पर्यावरण से जारी रहा खिलवाड़ तो भविष्य में दुनिया भुगतेगी ये गंभीर परिणाम

डीएन ब्यूरो

जिस तरह से मनुष्य प्रकृति के साथ खिलवाड़ कर रहा है उससे भविष्य की तस्वीर काफी डरावनी दिख रही है। बात चाहे पश्चिमी देशों की करें या फिर एशिया की पर्यावरण को लेकर कोई भी राष्ट्र सचेत नजर नहीं आ रहा है। अब एक रिपोर्ट से ऐसी चौंकाने वाली सच्चाई सामने आई है जिस पर विश्व ने चिंतन नहीं किया तो भविष्य में इसके गंभीर नतीजे सामने आएंगे। तब मनुष्य के सामने खड़ा होगा ये संकट। डाइनामाइट न्यूज़ की एक्सक्लूसिव रिपोर्ट

फाइल फोटो
फाइल फोटो

नई दिल्लीः 21वीं सदी के इस युग में हर कोई जिंदगी की भागमभाग में लगा पड़ा है। सवा सौ करोड़ वाले भारत में जहां बढ़ती आबादी का बोझ बढ़ रहा है वहीं मनुष्य की आंकाक्षाएं भी असीमित दिख रही है। 

इन सब के बीच बात अगर जीवन जीने की करें तो आज सिर्फ भारत में ही नहीं बल्कि विश्व में हर कोई किसी न किसी बीमारी से पीड़ित नजर आता है। वजह चाहे जो भी हो लेकिन इन सब का जिम्मेवार इंसान ही है। बढ़ती आबादी के चक्कर में इंसान पर्यावरण की तो परवाह करना ही भूल गया है। 

यह भी पढ़ेंः DN Exclusive: जीवनदायी हिमालय से खिलवाड़ नहीं रुका तो भविष्य होगा और मुश्किल

फाइल फोटो

 इस मामले में विकासशील राष्ट्र जहां विकसित बनने के चक्कर में पर्तिस्पर्धा में लगे पड़े हैं वहीं विकसित राष्ट्र खासतौर पर पश्चिमी देशों ने तो पर्यावरण से ऐसा खिलवाड़ किया है अब सब कुछ तबाह होते हुए नजर आ रहा है। यह हम नहीं कह रहे बल्कि एक रिपोर्ट के जरिए इसका पता चला है।

पर्यावरण से खिलवाड़ के भविष्य में ये होंगे नतीजे 

1. ग्लोबल वार्मिंग से किस तरह से जीव-जंतुओं व पर्यावरण से मनुष्य खिलवाड़ कर रहा है यह किसी से अब छुपा नहीं है।

2. पर्यावरण का दोहन अगर ऐसे ही चलता रहा तो एक दिन पूरी दुनिया को इसके भयंकर नतीजे भुगतने पड़ेंगे। यह ऐसा भयावह मंजर होगा जब इंसान अपनी जिंदगी से हाथ धो बैठेगा।

3. एनवायरमेंटल रिसर्च लेटर्स की एक रिपोर्ट के अनुसार अगर यह विश्व ग्लोबल वार्मिंग को लेकर गंभीर नहीं हुआ तो 2070 तक तापमान में असाधारण वृद्धि होगी। जो भी मानव जीवन के लिए बहुत ही घातक होगा।

4. तापमान में इस वृद्धि से तब दुनिया का हर वो इंसान जो सबसे सेहतमंद होगा वह भी महज 6 घंटे ही जी पाएगा। 

5. यह वैज्ञानिक तथ्य है कि किसी भी मनुष्य के लिए 35 डिग्री सेल्यिस से अधिक तापमान घातक हो सकता है।   

यह भी पढ़ेंः DN Exclusive: आखिर क्यों मौत को गले लगा रहे हैं भारत के लोग..जानिये दर्दनाक हकीकत

6. ग्लोबल वार्मिंग  से 2070 तक  इसकी फ्रीक्वेंसी 100 से 250 गुना तक बढ़ जाएगी। इससे मनुष्य के अंदर गर्मी घटाने की शरीर की क्षमता बहुत कम हो जाएगी।

फाइल फोटो

7. तापमान के बढ़ने से मनुष्य के शरीर में पानी की कमी होगी और वह ऐसे वातावरण में ज्यादा देर तक जीवन नहीं जी पाएगा।

8. तापमान में बढ़ोतरी से समुद्र का जल स्तर 13 फीसदी बढ़ जाएगा वहीं पृथ्वी का तापमान 6 डिग्री सेल्सियस बढ़ेगा। जो की काफी भयावह होगा।

यह भी पढ़ेंः मानसिक फिटनेस के लिये जरूरी खाद्य पदार्थों का करें इस्तेमाल, बढ़ाएं याद्दाश्त

9. वेट बल्ब तापमान के 35 डिग्री तक पहुंचने से पश्चिमी देशों समेत एशिया जिसमें भारत 10वें नंबर पर रहेगा और इससे देश को सर्वाधिक नुकसान पहुंचेगा। 

10. ज्यादा गर्मी पड़ने से खेत सूख जाएंगे और महाराष्ट्र और कोलकाता को इससे ज्यादा नुकसान पहुंचेगा। तब जंगलों में रहने वाले जीव-जंतुओं की प्रजातियां इससे विलुप्त हो जाएंगी।
 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार