डाइनामाइट न्यूज़ के खबर की वजह से गोरखपुर मेडिकल कालेज का मामला बना राष्ट्रीय मुद्दा

मनोज टिबड़ेवाल आकाश

डाइनामाइट न्यूज़ की खबर ने मचाया कोहराम, विपक्ष ने मासूमों की मौत पर उठाये सवाल, तब हरकत में आयी सरकार

डाइनामाइट न्यूज़ का वह खबर जिसने देश भर में मचाया हड़कंप
डाइनामाइट न्यूज़ का वह खबर जिसने देश भर में मचाया हड़कंप

नई दिल्ली: कल सबसे पहले, देश के सामने डाइनामाइट न्यूज़ ने इस खबर को ब्रेक किया कि गोरखपुर मेडिकल कालेज में 30 बच्चों की मौत, आक्सीजन की सप्लाई ठप होने से हो गयी है। इसके बाद तो मानो भूचाल आ गया। पहले तो किसी ने यकीन ही नही किया कि कैसे आक्सीजन की सप्लाई ठप हो सकती है और इससे 30 से ज्यादा बच्चों की मौत हो सकती है? डाइनामाइट न्यूज़ ने जब राष्ट्रीय फलक पर इस मामले को उठाया तो सोशल मीडिया पर कोहराम सा मच गया। चंद मिनटों के अंदर ही विपक्ष और आम जनता ने इसे बड़ा मुद्दा बना दिया।

यह भी पढ़ें: योगी के शहर के मेडिकल कालेज में 30 मरीजों की सनसनीखेज मौत, खबर सबसे पहले डाइनामाइट न्यूज़ पर

अखिलेश यादव ने किया डाइनामाइट न्यूज़ की खबर को रिट्वीट

यह भी पढ़ें: विपक्ष ने बनाया डाइनामाइट न्यूज़ की खबर को मुद्दा, अखिलेश यादव ने खबर की रिट्टीट

सबसे पहले यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने डाइनामाइट न्यूज़ की खबर को ट्विटर पर रिट्वीट किया। इसके बाद कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और जाने-माने कानूनविद् डा. अभिषेक मनु सिंघवी और पूर्व केन्द्रीय मंत्री जितिन प्रसाद ने डाइनामाइट न्यूज़ की खबर को रिट्वीट कर देश भर में इस ह्दय विदारक खबर को पहुंचा दिया। इसके बाद खबर को दबाने में जुटे गोरखपुर के डीएम राजीव रौतेला और गोरखपुर के मेडिकल प्रशासन की सांसें फूलनी शुरु हो गयी। शासन-सत्ता में बैठे लोगों ने बिना किसी ठोस सबूत के गुमराह करना शुरु कर दिया कि ये मौतें आक्सीजन की कमी के कारण नही हुई हैं। हालांकि आम जनता ने सरकारी झूठ की पोल खोल कर रख दी और प्रशासन अपने लीपा-पोती वाले झूठ के कारण बेनकाब हो गया है।

यह भी पढ़ें: 68 लाख रुपये के कारण हुई गोरखपुर मेडिकल कालेज में 30 मरीजों की दर्दनाक मौत

गोरखपुर मेडिकल कालेज में जिंदगी और मौत से जूझता मासूम

डाइनामाइट न्यूज़ की खबर का असर यह हुआ कि विपक्ष ने रातों-रात इसे राष्ट्रीय मुद्दा बना दिया। सारे टीवी चैनल इस विषय पर डिबेट करते दिखे। रात बीतते-बीतते राज्यसभा में नेता विपक्ष गुलाम नबी आजाद, पूर्व केन्द्रीय मंत्री आरपीएन सिंह, प्रदेश अध्यक्ष राजबब्बर और सांसद प्रमोद तिवारी को साथ लेकर गोरखपुर पहुंच गये और मेडिकल कालेज का दौरा किया। यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने इस ज्वलंत मामले पर प्रेसवार्ता कर राज्य सरकार को कटघरे में खड़ा किया। इसके तत्काल बाद ही बसपा प्रमुख मायावती ने भी प्रेस वार्ता कर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की चुप्पी पर सवाल खड़ा किया। यही नही सरकार में हलचल भी हमारी खबर के बाद ही हुई। भारत सरकार के स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा ने राज्यमंत्री अनुप्रिया पटेल को तत्काल गोरखपुर जाने और समूचे मामले पर रिपोर्ट देने का निर्देश दिया है। डाइनामाइट न्यूज़ इस मुद्दे को लगातार तब तक उठाता रहेगा जब तक इन मौतों के गुनहगारों को सजा नही मिल जाती।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार