महराजगंज: खराब खाना मिलने पर भड़के छात्र, आधीरात को विद्यालय परिसर में जमकर काटा बवाल

डीएन ब्यूरो

गुरुवार रात को जवाहर नवोदय विद्यालय महराजगंज के छात्रों ने खराब खाना मिलने पर जमकर हंगामा काटा। साथ ही रसोई में पड़ी चीजों को भी जलाया गया। विरोध में सैकड़ों छात्र बाहर निकल आए। मौके पर पहुंची पुलिस ने छात्रों को शांत करवाने की कोशिश भी की, लेकिन छात्र नहीं मानें। पढ़ें डाइनामाइट न्यूज़ पर पूरी खबर..


महराजगंज: जवाहर नवोदय विद्यालय में गुरुवार की आधी रात को छात्रों ने खराब खाना को लेकर विद्यालय परिसर में खूब जमकर बवाल काटा। साथ ही रसोई में रखे सामानों को भी जला दिया। आग को रोकने के लिए शिक्षकों को दौड़कर जाना पड़ा। हंगामे की सूचना मिलने पर मौके पर पहुंची पुलिस।

यह भी पढ़ें: डाइनामाइट न्यूज़ यूपीएससी कॉन्क्लेव में दिखी महिला सशक्तिकरण की झलक, पहुंची तीन वर्षों की महिला टॉपर्स, राष्ट्रपति के सचिव रहे मुख्य अतिथि

मौके पर पहुंच कर पुलिस ने छात्रों को समझाने की कोशिश की, लेकिन छात्रों ने हंगामा जारी रखा और रात तक खाना नहीं खाया। इस मामले में छात्रों का कहना है कि उन्हें आए दिन खराब खाना मिलता है, कई बार इसकी शिकायत भी की जा चुकी है। हर बार उन्हें बैठक करके समस्या को दूर करने का आश्वासन दिया जाता है, लेकिन कभी इसका कोई समाधान नहीं निकाला गया। इसे लेकर छात्रों के अंदर कई दिनों से गुस्सा पनप रहा था। गुरुवार की देर रात छात्रावासों से निकले छात्र उग्र प्रदर्शन करने लगे। परिसर में रखे फूस और बेकार सामानों के ढेर में आग लगा दिया। वहीं परिसर में बैठकर विरोध प्रदर्शन शुरू कर दिया। छात्रों के तेवर देख शिक्षक भी कुछ करने की स्थिति में नहीं दिख रहे थे।

 यह भी पढ़ें: राष्ट्रपति के सचिव संजय कोठारी ने कहा- आईएएस की परीक्षा में विषयों का सही चयन बेहद जरुरी

हंगामा कर रहे छात्रों ने विद्यालय प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। छात्रों ने बताया कि खाने में कीड़ा निकलता है, चावल कच्चा रहता है। अन्य नवोदय विद्यालयों में नॉनवेज भी खाने में दिया जाता है, लेकिन यहां नॉनवेज की बात दूर भोजन की गुणवत्ता बेहद खराब है। यह हर दिन का सिलसिला है। छात्रों का आरोप है कि खाने में लाल मिर्च का इस्तेमाल बहुत ज्यादा किया जाता है। इससे कई बच्चे पाइल्स के मरीज हो चुके हैं। जब बच्चे यहां पढ़ने आए तो उनकी आंखें ठीक थीं, लेकिन खराब खाना मिलने से दर्जनों छात्र चश्मा पहनने को मजबूर हो गए हैं।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)













संबंधित समाचार