CM आवास पर मची खलबली,महिला ने बेटियों के साथ खुद पर छिड़का तेल..पुलिसवालों के फुले हाथ-पांव

डीएन संवाददाता

रायबरेली से आई एक महिला ने सीएम आवास के बाहर आत्मदाह की कोशिश की कोशिश की। हालांकि वहां पर मौजूद सुरक्षा कर्मियों ने समय रहते उसे ऐसा करने से रोक दिया। डाइनामाइट न्यूज की स्पेशल रिपोर्ट में जानिये महिला ने क्यों किया आत्मदाह का प्रयास..


 लखनऊ: राजधानी गौतमपल्ली थाना क्षेत्र के पांच कालिदास मार्ग स्थित सीएम योगी के सरकारी आवास के बाहर रायबरेली से आई एक सुनीता सिंह नाम की महिला ने 2 बेटियों के साथ मिट्टी का तेल डालकर आत्मदाह का प्रयास करने लगी। लेकिन वहां पर मौजूद पुलिस कर्मियों रोक लिया। पुलिस ने महिला को इलाज के सिविल अस्पताल में भर्ती कराया है।

 

 

महिला का आरोप है कि भाजपा के नेता आरबी सिंह और ब्लॉक प्रमुख के द्वारा उसके परिवार के कई लोगों की हत्या की गई है। बहन कुमारी वैशाली सिंह की गैंग रेप के बाद आत्महत्या 18-6-18 को कर ली थी। भाई अजीत प्रताप सिंह की हत्या एफ आई आर दर्ज नहीं की गई। महिला ने आरोप लगाया कि भाजपा कार्यकर्ताओं के द्वारा मां का गैंग रेप करके जिंदा जलाया, पिता की हत्या कर दी गई। पीड़िता इस पूरे मामले की सीबीआई जांच कराई जाने की मांग कर रही है।

यह भी पढ़ें: UP: बिल्डर ने 5 हजार घर खरीदारों का निकाला दिवाला.. 120 करोड़ रुपये हड़पे

महिला का कहना है कि सभी अधिकारी  सत्ताधारी पार्टी से मिले हुए हैं, जिनकी वजह से मेरी सुनवाई नहीं हो रही है और मेरी जान को खतरा है आए दिन मुझे प्रताड़ित किया जा रहा है। वहीं महिला ने मांग की है कि प्राण रक्षा में मुझे वह दोनों बच्चियों को पुलिस सुरक्षा दी जाए नहीं तो मेरी भी हत्या हो सकती है। वहीं महिला ने बताया कि झूठे आरोप में जेल में बंद मेरे छोटे भाई अजय प्रताप सिंह उर्फ डब्लू सिंह को हाई सिक्योरिटी सीसीटीवी में रखते हुए उन्हें तारीख की पेशी पर कड़ी सुरक्षा के बीच ले जाया जाए नहीं तो मेरे भाई की भी हत्या हो सकती है। 

यह भी पढ़ें: आधी रात को एसएसपी निकले लखनऊ की सड़कों पर, पुलिस वालों की उड़ी नींद 

सीओ अभय कुमार मिश्रा ने बताया है जो महिला आत्मदाह का प्रयास कर रही थी उसे वहां पर मौजूद पुलिस कर्मियों के द्वारा बचा लिया गया है।  प्राथमिक उपचार के लिए सिविल अस्पताल में ले जाया गया है। इस मामले में संबंधित जनपद को सूचित कर दिया गया है। पुलिस मामले की जांच कर रही है।
 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार