यक्रम को छोड़कर चली गई थी। उनके अचानक इस तरह मौके से जाने पर कई राजनीतिक दलों ने अपनी अलग-अलग प्रतिक्रिया दी है। 

 

 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)











आपकी राय

#DNPoll क्या आपको लगता है जनता के असली मुद्दों को लेकर मोदी और राहुल के बीच आमने-सामने की डिबेट होनी चाहिये?