प्रशासनिक नादानी से जितेन्द्र यादव हत्याकांड में बढ़ा बवाल, लाश सड़क पर रख चक्का जाम, उग्र प्रदर्शन, एसपी मौके से लापता

डीएन ब्यूरो

महराजगंज जिले के जितेन्द्र यादव हत्याकांड में मृतक की पत्नी की ओर से दी गयी तहरीर को पुलिस द्वारा बदलकर मुकदमा दर्ज किये जाने से ग्रामीणों का गुस्सा फूट पड़ा है। आरोप है कि पुलिस सत्तारुढ़ पार्टी के एक विधायक को बचाने के लिए झूठी तहरीर दर्ज कर गुमराह कर रही है। झूठी बात कह रही है कि अभियुक्तों को गिरफ्तारी की गयी है। इन सबके बीच विवाद के स्थल से पुलिस अधीक्षक रोहित सिंह सजवान लापता है। भारी फोर्स की मौजूदगी में ग्रामीणों का उग्र प्रदर्शन और नारेबाजी जारी है। मौका-ए-वारदात से डाइनामाइट न्यूज़ की एक्सक्लूसिव रिपोर्टिंग:


महराजगंज: पुलिस प्रशासन की भंयकर नादानी से महराजगंज जिला बड़े बवाल के मुहाने पर खड़ा हो गया है। बड़े बवाल के समय जिले के पुलिस विभाग के मुखिया रोहित सिंह सजवान विवाद के स्थल से गायब हो गये हैं। 

यह भी पढ़ेंः लुका-छिपी के खेल के बाद जितेन्द्र यादव हत्याकांड में FIR पर से उठा पर्दा, ये लोग बने मुजरिम

 

यह भी पढ़ेंः पंचायती चुनाव से पहले महराजगंज में हत्याओं का दौर शुरु, पुलिस के बड़े अफसरों की भूमिका पर उठे सवाल

 

यह भी पढ़ेंः महराजगंज की बड़ी ख़बर- हिस्ट्रीशीटर अनिल गुप्ता पर प्रशासन ने कसा शिकंजा, भेजा जेल
महिला जिला पंचायत सदस्य अमरावती देवी के पुत्र जितेन्द्र यादव पर ताबड़तोड़ गोलियां बरसाकर कल उनकी हत्या कर दी गयी थी। इस हत्या में भाजपा के एक विधायक का नाम परिजन ले रहे हैं। इसके बाद से पुलिस का खेल शुरु हो गया है। दो महीने पहले भी जितेन्द्र पर जानलेवा हमला हुआ था लेकिन पुलिस ने नादानी करते इस पर कोई ध्यान नहीं दिया। अब बीच सड़क पर लाश रख ग्रामीण उग्र प्रदर्शन कर रहे हैं।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार