वाराणसी से प्रधानमंत्री के खिलाफ ताल ठोंकने वाले सपा प्रत्‍याशी तेज बहादुर यादव का नामांकन खारिज

डीएन ब्यूरो

तेज बहादुर यादव ने पहले निर्दलीय और बीते दिन सपा के चुनाव चिह्न पर अपना नामांकन दाखिल किया था। उनके नामांकन के बाद सोशल मीडिया में प्रधानमंत्री को टक्‍कर मिलने की उम्‍मीद जताई जा रही थी। साथ ही उनके प्रत्‍याशी बनने को प्रियंका गांधी वाड्रा के पैर पीछे खींच लेने के साथ जोड़कर कांग्रेस पर टिप्‍पणी की जा रही थी।

तेज बहादुर यादव (फाइल फोटो)
तेज बहादुर यादव (फाइल फोटो)

वाराणसी: लोकसभा चुनाव का पांचवा चरण जैसे जैसे नजदीक आते जा रहा है वैसे-वैसे खबरों से राजनीतिक गर्मी भी बढ़ती जा रही है। बीते दिन जहां चौकीदार चोर है मामले में कांग्रेस की माफी वहीं आज देश की सबसे अधिक वीआईपी सीट वाराणसी से सपा प्रत्‍याशी तेज बहादुर यादव का पर्चा खारिज होने पर राजनीतिक मौसम में ताजी बयार आ गई।

तेज बहादुर यादव का नामांकन बुधवार की दोपहर बाद 3.35 बजे जिला निर्वाचन अधिकारी ने नामांकन रद कर दिया गया। निर्वाचन कार्यालय से बाहर आकर इस बात की जानकारी स्‍वयं सपा प्रत्‍याशी तेज बहादुर यादव ने दी। उन्‍होंने कहा कि वह इस फैसले से संतुष्‍ट नहीं हैं और न्‍यायालय का दरवाजा खटखटाएंगे। 

रायबरेली में आज प्रियंका ने भाजपा को हराने की रणनीति का किया खुलासा

गौरतलब है कि जिला निर्वाचन अधिकारी ने उन्हें नोटिस जारी कर एक मई को सुबह 11 बजे तक मोहलत देते हुए जवाब मांगा गया था। वहीं इसके लिए तेज बहादुर के उम्‍मीदवारी फार्म को वैध कराने के लिए सपा कार्यकर्ता अधिकारियों से संपर्क में लगातार बने रहे। 

बाँदा में अखिलेश यादव बोले-भाजपा सरकार से सिर्फ जनता ही नहीं, जानवर भी परेशान हैं

दोपहर तक चली जांच पड़तात के बाद तकरीबन साढ़े तीन बजे नामांकन पर फैसला हुआ। सपा प्रत्‍याशी तेजबहादुर यादव ने  खुद जिला निर्वाचन कार्यालय से बाहर निकल कर उम्‍मदवारी पर्चे को रद किए जाने की खबर मीडिया को दी। जिससे सपा कार्यकर्ताओं को निराशा हुई।

मुजफ्फरपुर: पीएम मोदी का विपक्ष पर निशाना- जो बेल पर हैं उन्‍हें भी जेल भेजूंगा

नामांकन रद होने पर पीएमओ पर लगाया आरोप

उम्‍मीदवारी खारिज होने पर तेज बहादुर ने कहा कि बीएसएफ की ओर से चुनाव आयोग को पत्र दिया जा चुका है कि अनुशासनहीनता के आरोप में उनकी बर्खास्‍तगी की गई है। जिसके आधार पर उन्‍हें चुनाव लड़ने से नहीं रोका जा सकता है। वहीं उन्‍होंने आरोप लगाया कि यह सब पीएमओ के इशारे पर किया जा रहा है।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार