Uttar Pradesh: राकेश पाण्डेय एनकाउंटर केस में मानवाधिकार आयोग ने यूपी पुलिस से मांगा जबाब

डीएन ब्यूरो

राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने राकेश पाण्डेय एनकाउन्टर मामले में उत्तर पुलिस से जबाब तलब किया है। इस एनकाउंटर की जांच के लिये एक याचिका भी दायर की गयी है। डाइनामाइट न्यूज रिपोर्ट..

सांकेतिक तस्वीर
सांकेतिक तस्वीर

लखनऊ: यूपी की राजधानी लखनऊ के सरोजिनी नगर इलाके में विधायक कृष्णानंद राय हत्याकांड केस के आरोपी राकेश पांडेय के गत दिनों हुए एनकाउंटर का मामला तूल पकड़ने लगा है। राकेश पाण्डेय एनकाउन्टर मामले में अब राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने यूपी पुलिस से 6 सप्ताह के अंदर जबाब देने को कहा है।

यह भी पढ़ें..Encounter in Lucknow: UP STF ने 1 लाख के इनामी बदमाश राकेश पांडे को किया ढेर, BJP नेता की हत्या समेत कई मामलों में था वांछित 

राकेश पांडेय के एनकाउंटर को लेकर राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने उत्तर प्रदेश के डीजीपी को इस बारे में नोटिस भेजा है, जिसमें इस मुठभेड़ की सत्यता को लेकर पुलिल पर उठ रहे सवालों के संबंध में जबाब तलब किया गया है। इस मुठभेड़ को लेकर आयोग के पास भी शिकायत दर्ज कराई गयी थी, जिसके बाद आयोग ने यूपी पुलिस से 6 हफ्ते के अंदर जबाव मांगा है।

 मुठभेड़ में मारे गए मुख्तार अंसारी गैंग के इनामी बदमाश राकेश पांडेय उर्फ हनुमान के पिता बालदत्त पांडेय ने भी पुलिस की कार्रवाई पर सवाल उठाए हैं। सुप्रीम कोर्ट में एनकाउंटर की जांच के लिए आयोग बनाने के लिए याचिका दायर की गई है।

सुप्रीम कोर्ट के वकील विशाल तिवारी की ओर से दायर याचिका में एनकाउंटर की जांच के लिए तीन सदस्यीय कमीशन बनाने की मांग की गई है। याचिका में पुलिस की कार्रवाई पर प्रश्न चिह्म लगाया गया है और एनकाउंटर में हुए ऑपरेशन की जांच की मांग की गई है।

8 अगस्त को लखनऊ में मुठभेड़ में मारा गया राकेश पांडेय मूल रूप से मऊ के कोपागंज का रहने वाला था। वह मुख्तार अंसारी गैंग का शार्प शूटर होने के साथ ही मुख्तार का सबसे भरोसेमंद आदमी भी था। 








संबंधित समाचार