पाकिस्तानी रुपया डॉलर के मुकाबले 147 तक गिरा, आईएमएफ से बनी पैकेज की बात

डीएन ब्यूरो

अंतरराष्‍ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) के साथ 6 अरब डॉलर के राहत पैकेज पर शुरुआती सहमति बनने के चार दिन बाद पाकिस्तान रुपया डॉलर के मुकाबले अपने सबसे निचले स्तर पर आ गया है। शुक्रवार को पाकिस्तानी रुपया डॉलर के मुकाबले 147 रुपए प्रति डॉलर पर आ गया। इससे पहले रुपया इसी सप्ताह 141 प्रति डॉलर पर आया था।

इमरान खान और आईएमएफ प्रमुख क्रिश्‍चियन लेगार्ड
इमरान खान और आईएमएफ प्रमुख क्रिश्‍चियन लेगार्ड

इस्‍लामाबाद: पाकिस्‍तान की आर्थिक हालत दिनों दिन बदतर होती जा रही है। पाकिस्‍तान में डॉलर के मुकाबले पाकिस्तानी रुपया अपने अभी तक के सबसे निचले स्तर पर आ गया है। पाकिस्तानी रुपया डॉलर के मुकाबले 147 रुपये प्रति डॉलर हो गया है। इससे पहले रुपया इसी सप्ताह 141 प्रति डॉलर पर आया था। पाकिस्तान के एक बड़े अर्थशास्त्री ने इसके 250 तक गिरने की आशंका जताई है।

यह भी पढ़ें: हाफिज सईद का साला अब्दुल रहमान मक्की गिरफ्तार, मुंबई हमले में है मास्‍टरमाइंड

वहीं पाकिस्‍तान की अर्थव्‍यवस्‍था को राहत देने के लिए अंतरराष्‍ट्रीय मुद्रा कोष ने पिछले सप्‍ताह ही 6 अरब डालर के राहत पैकेज को मंजूर करने की हामी भरी है। उसके कुछ दिन बाद ही पाकिस्‍तानी रुपये की यह हालत पाकिस्‍तान के लिए बेहद ही चिंताजनक स्थिति है। 

यह भी पढ़ें: वायुसेना को मिला पहला अपाचे हेलीकॉप्टर, चीन-पाक सीमा पर होगी तैनाती

वहीं पाकिस्‍तान के कई अर्थशाष्‍त्री बेलआउट पैकेज को कर्ज का दुष्‍चक्र बता रहे हैं। उनका मानना है कि यह एक तरह का दुष्चक्र है, आगे चलकर पाकिस्तान को दोबारा आईएमएफ से कर्ज लेना पड़ेगा और अर्थव्यवस्था को स्थाई तौर पर कोई राहत मिलने वाली नहीं है। इस कर्ज से अर्थव्यवस्था को कोई स्थ‍िरता तो मिलेगी नहीं, बल्कि आर्थिक तरक्की के मोर्चे पर ही पाकिस्‍तान और अधिक पिछड़ जाएगा।

यह भी पढ़ें: अमेरिकी हवाई हमले से साेमालिया में इस्‍लामिक स्‍टेट के 13 आतंकवादी ढेर

गौरतलब है कि पाकिस्तान असेंबली के आंकड़े कहते हैं कि फिलहाल पाकिस्तान पर कुल विदेशी ऋण का बोझ 88.199 बिलियन डॉलर तक पहुंच गया है जो आईएमएफ के कर्ज के बाद और बढ़ेगा।

यह भी पढ़ें: भारतीय विदेश मंत्रालय का प्रेस कांफ्रेस: भारत का एक मिग-21 विमान हुआ ध्वस्त, एक पायलट लापता, जांच जारी..

वहीं दूसरी ओर भारत के विश्‍वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) ने छात्रों को चेतावनी दी है कि वो पाक अधिकृत जम्‍मू कश्‍मीर (पीओके) के संस्‍थानों में दाखिला न लें। यह भारत का अभिन्‍न अंग है और पाकिस्‍तान के नियंत्रण में है।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)










आपकी राय

Loading Poll …